प्राइवेट से बेहतर रहा सरकारी स्कूलों का रिजल्ट, दो विषयों की टॉपर शासकीय स्कूल की छात्रा, लड़कियों ने मारी बाजी

लड़कियों ने एक बार फिर से बाजी मारी है

By: Pawan Tiwari

Published: 27 Jul 2020, 04:35 PM IST

भोपाल. मध्य प्रदेश एजुकेशन बोर्ड ( MPBSE) ने बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (12वीं) का रिजल्ट घोषित कर दिया है। मध्यप्रदेश में एक बार फिर से छात्राओं ने बाजी मारी है। हालांकि 2019 की तुलना में 2020 का रिजल्ट 3.56 कम रहा। वहीं, लड़कियों ने एक बार फिर से बाजी मारी है।

कितने फीसदी विद्यार्थी उत्तीर्ण
हायर सेकण्डरी परीक्षा में इस वर्ष 68.81% नियमित परीक्षार्थी तथा 28.70% स्वाध्यायी परीक्षार्थी उत्तीर्ण रहे है। 64.66% नियमित छात्र तथा 73.40% नियमित छात्रायें परीक्षा में सफल हुई हैं। शासकीय विद्यालयों का उत्तीर्ण 71.43% रहा है, तथा अशासकीय विद्यालयों का उत्तीर्ण 64.93% रहा है।

सरकारी स्कूल से निकले टॉपर
कला संकाय की टॉपर-खुशी सिंह- रीवा जिले के त्योथर शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय की छात्रा हैं।
गणित संकाय की छात्रा प्रिया सिंह मंदसौर जिले की उत्कृष्ट शासकीय स्कूल की छात्रा हैं।

सरकारी स्कूल का रिजल्ट बेहतर
सरकारी स्कूलों का रिजल्ट बेहतर रहा है। सरकारी स्कूलों में जहां 71.43 फीसदी छात्र-छात्राएं पास हुए, वहीं निजी स्कूलों में पास का प्रतिशत 64.93 रहा।

प्राइवेट से बेहतर रहा सरकारी स्कूलों का रिजल्ट, दो विषयों की टॉपर शासकीय स्कूल की छात्रा, लड़कियों ने मारी बाजी

पिछले साल के मुकाबले कम रहा रिजल्ट
इस बार 68.81% रिजल्ट रहा जबकि 2019 में रिजल्ट 72 फीसदी था। 2019 के मुकाबले इस बार रिजल्ट कम रहा। कोरोना संक्रमण के कारण परीक्षाएं बीच में ही रोक दी गई थीं उसके बाद बचे हुए पेपर की परीक्षाएं बाद में कराई गईं थी।

68.81 फीसदी छात्र हुए पास
इस बार कुल रिजल्ट 68.81 फीसदी रहा। इसमें 64.66 प्रतिशत छात्र और 73.40 छात्राएं सफल रही। इस बार भी लड़कियों ने ही बाजी मारी है। गौरतलब है कि 2019 में 72.37 फीसदी छात्र सफल हुए थे।

Pawan Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned