scriptAre you getting the right amount of CNG-LPG gas from the pump? | पंप से आपको पूरी मिल रही है सीएनजी-एलपीजी गैस ? | Patrika News

पंप से आपको पूरी मिल रही है सीएनजी-एलपीजी गैस ?

नापतौल विभाग के पास जांच के लिए उपकरण ही नहीं

 

भोपाल

Published: December 05, 2021 05:26:12 pm

भोपाल. पेट्रोल-डीजल के बढ़ती कीमतों के चलते शहर में सीएनजी और एलपीजी वाले वाहनों की संख्या बढ़ती जा रही है। इसके साथ सीएनजी के फिलिंग स्टेशन भी खुलते जा रहे हैं। इन दोनों ईंधनों की कीमतें कम होने के कारण इनका उपयोग बढ़ रहा है।
फिलिंग स्टेशनों पर यह गैस सही मात्रा में भरी जा रही है या नहीं, इसकी जांच की कोई व्यवस्था नहीं है।

cng-lpg_gas.png

नापतौल विभाग के पास फिलहाल गैस फिलिंग की जांच करने के उपकरण ही नहीं हैं। उपभोक्ताओं के साथ यदि गैस भरने में कोई गड़बड़ी होगी तो कोई कार्रवाई भी नहीं हो पाएगी। विभाग तौलकांटा से लेकर पेट्रोल-डीजल, गैस आदि की जांच करने के लिए बनाया गया है ताकि उपभोक्ताओं को सही माप में चीजें मिल सकें और उनकी किसी भी तरह की चोरी नहीं हो सके। लेकिन हर तरह के मापन के लिए अलग उपकरण होते हैं। इनका भी नागपुर से सत्यापन कराना जरूरी होता है तभी यह मान्य होते हैं।

Must See: सजग रहें, साइबर ठग खाली कर देंगे आपका बैंक खाता

विभाग की एक मशीन खराब, दूसरी ३ साल से धूल खा रही
नापतौल विभाग के पास सीएनजी और एलपीजी मापने के लिए दो मशीनें आई थी। इनमें से एक मशीन खराब पड़ी हुई है। दूसरी मशीन का भी तीन साल से सत्यापन नहीं कराया गया है। इसलिए इसका भी उपयोग नहीं किया जा रहा है। फिलहाल नापतौल निरीक्षकों के पास गैस फिलिंग की जांच के लिए कोई उपकरण उपलब्ध नहीं है। इसलिए इसकी जांच भी बंद है।

लगातार आ रही शिकायतें लेकिन कार्रवाई नहीं
अभी भोपाल शहर में एलपीजी के वाहनों की संख्या 40 हजार, सीएनजी के वाहनों की संख्या 2 हजार है जबकि शहर में सीएनजी फिलिंग स्टेशनों की संख्या 8 है और 5 ऑटो एलपीजी फिलिंग हैं। खजूरी निवासी हरिशंकर तिवारी ने बताया कि उन्होंने कार में २० लीटर एलपीजी भरवाई। आमतौर पर कार इसमें लगभग ढाई सौ किमी चलती थी। लेकिन जब डेढ़ सौ किमी के बाद ही कार बंद हो गई तो विभाग में शिकायत की लेकिन एक महीने बाद भी कार्रवाई नहीं हुई।

Must See: आजादी से पूर्व यहां चला था टंट्या मामा पर राजद्रोह का केस

नापतौल की अब तक कोई हेल्पलाइन भी नहीं
आम जनता से जुड़े सभी विभागों ने अपनी हेल्पलाइन शुरू कर दी है। इसके तहत कोई नंबर दिया जाता है जिस पर उपभोक्ता शिकायत कर सकते हैं। लेकिन नापतौल विभाग की अपनी कोई हेल्पलाइन अभी तक शुरू नहीं हो पाई है। नापतौल निरीक्षक, केआर चौधरी ने कहा कि अभी हमारे पास सीएनजी और एलपीजी मापने की कोई मशीन उपलब्ध नहीं है। जो मशीन हैं वे मेंटेनेंस में दी हुई हैं। इसलिए रेंडम जांच नहीं की जा रही है। यदि शिकायत आती है तो जांच की जाती है। इसके लिए फिलिंग स्टेशन संचालक ही मशीन की व्यवस्था करते हैं।

सीएनजी और एलपीजी भी महंगाई की राह पर
सीएनजी और एलपीजी के रेट भी लगातार बढ़ रहे हैं। एलपीजी अक्टूबर में जहां 57 रुपए प्रति लीटर थी वहीं, नवंबर में इसके रेट 65 पर पहुंचे और अब 1 दिसंबर से 69.34 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गई। वहीं सीएनजी 76 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गई है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.