GST के विरोध में व्यापारियों का भारत बंद, यहां मिला-जुला असर

जीएसटी के नियमों में संशोधन की मांग को लेकर व्यापारियों ने किया भारत बंद, देखें मध्यप्रदेश में क्या है स्थिति...।

By: Manish Gite

Published: 26 Feb 2021, 10:29 AM IST

भोपाल। जीएसटी ( GST ) के नियमों में बदलाव की मांग को लेकर व्यापारियों के देशव्यापी बंद का मध्यप्रदेश में मिला-जुला असर देखने को मिल रहा है। शुक्रवार सुबह जरूरी सामान की दुकानें खुली नजर आईं। हालांकि कुछ व्यापारिक प्रतिष्ठान 10.30 बजे बाद खुलते हैं, इसलिए बंद का असर तभी देखने को मिलेगा। व्यापारियों ने दोपहर 2 बजे तक बंद का आव्हान किया है।

 

राजधानी भोपाल समेत मध्यप्रदेश में बंद का मिलाजुला असर देखने को मिल रहा है। भोपाल में नए शहर में व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रख रहे हैं, वहीं पुराने भोपाल में दाल-दलहन के व्यापारी इस बंद में शामिल नहीं हैं। भोपाल किराना व्यापारी महासंघ भी बंद का समर्थन कर रहा है। महासंघ के एक पदाधिकारी का कहना है कि सुबह तो ज्यादातर दुकानें बंद ही रहती हैं, इसलिए इसका असर थोड़ी देर बाद देखने को मिलेगा। दोपहर 2 बजे तक सभी व्यापारी अपनी अपनी दुकानें बंद रखेंगे।

 

इंदौर में भी मिला-जुला असर

कन्फेडरेशन आफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के आव्हान पर मध्यप्रदेश के संगठन ने भी इंदौर समेत पूरे प्रदेश में बंद का आव्हान किया गया है। जबकि इंदौर के मुख्य व्यापारिक संगठन अहिल्या चैंबर इस बंद में शामिल नहीं है। इस संगठन ने अपने सभी व्यापारियों से कहा है कि वे अपना पूरा काम सामान्य दिनों की तरह ही करते रहें। चैंबर के अध्यक्ष रमेश खंडेलवाल कहते हैं कि बंद करने से तो हम व्यापारियों का ही नुकसान होता है। जीएसटी में किए जा रहे बदलाव और उसकी जटिलता का विरोध हम भी कर रहे हैं। केंद्र सरकार को इसके लिए पत्र भी लिखा है, लेकिन बंद में हम शामिल नहीं हैं।

इंदौर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन भी दो से तीन घंटे तक बंद के समर्थन में हैं। अनाज तिलहन संघ ने भी कुछ घंटे मंडी बंद रखने को कहा है। जबकि अन्य कोई बड़े संगठन कारोबार बंद करने के समर्थन में नहीं हैं।

 

सिवनी में भी बंद

सिवनी जिले से खबर है कि शुक्रवार को बंद का आव्हान किया गया है, कुछ नियमित दुकानें सुबह से खुली हुई है, जबकि कुछ प्रतिष्ठान दोपहर 2 बजे तक अपने प्रतिष्ठान बंद रखेंगे। कैट संघ के जिला अध्यक्ष मनीष अग्रवाल ने कहा है कि कैट संगठन सहित अनाज व्यापारी संघ ट्रासंपोर्ट संगठन के अलावा जिले के अनेक संगठनों द्वारा समर्थन दिया गया है।

बस संचालकों की हड़ताल स्थगित

इंदौर से खबर है कि गंगवाल बस स्टैंड एसोसिएशन और बस ऑपरेटरों ने भी 26 फरवरी को एक दिन की हड़ताल स्थगित कर दी। परिवहन मंत्री ने 1 मार्च से बसों का किराया बढ़ाने का आश्वासन दिया है। इसके बाद यह निर्णय लिया गया है। वहीं जबलपुर में भी बसों की हड़ताल मंत्री के आश्वासन के बाद स्थगित कर दी गई है। गौरतलब है कि शुक्रवार को बसों का संचालन सुचारू रूप से होता रहेगा। धार-झाबुआ, रतलाम सहित अन्य रूट की 100 से ज्यादा बसें सुबह से ही चलाई जा रही हैं।

 

GST Goods and Services Tax
Manish Gite
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned