scriptJP in the grip of drug addicts, patients becoming victims of drug | नशेड़ियों की गिरफ्त में जेपी, पार्किंग से लेकर वार्ड तक में नशेबाजों के शिकार हो रहे मरीज | Patrika News

नशेड़ियों की गिरफ्त में जेपी, पार्किंग से लेकर वार्ड तक में नशेबाजों के शिकार हो रहे मरीज

locationभोपालPublished: Feb 03, 2024 06:16:14 pm

Submitted by:

Bhalendra Malhotra

नशे में धुत कर्मचारी कर रहे चोरी, लड़ाई व गाली-गलौज

नशेड़ियों की गिरफ्त में जेपी, पार्किंग से लेकर वार्ड तक में नशेबाजों के शिकार हो रहे मरीज
नशेड़ियों की गिरफ्त में जेपी, पार्किंग से लेकर वार्ड तक में नशेबाजों के शिकार हो रहे मरीज
भोपाल. शुक्रवार की सुबह 11 बजे 22 वर्षीय अर्जुन अपने पिता को इलाज के लिए जेपी अस्पताल लेकर पहुंचे। गेट पर बैरियर लगा हुआ था। इसे खोलने वाला पार्किंग कर्मचारी नशे में था। युवक ने जब उससे गेट खोलने के लिए बोला तो कर्मचारी युवक को घूरने लगा। युवक ने जैसी ही बाइक आगे बढ़ाई, नशे में चूर कर्मचारी गाली गलौज करने लगा। यह कोई एक मामला नहीं है। संबंधित कर्मचारी करीब दो घंटे तक बैरियर को खोलने व बंद करने का कार्य करता रहा। इस दौरान हर दूसरे व्यक्ति से दुव्र्यवहार भी कर रहा था।
मोबाइल गायब करने वाले भी थे नशे में
बुधवार को दो कर्मचारियों ने वार्ड से मरीज का मोबाइल गायब किया था। इसकी पुष्टि सीसीटीवी से हुई थी। वहीं जब दोनों कर्मचारियों से पूछताछ की गई तो वे नशे में मिले। इसके बाद भी वे नशे में होने की बात से इंकार कर रहे थे। जिसके चलते उनकी जांच भी कराई गई। जानकारी के अनुसार मामले में कर्मचारियों ने 10 हजार रुपए मरीज को दिए थे। जिसके बाद मरीज ने अपनी शिकायत वापस भी ले ली। यही वजह रही कि इस मामले में आगे कोई कार्यवाही नहीं हुई।
नशे में कर्मचारी डॉक्टर से भी कर चुके हैं मारपीट
पार्किंग का संचालन कर रहे कर्मचारी व अस्पताल में तैनात कर्मचारी शराब पीकर ड्यूटी करने पहुंचते हैं। इसके बाद आने जाने वालों से विवाद करते हैं। कुछ माह पहले पार्किंग कर्मचारी में अस्पताल में पदस्थ एक डॉक्टर के साथ भी मारपीट की थी। यही नहीं देर रात भर्ती मरीज के परिजन को भी बेरहमी से पीटा था। उसके कपड़े तक फाड़ दिए थे।
शिकायत के बाद हटा कर्मचारी: परिजनों ने मामले की शिकायत सिविल सर्जन डॉ. राकेश श्रीवास्तव से की। इसके बाद दोपहर 12:25 बजे कर्मचारी को हटाया गया। डॉ. श्रीवास्तव ने पार्किंग का संचालन करने वाले ठेकेदार पंकज को कर्मचारी को हटाने के निर्देश दिए गए।
अस्पताल में जो भी कर्मचारी नशे में मिलेगा, उसे तत्काल हटा दिया जाएगा। पूरे अस्पताल में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। यहां ऐसी कोई समस्या नहीं हो रही है।
- डॉ. राकेश श्रीवास्तव, सिविल सर्जन, जेपी अस्पताल

ट्रेंडिंग वीडियो