scriptMNREGA scheme: 41 workers deteriorate, sarpanches raise their voice | मनरेगा योजना: 41 श्रमिकों की तबीयत बिगड़ी, सरपंचों ने बुलंद की आवाज | Patrika News

मनरेगा योजना: 41 श्रमिकों की तबीयत बिगड़ी, सरपंचों ने बुलंद की आवाज

locationबस्सीPublished: Jul 18, 2020 11:11:23 pm

Submitted by:

Surendra Singh

जयपुर ग्रामीण के शाहपुरा, विराटनगर, जमवारामगढ़, मैड़, आंतेला, नारहेड़ा, कानोता की घटना

 

 

 

MNREGA scheme: 41 workers deteriorate, sarpanches raise their voice X MNREGA scheme X MNREGA scheme news X MNREGA scheme rajasthan X rajasthan top news in hindi X Rajasthan Manrega X
मनरेगा योजना: 41 श्रमिकों की बिगड़ी तबीयत, सरपंचों ने बुलंद की आवाज
आंतेला. जयपुर ग्रामीण के आधा दर्जन कस्बों में शनिवार को भीषण गर्मी के कारण 41 मनरेगा श्रमिकों की तबीयत बिगड़ गई। ग्राम पंचायत किशनपुरा में मनरेगा कार्य में लगे श्रमिकों ने शनिवार सुबह कार्य का बहिष्कार कर प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन किया। उन्होंने मनरेगा कार्य का समय पूर्व की भांति सुबह 6 से दोपहर 1 बजे तक करने की मांग की। कनिष्ठ लिपिक ने उच्चाधिकारियों को अवगत कराने का आश्वासन देकर मामला शान्त कराया।
ग्राम पंचायत किशनपुरा में मनरेगा कार्य में लगे करीब 80 श्रमिक शनिवार सुबह कार्य का बहिष्कार कर पंचायत मुख्यालय पर मनरेगा कार्य का समय बदलने की मांग की। श्रमिकों ने बताया कि 15 जुलाई से मनरेगा कार्य का समय सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक कर दिया, जबकि पूर्व में मनरेगा कार्य का समय सुबह 6 बजे से दोपहर 1 बजे तक कर रखा था। उन्होंने बताया कि भीषण गर्मी में मनरेगा का समय बढ़ाने से आए दिन श्रमिकों की तबीयत बिगड़ रही है। पंचायत कनिष्ठ लिपिक सुभाष चंद को विकास अधिकारी के नाम ज्ञापन सौंपा तथा मनरेगा कार्य का समय बदलने की मांग की। कनिष्ठ लिपिक ने बताया कि भीषण गर्मी के चलते मदन धोबी, सेढी देवी, कमला सहित तीन श्रमिकों की तबीयत बिगड़ गई थी। बाद में स्थानीय आयुर्वेद्ध औषधालय में श्रमिकों का उपचार कराया। जमवारामगढ़ और कानोता में 6 श्रमिकों की तबीयत बिगड़ गई।
मैड़. ग्राम पंचायत भामोद केकू कड़ेला गांव में 5 श्रमिक चक्कर और पेट दर्द होने पर बेहोश होकर गिर पड़े। सरपंच लक्ष्मी कंवर ने बताया कि भीषण गर्मी के चलते कार्य के दौरान सीता देवी, अनोखी देवी, प्रेम देवी, सुनीता देवी, की अचानक तबीयत बिगडऩे पर बलेसर पीएचसी में उपचार करवाया। वहीं नोरंगपुरा पंचायत में गिरेंद्र सिंह ने बताया कि श्रमिक कलावती देवी, भंवरी देवी, प्रेम देवी, मालीराम रेगर, कैलाश बुनकर, चौथमल बेहोश होकर गिर पड़े। ग्राम पंचायत पूरा वाला के श्यामपुरा गांव में नदी का कार्य स्थल पर श्रमिक बंसी , मोहनलाल, तीजा देवी, खामोशी देवी, सावित्री, कैलाशी, कमली देवी की तबीयत बिगड़ गई।

नारहेड़ा. ग्राम पंचायत खड़ब के पीली जोहड़ में चल रहे मनरेगा कार्य में शनिवार को तेज धूप व उमस भरी गर्मी की वजह से 5 महिला श्रमिकों की अचानक तबीयत बिगड़ गई। समाजसेवी बाबूलाल मीणा ने बताया कि चक्कर आने से गिरी 5 महिला श्रमिकों को नारहेड़ा सीएचसी में उपचार करवाया। मनरेगा मेट राकेश ने बताया कि गीता देवी, दुर्गा देवी, सावित्री देवी कुमावत, मीरा देवी व सावित्री देवी मीणा आदि महिला श्रमिकों की तबीयत खराब हो गई थी। उपचार के बाद सुधार है। महिला श्रमिकों का कहना है कि मनरेगा समय बदलने से गर्मी में सब बेहाल है। उन्होंने पहले वाले समय की मांग की।
विराटनगर. भीषण गर्मी और उमस के बीच मनरेगा कार्य का समय परिवर्तन श्रमिकों के लिए जी का जंजाल बन गया है। शनिवार को ग्राम पंचायत सोठाना में दो अलग-अलग स्थानों पर चल रहे मनरेगा कार्य पर करीब आधा दर्जन श्रमिकों की तबीयत खराब हो गई। सरपंच सुशीला देवी व पूर्व सरपंच लालचंद शर्मा ने बताया कि सोठाना के पीली का जोहडा में चल रहे मनरेगा कार्य पर गर्मी के कारण श्रमिक दाता राम गुर्जर, नरेन्द्र शर्मा, ब्रजेश शर्मा, छोटू खां को उल्टी, चक्कर, पेट दर्द की शिकायत हो गई। उनका पापड़ी के आयुर्वेद चिकित्साल्य में उपचार कराया। पीर बाबा के जोहड़ा मंे शिंभू दयाल, माना देवी, फूली देवी, मनभा देवी की तबीयत बिगडऩे पर विराटनगर चिकित्साल्य लाया गया। सरपंच ने बताया कि समय बदलने से दोपहर में धूप में कार्य करना मुश्किल हो गया है। ग्राम पंचायत जवानपुरा एवं रामपुरा में मनरेगा मजदूरों ने कार्य का समय परिवर्तन करने की मांग को लेकर ग्राम पंचायतों के सरपंचों को ज्ञापन सौंपा। जवानपुरा सरपंच जयराम जाट एवं रामपुरा सरपंच विनोद देवी, बीलवाड़ी सरपंच लक्ष्मी देवी सिंधू ने मुख्यमंंत्री को ज्ञापन भेजकर समय सुबह 6 से 1 तक ही रखने की मांग की है। मजदूरी कम मिलने के साथ बीमार होने की शिकायतें बढ़ी है।
शाहपुरा. बाडीजोडी ग्राम पंचायत में बांध खुदाई कार्य के दौरान दो मनरेगा श्रमिकों की तबीयत बिगड़ गई। सहायक विकास अधिकारी हजारी लाल कुलदीप ने बताया कि तेज धूप के कारण मनरेगा श्रमिक मुन्नी देवी रैगर व हेमराज सैनी को चक्कर और उल्टी की शिकायत पर साईवाड़ पीएचसी में उपचार करवाया। यहां मनेरगा कार्यस्थल पर छाया की व्यवस्था भी नहीं है।

ट्रेंडिंग वीडियो