मलेरिया विभाग की 10 में से 6 फॉगिंग मशीनें खराब, चलाने के लिए केवल 2 कर्मचारी

डेंगू हो रहा बेकाबू लेकिन विभाग को फिक्र नहीं

भोपाल। शहर में इन दिनों डेंगू बेकाबू हो रहा है। अब तक 791 मरीज मिल चुके हैं और दो मौतें हो चुकीं हैं। स्वास्थ्य मंत्री से लेकर कलेक्टर तक डेंगू को रोकने के लिए मैदान में उतर आये हैं।

मलेरिया विभाग के साथ स्वास्थ्य विभाग, नगर निगम के बाद अब कलेक्टर ने राजस्व विभाग के अधिकारियों को डेंगू नियंत्रण के काम की निगरानी और लार्वा सर्वे में लगाया गया है। इसके बावजूद मच्छरों की रोकथाम के लिए प्रभावी तरीके से फॉगिंग नहीं हो रही है। इसकी बानगी मलेरिया विभाग स्वयं बयां कर रहा है।

मलेरिया विभाग के पास 10 फॉगिंग मशीनें हैं। जिनमें से मात्र 4 मशीनें ही काम कर रही हैं। इन मशीनों को चलाने के लिए मात्र दो कर्मचारी हैं। ऐसे में मलेरिया विभाग की फॉगिंग व्यवस्था पर सवाल उठ रहे हैं।

MUST READ : MP Alert: मौसम में बदलाव के बीच डेंगू की दस्तक, जानिये लक्षण से लेकर बचाव तक

निगम का अमला नहीं उठाता फोन
नगर निगम के जोनवार अधिकारियों के मोबाइल नंबर कार्यालय द्वारा जारी किये गये हैं। इन नंबरों पर फोन करने पर ज्यादातर कर्मचारी फोन नहीं उठाते।

शाहपुरा के विशाल जैन बताते हैं कि उन्होंने आसपास के क्षेत्र में बढ़ रहे मच्छरों से परेशान होकर गूगल से नंबर निकालकर नगर निगम के नंबरों पर फॉगिंग कराने फोन किया था। लेकिन दो दिन तक कोई फॉगिंग करने नहीं आया। डेंगू के बढते प्रभाव को रोकने के लिए वार्ड वार फॉगिंग मशीनें होनी चाहिए लेकिन निगम के कर्मचारी इसको लेकर गंभीर नहीं हैं।

राजस्व अमला भी जुटा डेंगू नियंत्रण में
कलेक्टर तरूण पिथोडे ने एसडीएम,तहसीलदारों सहित राजस्व विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों को डेंगू नियंत्रण और लार्वा सर्वे के काम में लगाया है। राजस्व विभाग के अधिकारी अपने आफिस टाइम के पहले सुबह नौ बजे से और शाम पांच बजे के बाद मैदान में पंहुच रहे हैं। इस वजह से मलेरिया विभाग, स्वास्थ्य विभाग और निगम की टीमों द्वारा किये जा रहे काम का सही अंदाजा नहीं लग पा रहा है। राजस्व विभाग के अधिकारी आफिस टाइम के पहले लार्वा सर्वे टीमों के साथ आमजन को जागरूक करने का काम कर मच्छरों से बचने की अपील कर रहे हैं।

अब संभागायुक्त ने दिए सर्वे के निर्देश

भोपाल। बुधवार को संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव ने अधिकारियों के साथ बैठक कर दीपावली के पहले तीन दिनों तक 180 कॉलोनियों के सर्वे के निर्देश दिए हैं। ये सर्वे विधानसभावार होगा और त्यौहार के बाद भी लगातार जारी रहेगा, लेकिन त्यौहार से पहले उन कॉलोनियों का सर्वे करना है जहां पानी में लार्वा पनपने की संभावना ज्यादा बनी हुई है। संभागायुक्त ने निर्देश दिए हैं कि 10-10 टीमें एक साथ घरों में जाकर सर्वे करेंगी। बैठक में जिला प्रशासन, नगर निगम, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मौजूद थे । सभी टीमें गुरुवार से ही विधानसभावार डेंगू के लार्वा की जांच और पीडि़तों का पता लगाकर उनके इलाज की व्यवस्था करेंगी।

ये है डेंगू की स्थिति

माह : 2018 : 2019

जनवरी : 02 : 08
फरवरी : 02 : 13

माचज़् : 00 : 10
अप्रैल : 01 : 02

मई : 00 : 07
जून : 04 : 08

जुलाई : 02 : 13
अगस्त : 35 : 81

सितम्बर : 95 : 356
अक्टूबर : 274 : 293

नवंबर : 259 -
दिसंबर : 64 -

कुल : 738 : 791

हमारे पास 10 फॉगिंग मशीनें हैं। हमारे कर्मचारियों का काम लार्वा सर्वे और उसे नष्ट करने का है। फॉगिंग का काम नगर निगम का है। उनकी 85 वार्डो के अनुसार फॉगिंग मशीनें काम कर रहीं हैं। हमारी 4 मशीनें काम कर रहीं हैं।
- अखिलेश दुबे,जिला मलेरिया अधिकारी

Show More
सुनील मिश्रा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned