scriptWhoever shows his eye, we will take out his eye - Dr. Arvind Bhadauria | जो आंख दिखाएगा, उसकी जो आंख दिखाएगा उसकी आंख निकाल लेंगे- डॉ. अरविंद भदौरिया | Patrika News

जो आंख दिखाएगा, उसकी जो आंख दिखाएगा उसकी आंख निकाल लेंगे- डॉ. अरविंद भदौरिया

locationभिंडPublished: Jan 16, 2024 10:03:06 pm

Submitted by:

Ravindra Kushwah

विधानसभा चुनाव में अटेर से पराजित होने के बाद मप्र शासन के पूर्व सहकारिता एवं लोक सेवा प्रबंधन मंत्री डॉ. अरविंद सिंह भदौरिया ने मकर संक्रांति मिलन के बहाने अपने विरोधियों पर जमकर निशाने साधे। समर्थकोंंं को आश्वस्त किया कि हम चुनाव हारे हैं, जिंदगी नहीं। मप्र मेें सरकार हमारी है, इसलिए निडर रहें। कलम से नहीं फंसें बाकी हम देख लेंगे। हमारे कार्यकर्ताओं को जो आंख दिखाएगा, उसकी आंख निकाल लेंगे।

डॉ. अरविंद सिंह भदौरिया का मकर संक्रांति मिलन
समर्थकों को संबोधित करते पूर्व मंत्री।
भिण्ड. मीरा कॉलोनी स्थित अपने निवास पर डॉ. भदौरिया ने कहा कि आप ही हमारे परिवार हैं, आप ही हमारी आत्मा की आवाज और हिम्मत हैंं। हम वह दिन कभी नहीं भूलते दिन और रात हमारे साथ खड़े हैं। चुनाव में जितनी विरोधी ताकतें हो सकती हैं, वे सभी जी-जान लगाकर एक हो गए। विरोधी नेताओंं को सांप, नेवले, बिच्छू, केंकड़े, छंछूदर, षडय़ंत्रकारी, बदमाश, राजनीतिक रूप से बदमाश, पार्टी में रहकर गद्दारी करने वाले लोग, सब कांग्रेस के साथ हाथ मिलाए खड़े थे। उन्हें लग रहा था कि डॉ. अरविंद भदौरिया जीत तो राजनीतिक रूप से अजर-अमर हो जाएंगे। इसका मतलब क्षेत्र के विकास का अजर-अमर होना था। आजादी के बाद अटेर में हमने जितने काम करवाए, किसी ने नहीं करवाए। इसलिए षडय़ंत्रकारियों ने हरवाया, कई अन्य दलों से लड़े लोग भी इसमें शामिल रहे। हमने पांच साल में अन्याय-अत्याचार न किया, न करने दिया। चुनाव में हारजीत चलती रहती है, हार का कष्ट नहीं है। इससे बड़ा विरोध जिंदगी में कभी नहीं हो सकता, लोगों को इंतजार था कि अरविंद हारेंगे तो हमारा नंबर आ जाएगा।
तीन करोड़ तक में बिके लोग हमको हराने
विरोध पैसों से बिके, कोई तीन करोड़ में, कोई एक करोड़, कोई 80 लाख और कोई 20 लाख में बिका, जिसकी जैसी औकात थी वैसा विपक्ष में बिके। लेकिन आप निश्चिंत रहो, सरकार भाजपा की है। प्रदेश के मुख्यमंत्री चाहे शिवराज सिंह रहे हों या आज डॉ. मोहन यादव हैं, हमको विशेष प्रेम रहता है। हमारे मुख्यमंत्री भी रखते हैं। हमारा विधायक मंत्री आप ही हैं, कोई आंख उठाकर देखेगा तो आंख निकाल देंगे। अपने काम लेकर आना, दुनियादारी के काम लेकर मत आना, बाद में वे छोड़ देते हैं।
पहले छेडूंगा नहीं, छेड़ा तो छोड़ेंगे नहीं
नेता प्रतिपक्ष हेमंत कटारे का नाम लिए बिना उनके भाई योगेश कटारे पर निशाना साधते हुए कहा कि बड़े लोगों से टकराओ, गरीबों पर अत्याचार कर रहे हैं। टोल कर्मचारियों के साथ मारपीट का जिक्र करते हुए कहा कि एफआईआर हुई है, कानून का राज है। कोई बचेगा नहीं। पहले किसी को छेडूंगा नहीं और कोई छेड़ेगा उसे छोड़ूंगा नहीं। इस बीच भीड़ में कुछ लोग बोले कि अटेर का थानेदार दबाव में आकर काम करता है। इस पर डॉ. भदौरिया ने कहा कि परमात्मा का पावर और जनता का पावर है हमारे पास। 50 हजार वोट आए हैं, विषम परिस्थितियों में। पूर्व विधायक मुन्ना सिंह पर निशाना साधते हुए कि जीत का भरोसा दिलाकर सपा से टिकट लाए और 10 हजार वोट पर सिमट गए। वे जीतने के लिए नहीं हराने के लिए लड़े थे। इन विषम परिस्थितियों में जो लोग हमारे साथ हैं। कोई परेशान करेगा तो देे-दे लाठी कमर तोड़ देंगे। भीड़ में से इस पर कुछ लोग बोले फोन उठाते रहना, यहां के लोग विकास नहीं चाहते हैं।
पहले छेडूंगा नहीं, छेड़ा तो छोड़ेंगे नहीं
नेता प्रतिपक्ष हेमंत कटारे का नाम लिए बिना उनके भाई योगेश कटारे पर निशाना साधते हुए कहा कि बड़े लोगों से टकराओ, गरीबों पर अत्याचार कर रहे हैं। टोल कर्मचारियों के साथ मारपीट का जिक्र करते हुए कहा कि एफआईआर हुई है, कानून का राज है। कोई बचेगा नहीं। पहले किसी को छेडूंगा नहीं और कोई छेड़ेगा उसे छोड़ूंगा नहीं। इस बीच भीड़ में कुछ लोग बोले कि अटेर का थानेदार दबाव में आकर काम करता है। इस पर डॉ. भदौरिया ने कहा कि परमात्मा का पावर और जनता का पावर है हमारे पास। 50 हजार वोट आए हैं, विषम परिस्थितियों में। पूर्व विधायक मुन्ना सिंह पर निशाना साधते हुए कि जीत का भरोसा दिलाकर सपा से टिकट लाए और 10 हजार वोट पर सिमट गए। वे जीतने के लिए नहीं हराने के लिए लड़े थे। इन विषम परिस्थितियों में जो लोग हमारे साथ हैं। कोई परेशान करेगा तो देे-दे लाठी कमर तोड़ देंगे। भीड़ में से इस पर कुछ लोग बोले फोन उठाते रहना, यहां के लोग विकास नहीं चाहते हैं।

ट्रेंडिंग वीडियो