Herbal Immunity Booster: आयुर्वेद से बढ़ाए इम्यूनिटी, निखारे त्वचा की रंगत

Herbal Immunity Booster: भारत की प्राचीन चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद में निरोगी रहने के लिए ऐसी कई औषधियों का वर्णन किया गया है। जिनका उपयोग सामान्य तौर पर किया जा सकता है। ये औषधियां इम्यूनिटी बढ़ाने से लेकर आपकी त्वचा को बेदाग रखने में भी मददगार हैं...

By: युवराज सिंह

Published: 18 Apr 2020, 11:50 PM IST

Herbal Immunity Booster In Hindi: भारत की प्राचीन चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद में निरोगी रहने के लिए ऐसी कई औषधियों का वर्णन किया गया है। जिनका उपयोग सामान्य तौर पर किया जा सकता है। ये औषधियां इम्यूनिटी बढ़ाने से लेकर आपकी त्वचा को बेदाग रखने में भी मददगार हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में

1. गिलोय : इस पौधे का प्रयोग इम्यूनिटी बढ़ाने, पीलिया, पैरों में जलन, मौसमी रोगों और एनीमिया में किया जाता है।
ऐसे करें प्रयोग : कुछ पत्ते घी और शहद के साथ मिलाकर लेने से खून की कमी दूर होती है। इसकी पत्तियों को उबालकर भी पी सकते हैं। पैरों में जलन होने पर पत्तियों के पेस्ट को सुबह-शाम तलवों पर लगाएं।


2. तुलसी : खांसी, जुकाम, निमोनिया, कब्ज, बच्चों में पसलियां चलने, बुखार, अस्थमा, पेट से जुड़े रोगों में यह खासतौर पर उपयोगी है।
ऐसे करें प्रयोग : 15 तुलसी की पत्तियों को उबालकर काढ़ा बनाएं, इसमें चुटकीभर सेंधा नमक डालकर पीएं। सांस संबंधी रोग मेें शहद, अदरक व तुलसी को मिलाकर बनाया गया काढ़ा पीने से राहत मिलती है।

3. मीठा नीम : कढ़ी पत्ता यानी मीठा नीम हाई बीपी, पेचिस, अतिसार, नेत्र रोग आदि में फायदा पहुंचाती है।
ऐसे करें प्रयोग : इसे भोजन मेंं डालकर या रोजाना सुबह 7-8 पत्तियां ले सकते हैं। दस्त होने पर इसकी पत्तियों को पानी में उबालें व गुनगुना होने पर पीएं।

4. एलोवेरा (घृतकुमारी) : इनकी पत्तियों में मौजूद जैल शरीर से विषैले तत्त्वों को बाहर निकालकर रोगों से बचाता है। साथ ही त्वचा की झुर्रियों को दूर कर बालों को स्वस्थ रखने और वजन घटाने में कारगर है।
ऐसे करें प्रयोग : पत्तियों के ताजे जैल में थोड़ा शहद, गुलाब जल मिलाकर चेहरे पर लगाएं और 20 मिनट बाद धो लें।

Show More
युवराज सिंह Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned