scriptVehicles are speeding, speed limits on roads are old, hence accidents | वाहन भर रहे फर्राटा, सड़कों पर तय रफ्तार पुरानी, इसलिए बढ़ रहे हादसे | Patrika News

वाहन भर रहे फर्राटा, सड़कों पर तय रफ्तार पुरानी, इसलिए बढ़ रहे हादसे

locationभोपालPublished: Dec 11, 2023 05:29:09 pm

Submitted by:

Anupam Pandey

एनसीआरबी के डाटा बता रहे शहर में रोड एक्सीडेंट की भयावहता

bike01.jpg
,,
भोपाल. 40 साल में लूना से मर्सिडीज, रेंज रोवर, हाईस्पीड बाइक तक पर सफर शुरू हो गया, लेकिन शहर की सड़कों पर तय रफ्तार में कोई बदलाव नहीं हुआ। बीस साल पुरानी तय रफ्तार ही सड़कों पर लागू है। किस सड़क पर कितनी रफ्तार है, उसके बोर्ड भी अब कहीं नजर नहीं आते। जनता को पता ही नहीं चलता कि शहर की प्रमुख सड़कों पर रफ्तार की लिमिट क्या है। इसके उलट कई जगह सड़कों पर कट, सर्विस रोड, पुल तक उतर गए, इससे कहीं से भी वाहनों की एंट्री होती है। इन कारणों से शहर में एक्सीडेंट तेजी से बढ़े हैं, तेज रफ्तार वाहन एक्सीलरेटर पर पैर रखते ही भागते हैं, ऐसे में सड़कों पर बने कट, कर्व से कहीं न कहीं कार डिवाइडर पर चढ़ी दिखती है, कई बार तो सड़कों पर कारें पलट भी चुकी हैं। ऐसे में अब नए सिरे से सड़कों का सर्वे कर वाहनों के रफ्तार की लिमिट तय करना जरूरी हो गया है।
2019 में आया था सड़क की रफ्तार प्रस्ताव

वर्ष 2019 में नर्मदापुरम रोड पर मिसरोद से लेकर एम्प्री तक सड़क की रफ्तार तय करने का प्रस्ताव सामने आया था। सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में इस पर सहमति बन गई, तत्कालीन कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने इस पर सहमति दी, लेकिन इसका क्या हुआ किसी को नहीं पता। नर्मदापुरम रोड पर बोर्ड तक नहीं लगे, अन्य सड़कों की तरह इस सड़क की रफ्तार साठ किमी ही मानकर चल रहे हैं।
भोपाल में 62 प्रमुख सड़कें

शहर और आस-पास 62 प्रमुख सड़कें हैं, आईटीएमएस के तहत अभी 17 स्थानों पर स्पीड-डिटेक्शन कैमरे लगाए गए हैं। लेकिन रफ्तार पर चालान न के बराबर ही बनते हैं। वीआईपी रोड पर दो स्थान और लिंक रोड 1, 2 और 3 पर, नर्मदापुरम रोड, नई जेल रोड और करोंद को छोड़ दें तो इनमें से कई के कैमरे भी प्रॉपर काम नहीं करते। स्पीड डिटेक्शन कैमरे सिर्फ दिखावे के साबित हो रहे हैं।
लिंक रोड नंबर 1,2,3

वर्षों पूर्व इस सड़क पर 60 किमी की रफ्तार तय की, लेकिन बोर्ड कहीं भी नजर नहीं आता। वर्तमान में यहां 80 से 90 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से वाहन दौड़ते हैं।
वीआइपी रोड: इस रोड की लिमिट 50 किमी तय की थी, क्योंकि इस पर कर्व हैं, लेकिन तेज रफ्तार वाहन यहां 70 से 80 की स्पीड से दौड़ते हैं।

अटल पथ रोड पर रफ्तार 40 किमी तय की गई है लेकिन इस पर भी वाहन फर्राटा भर रहे हैं।
एनसीआरबी के डाटा बता रहे शहर में रोड एक्सीडेंट की भयावहता

5 साल में दुर्घटनाएं

2018 3195

2019 2615

2020 1654

2021 1967

2022 2566

2023 3567
मृतकों की संख्या

2018 269

2019 148

2020 123

ट्रेंडिंग वीडियो