scriptSindhi Panchayat's efforts to remove evils are getting success | कुरीतियों को दूर करने सिंधी पंचायत के प्रयासों को मिल रही सफलता | Patrika News

कुरीतियों को दूर करने सिंधी पंचायत के प्रयासों को मिल रही सफलता

locationभोपालPublished: Feb 10, 2024 08:35:48 pm

संतनगर. सिंधी समाज की मुखिया संस्था पूज्य सिंधी पंचायत समय-समय पर कुरीतियों पर व्यवस्था देती हैं। बदलाव के लिए फैसले लेती है, जिन पर अमल के लिए पारिवार के मुखिया की तरह समझाती है।

कुरीतियों को दूर करने सिंधी पंचायत के प्रयासों को मिल रही सफलता
कुरीतियों को दूर करने सिंधी पंचायत के प्रयासों को मिल रही सफलता
बदलाव होने पर भले वक्त लगता हो, लेकिन सुधार नजर आता है। परिजन की मौत के बाद बारहवीं की रस्म पारिवारिक सदस्यों तक सीमित करने की अपील का असर होने लगा है। विवाह मुहूर्त में ही करने और आशीर्वाद समारोह में दिए गए समय पर दूल्हा-दुल्हन के पहुंचने के पंचायत के अभियान का भी असर होने लगा है।
बारहवीं पर फिजूलखर्ची
गमी होने पर बारहवीं सार्वजनिक रूप से होने लगी। बड़ी राशि का भार परिजनों पर आ रहा है। पंचायत ने लोगों से आग्रह किया बारहवीं की रस्म पंडितों और परिवारजनों तक सीमित करें, जिससे अनावश्यक खर्च का भार न पड़े। ऐसा नहीं कि पंचायत के फैसले से ऐसा पूरी तरह होने लगा हो, लेकिन शुरूआत हो गई है।
मुहूर्त पर विवाह रस्म
विवाह के समय शादी के मुहूर्त का पालन होना बंद हो गया। बारात पहुंचने में देरी, श्रंगार में देरी से मुहूर्त निकलने के बाद विवाह संस्कार होना आम हो गया। घोड़ी से उतरते समय मांग दूल्हन पक्ष के लिए परेशानी बन गई। पंचायत ने संज्ञान लेकर स्थिति को बदलने के समाज स्तर पर संवाद की पहल की। जन जागरण अभियान चलाकर पंरपराओं में आई बुराई को दूर करने का आग्रह किया। समाजसेवी मानते हैं, पूरी तरह सुधार नहीं हुआ है।
शादी के समय कॉकटेल बदलाव में समय लगेगा: शादी के समय होने वाली कॉकटेल पर बंद होने और बारात में महिलाओं के डांस को लेकर पंचायत अभियान चला रही है। हालांकि सालों पुराने पंचायत के इस अभियान को सफलता नहीं मिली है। बहुत बड़ा वर्ग कॉकटेल को स्टैट्स की बात कहता है और बारात में डांस को मौजूदा बदलाव। विशिष्ठजनों का कहना है कोई भी समाज हो बुराई आती जल्द है, लेकिन दूर होने में वक्त लगता है।
- समाज के विशिष्ठजन जो सुझाव पंचायत को देते हैं। उस पर पंचायत अपनी बात समाज के समाने रखती है। आग्रह से बदलाव के लिए जनजागरण अभियान चलाते हैं। खुशी है, धीमे ही सही लेकिन कुरीतियों से खत्म हो रही हैं।
साबू रीझवानी, अध्यक्ष पूज्य सिंधी पंचायत
-पंचायत समाज के हित में निर्णय लेती है वर्तमान में विवाह मुहर्त पर करने, दूल्हा-दुल्हन के समय पर स्टैज पर आने, बारहवीं परिवार तक सीमित करने के फैसले लिए गए हैं। समाज के लोग पंचायत का आग्रह भी मानते हैं।
माधु चांदवानी, महासचिव, पूज्य सिंधी पंचायत

ट्रेंडिंग वीडियो