नए-नए तरीके ढूंढ खाली कर रहे खाते, जानिए आनलाइन ठगों के दो सबसे बड़े हथियार

आनलाइन फ्रॉड में लगे लोग नए-नए तरीके ढूंढ कर लोगों के खाते खाली कर रहे हैं.

By: deepak deewan

Published: 04 Oct 2021, 09:08 AM IST

भोपाल. आनलाइन फ्रॉड में लगे लोग नए-नए तरीके ढूंढ कर लोगों के खाते खाली कर रहे हैं. ३५ हजार रुपए वाली हाइटेक वाशिंग मशीन मात्र १२ हजार रुपए में बेचने का झांसा हो या सिम या एकाउंट बंद होने का डर— साइबर ठगों के सबसे दो बड़े हथियार लालच और डर ही हैं। इन्हीं के चलते आम नागरिक ओटीपी बताने से लेकर खुद ठगों को भुगतान करने तक की भूल कर जाते हैं।

उनकी यही एक बार की गलती उनके पूरे जीवन भर की कमाई छीन लेती है। अब तो कमीशन और रिटर्न के नाम पर ठगी भी बहुत ज्यादा हो रही है. पिछले कुछ दिनों से वर्क फ्रॉम होम, ऑनलाइन काम करने पर कमीशन और निवेश पर मोटा रिटर्न दिलाने के नाम पर ठगी के मामले भी बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे केसेस पुलिस थानों में बाकायदा दर्ज भी हो रहे हैं.

पिछले सप्ताह अयोध्या नगर में एक युवती को ऑनलाइन शॉपिंग करने पर शॉपिंग की कीमत से ज्यादा के रिटर्न का झांसा देकर पहले कमीशन दिया गया बाद में शॉपिंग की वेबसाइट ने लिस्ट और बढ़ाते हुए पूरे एक लाख रुपए जमा करवा लिए। खुद किया गया यह भुगतान महीनों से वापस नहीं आ रहा है। ऐसा ही मामला कोलार में भी हुआ हैं जहां युवती से मोटे रिटर्न के नाम पर पांच लाख रुपए जमा करवा लिए और ठगी कर ली गई।

fraud2.jpg

सायबर एवं सायबर लॉ एक्सपर्ट यशदीप चतुर्वेदी कहते हैं कि सायबर सिक्योरिटी के प्रति जागरुकता लानी होगी. उनका कहना है कि सायबर फ्रॉड के मामले जिस तेजी से बढ़ रहे हैं, उसके मुकाबले अपराधियों के पकड़े जाने या उन्हें रोक पाने की दर बेहद कम है। सामान्य पुलिसिंग का उदाहरण लेते हुए इसे ऐसे समझें कि यदि पुलिस यदि घरों में चोरियां करने वालों को पकडऩे में बेहद पिछडऩे लगे तो फिर चोरों का हौसला बढऩा तय है।

सावधान! साइबर फ्रॉड हॉट- स्पाट है ये शहर

ऐसी हालत में आप घरों में कितनी भी सुरक्षा कर लीजिए वे दीवार में सेंध लगाकर तक घर में घुस जाएंगे। इसी तरह सायबर अपराधों में भी अपराधियों को रोका और पकड़ा जाना जरूरी है। वहीं नागरिकों के स्तर पर बात करें तो सिर्फ उन्हें ओटीपी ना बताने की सलाह देने से आगे बड़ा अभियान चलाकर साइबर सिक्योरिटी के प्रति पूरी तरह जागरुक करना जरुरी है। बड़े कदम उठाकर ही इस बढ़ते अपराध को थामा जा सकता है।

deepak deewan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned