प्रदेश में पहली बार सरकारी अस्पताल में किडनी ट्रांसप्लांट

साढ़े चार घंटे चली सर्जरी, मुरैना जिले के केशव शर्मा का हुआ पहला किडनी ट्रांसप्लांट।

By: Hitendra Sharma

Published: 08 Sep 2021, 10:12 AM IST

भोपाल. मंगलवार को हमीदिया अस्पताल में पहला किडनी ट्रांसप्लांट हुआ। यह प्रदेश का पहला सरकारी अस्पताल है, जहां यह संभव हुआ है। आंखों में सफलता की चमक के साथ डॉ हिमांशु शर्मा बताते हैं कि तमाम मुश्किलों के बीच हमारी टीम ने जीत हासिल की।

साढ़े चार घंटे चली सर्जरी
मुरैना जिले के पोरसा तहसील के गिदौली गांव क़े रहने वाले केशव शर्मा की दोनों किडनी खराब हो घुकी थीं। डॉक्टर ने ट्रांसप्लांट के लिए कहा तो उनकी पत्नी ने अपनी किडनी डोनेट करने की इच्छा जाहिर की। सोमवार शाम से डॉक्टर्स की टीम ट्रांसप्लांट की तैयारियों में जुटी थी। मंगलवार को साढ़े चार घंटे तक सर्जरी चली।

Must See: प्रदेश में फिर से जूनियर डॉक्टर हड़ताल शुरू
सरकारी अस्पतालों पर बढ़ेगा विश्वास
ट्रांसप्लांट करने वाले डॉक्टर सौरभ जैन ने कहा कि यह हमारे लिए बड़ा अवसर था। हम यह ट्रांसप्लांट कर लोगों का विश्वास सरकारी अस्पताल में बढ़ाना चाहते थे, लेकिन फिर भी पहला किडनी ट्रांसप्लांट करने का दबाव था। आज जब ट्रांसप्लांट हो गया तो ऐसे लगा कि हमने दुनिया का कोई सर्वश्रेष्ठ अवार्ड हासिल कर लिया हो।

Must See: मंत्रालय के अफसरों को कब्ज का इलाज और मानसिक काउंसलिंग की जरूरत

हमीदिया के नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ. हिमांशु शर्मा ने पहला किडनी ट्रांसप्लंट करने के बाद कहा कि मैं इसी कॉलेज से पढ़ा हूं यहां से एमडी करने के बाद हमीदिया अस्पताल में ही काम करने लगा। अस्पताल के लिए कुछ बड़ा करने का सपना था, लेकिन माँका नहीं मिल रहा था। फिर डीएम करने एम्स गया। वहां से लौटा तो किडनी ट्रांसप्लांट यूनिट का सपना साथ लेकर आया। वर्ष 2017 में इसकी शुरुआत की। कई दिक्‍कतें आईं, कोरोना के चलते काम ठप हो गया, लेकिन हार नहीं मानी। आखिरकार मंगलवार को वो खुशी का पल आ गया, जब हमने हमीदिया अस्पताल में सफल किडनी ट्रांसप्लांट किया।

Must See: गिलोय के औषधीय गुणों से कई बीमारियों का होगा इलाज

Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned