script जब सरकार हो गई भंग, घायल कारसेवकों पर टूटी पुलिस, पूर्व विधायक ने सुनाई आंखों देखी | Former MLA Omprakash Sharma narrated the story of Babri demolition | Patrika News

जब सरकार हो गई भंग, घायल कारसेवकों पर टूटी पुलिस, पूर्व विधायक ने सुनाई आंखों देखी

locationबूंदीPublished: Jan 22, 2024 03:21:57 pm

Submitted by:

Rakesh Mishra

पूर्व विधायक ओमप्रकाश शर्मा वर्ष 1992 की कारसेवा में जाने पर खुद को भाग्यशाली मानते हैं। बरसों के इंतजार के बाद जब अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा हुई बूंदी के गुरूनानक कॉलोनी निवासी ओमप्रकाश काफी उत्साहित दिखे।

ram_mandir_new_story.jpg
पूर्व विधायक ओमप्रकाश शर्मा वर्ष 1992 की कारसेवा में जाने पर खुद को भाग्यशाली मानते हैं। बरसों के इंतजार के बाद जब अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा हुई बूंदी के गुरूनानक कॉलोनी निवासी ओमप्रकाश काफी उत्साहित दिखे। पूर्व विधायक शर्मा बताते हैं कि कारसेवा के लिए 1992 में बूंदी से 28 नवंबर को जत्था रवाना हुआ, जिसमें उनके साथ रमेश जैन, मोडूलाल वर्मा, मदन सिंह आदि दर्जनों कार्यकर्ता रवाना हुए।
अवध एक्सप्रेस से कोटा से लखनऊ होते हुए 29 नवंबर को अयोध्या पहुंचे, जब 6 दिसंबर 1992 को ढांचा ढ़हाने का घटनाक्रम हुआ। उस समय सैकड़ों लोग घटनास्थल पर घायल हो गए। पूर्व विधायक ओमप्रकाश को फैजाबाद ले जाकर चिकित्सालय में इलाज करवाने की जिम्मेदारी सौंप दी। जब फैजाबाद चिकित्सालय के अंदर घायल कारसेवकों का इलाज चल रहा था, तब ही राज्य सरकार भंग हो गई।
यह भी पढ़ें

रामलला के स्वागत में सजी छोटीकाशी, देखें Video

सरकार भंग होते ही पुलिस ने घायल कार सेवकों को गिरफ्तार करना शुरू कर दिया। इस दौरान पूर्व विधायक शर्मा ने फैजाबाद के तत्कालीन डीएसपी से बात करके घायल कर सेवकों को लेकर जैसे-जैसे करके वहां से एक ट्रक में अयोध्या पहुंच गए। वहां से सभी कारसेवक सकुशल बूंदी पहुंचे। उस दिन सभी कारसेवकों के घर पर भी दीपावली मनी। अब वो सपना आज साकार हुआ।

ट्रेंडिंग वीडियो