रेलवे की दोहरी नीति यात्रियों के लिए बन रही परेशानी का सबब

dinesh swami

Publish: Sep, 17 2017 01:04:23 (IST)

Bikaner, Rajasthan, India
रेलवे की दोहरी नीति यात्रियों के लिए बन रही परेशानी का सबब

सुरक्षा व्यवस्था को लेकर रेलवे की दोहरी नीति यात्रियों के लिए परेशानी का सबब बन रही है।

बीकानेर. सुरक्षा व्यवस्था को लेकर रेलवे की दोहरी नीति यात्रियों के लिए परेशानी का सबब बन रही है। एकल सुरक्षा व्यवस्था नहीं होने से किसी भी तरह की घटना होने पर असमंजस की स्थिति पैदा हो जाती है। रेलवे में रेलवे राजकीय पुलिस और रेलवे सुरक्षा बल होने से कानूनी कार्रवाई करने में अधिकार क्षेत्र भिन-भिन्न होने के कारण सही समय पर उचित सहायता नहीं मिलती। इससे यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ती है। वहीं रेलवे की छवि भी प्रभावित हो रही है। कई बार अपराधी भी पकड़ से दूर हो जाता है।

 

एसोसिएशन ने जताई चिन्ता
ऑल इण्डिया आरपीएफ एसोसिएशन बीकानेर मंडल की सामान्य परिषद ने रेलवे की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर चिन्ता जाहिर की है। परिषद के पदाधिकारियों ने दो दिवसीय मंथन के दौरान एकल सुरक्षा व्यवस्था लागू करने की आवश्कता पर बल दिया।

 

एसोसिएशन (उपरे) के महामंत्री कंवरलाल ने कहा कि प्रशासन की हठधर्मिता के चलते रेलवे बोर्ड निर्धारित स्थाई वार्ता तंत्र की बैठक नहीं करवा है। इससे समस्याओं का निस्तारण नहीं हो पा रहा है। उपरे के उपाध्यक्ष उम्मेद सिंह, जोधपुर मंडल सचिव बत्तूराम मीण ने भी एकल सुरक्षा व्यवस्था लागू करने पर बल दिया।

 

भारतीय रेल में ही क्यों
मंडल सचिव विजेन्द्र ङ्क्षसह काजला ने कहा कि विश्व के सभी देशों की रेलों में कानूनी शक्तियों से सम्पन्न एकल सुरक्षा व्यवस्था के लिए रेल पुलिस है, लेकिन भारतीय रेल में दोहरी सुरक्षा एजेन्सियां (रेसुब व राजकीय रेलवे पुलिस) होने से ट्रेन यात्रियों को परेशानी होती है।

 

'किसानों पर दर्ज किए जा रहे मामले अनुचित'
बीकानेर. किसान महापड़ाव व चक्काजाम के दौरान किसानों की ओर से किए गए विरोध प्रदर्शन को लेकर दर्ज किए जा रहे मामलों की निन्दा की गई है। अखिल भारतीय किसान सभा के जिलाध्यक्ष गिरधारी महिया के अनुसार किसानों पर सरकार की ओर से किए जा रहे मुकदमें झूठे और अनुचित है।

 

इन मुकदमों को सरकार शीघ्र वापस ले। महिया के अनुसार किसानों का महापड़ाव और चक्काजाम शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न हुआ, इसके बावजूद किसानों पर मुकदमें दर्ज करना गलत है। बैठक में पदमसिंह सोढा, श्रवण गोदारा, गुमानाराम मेघवाल, श्यामसिंह भाटी, पतराम सारण, अनोपाराम आदि शामिल हुए।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned