अरपा में नहाने गए थे जुड़वा भाई, छाया मौत का ऐसा मंज़र के वापस लौटा सिर्फ एक

अरपा में नहाने गए थे जुड़वा भाई, छाया मौत का ऐसा मंज़र के वापस लौटा सिर्फ एक

Saurabh Tiwari | Updated: 26 Jul 2019, 07:53:01 PM (IST) Bilaspur, Bilaspur, Chhattisgarh, India

बड़ा हादसा: गोड़पारा आर्य समाज मंदिर के पास नदी किनारे की घटना

बिलासपुर. अरपा नदी में गुरुवार दोपहर नहाने गए जुड़वा भाइयों में से एक भाई रेत के अवैध उत्खनन के कारण बने बड़े गड्ढ़़े में डूब गया। मोहल्लेवासियों ने करीब 1 घंटे की खोजबीन के बाद बालक को पानी से बाहर निकालने के बाद सिम्स पहुंचाया, जहां डाक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस मर्ग कायम कर जांच कर रही है।

कोतवाली पुलिस के अनुसार गोड़ापारा निवासी रमेश नामदेव व उनकी पत्नी गोलबाजार स्थित एक होटल में मजदूरी करते हैं। उनके जुड़वा बेटे लव और कुश (10-10 वर्ष) साथ रहते हैं। गुरुवार को रमेश और उनकी पत्नी काम पर चले गए थे। दोपहर करीब 1 बजे उनके बेटे स्कूल से घर आए और नहाने के लिए गोड़पारा आर्य समाज के मंदिर के पास नदी किनारे चले गए।

child  <a href=Death by drowning in river" src="https://new-img.patrika.com/upload/2019/07/26/10_2_4892980-m.jpg">

कुश नदी में नहाने चला गया और लव नदी के किनारे खड़ा रहा। नदी किनारे अवैध उत्खनन के कारण बड़ा गडढ़ा हो गया था, जिसमें पानी भरा था। नहाते समय कुश गड्ढे में चला गया और डूब गया। कुछ देर के बाद कुश कहीं दिखाई नहीं दिया तो लव उसके डूबने की सूचना मोहल्लेवासियों को दी। मोहल्ले में रहने वाले युवक नदी पहुंचे और पानी में कुश की तलाश की। करीब एक घंटे के बाद उसे पानी से बाहर निकाला गया। उसे युवकों ने सिम्स पहुंचाया, जहां डाक्टर ने कुश को मृत घोषित कर दिया। सूचना पर पुलिस मर्ग कायम कर जांच कर रही है।

मोहल्ले में पसरा मातम
गुरुवार को गोड़पारा में कुश के डूबने की सूचना मिलने पर युवकों ने उसे बचाने के लिए भरसक प्रयास किया। मौके पर मोहल्ले वासियों की भीड़ लगी रही। सूचना मिलने पर कोतवाली पुलिस भी मौके पर पहुंची थी। करीब एक घंटे की मशक्त के बाद पानी से निकालने के बाद कुश निकाला गया और सिम्स पहुंचाया गया, लेकिन डाक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया।

नदी में कई जगह हंै खतरनाक गड्ढे
गर्मियों के मौसम में अरपा नदी में लगातार अवैध उत्खनन किए गए हैं। अधिकांश खुदाई जेसीबी से हुई है और नदी में कई जगह 15-20 फीट तक के बड़े गड्ढ़े हो गए हैं, जिसमें सरकंडा शिवघाट, मंगला घाट, लोधीपारा घाट, दयालबंद, गोड़पारा और अन्य स्थान ऐसे हैंं, जहां नदी में पानी आने के बाद गड्ड़े लबालब हो गए हैं और अनजान व्यक्ति को यह समझ नहीं आ रहा है कि गड्ढ़ा कितना गहरा है। यही कारण है कि कुश गड्ढ़े में डूब गया और बाहर नहीं निकल पाया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned