मेहनत के कम लगाए दाम तो बिफरे अन्नदाता

कृषि उपज मंडी देई में सोमवार को अपनी जिंसों के भाव कम लगने से किसान आक्रोशित हो गए और मंडी के दरवाजे बंद कर आवागमन बंद कर दिया

By: Nagesh Sharma

Published: 13 Mar 2018, 03:27 PM IST

देई. कृषि उपज मंडी देई में सोमवार को अपनी जिंसों के भाव कम लगने से किसान आक्रोशित हो गए। आक्रोशित किसानों ने मंडी के दरवाजे बंद कर आवागमन बंद कर दिया। एएसआई राकेश कुमार मय जाप्ते के पहुंचे और समझाइस कर किसानों से दरवाजे खुलवाए। किसानों ने थानाधिकारी के नाम अपना ज्ञापन सौंपा। जानकारी के अनुसार मंडी मे रोजाना की अपेक्षा सरसों व चने सहित अन्य जिंसों की ज्यादा मात्रा में आवक हुई।

व्यापारियों द्वारा किसानों की जिंस की बोलियां लगानी शुरू की। पूरी बोलियां लगने से पहले ही कम भाव को लेकर किसान उखड़ गए और व्यापारियों से सही भाव लगाने की मांग की। किसानों ने एक साथ ढेरों की बोलियां लगाने का भी विरोध किया। इसके बाद किसानों ने व्यापारियों पर मनमानी करने का आरोप लगाते हुए मंडी गेट के दरवाजे बंद कर दिए। मौके पर पुलिस बुलानी पड़ी। किसानों ने बताया कि मंडी में सरसों ३३०० व चना ३००० न्यूनतम मूल्य पर बोली लगाई जा रही है। वही एक साथ पचास ढेरो की बोली लगाकर अच्छे व बुरे माल के एक ही भाव लगाए जा रहे है। विरोध के चलते बोली बीच में बंद हो गई। पुलिस ने समझाइस कर वापस तुलाई शुरू करवाई।

दूसरी बार में भी नहीं मिला अच्छा दाम
मंडी में चने की जिंस लेकर पहुंचे देवरियां निवासी किसान कस्तूरा मीणा ने बताया कि दुबारा बोली शुरू होने के बाद भी उसके अच्छे चने के ३२०० रुपए ही लगाए हंै। किसान ने माल की तुलाई से मना कर दिया। कही किसानों ने अपनी जिंसें नहीं बेची। किसानों ने बताया कि दुबारा तुलाई शुरू होने के बाद नाममात्र के व्यापारी बोली लगवाने पहुंचे हैं। इसलिए दूसरी बार शुरू हुई बोली के बाद भी किसानों को उचित दाम नही मिले है। वही इस बारे में मंडी प्रतिनिधि प्रभुदयाल ने बताया कि सोमवार को सरसों ३३००-३७५२ व चना ३०००-३४०० के भाव रहे है। किसान अपनी मर्जी से माल बेच सकता है।

कक्षा कक्षों में धूल व जाले मिले, प्रधानाचार्य को दिया नोटिस
नैनवां. जिला शिक्षाधिकारी माध्यमिक तेजकंवर ने सोमवार को उपखंड के समीधी के उच्च माध्यमिक विद्यालय का औचक निरीक्षण् किया। विद्यालय में कई प्रकार की अनियमितता मिलने पर विद्यालय की प्रधनाचार्य निर्मला मीणा को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।
जिला शिक्षाधिकारी ने बताया कि विद्यालय का सुबह सवा 11 बजे निरीक्षण किया। विद्यालय की सफाई व्यवस्था चौपट नजर आई। कक्षा कक्षों में धूल भरी हुई थी। लहर कक्ष व प्रधानाचार्य कक्ष में जाले आ रहे थे। लहर कक्ष में लोहे का सामान डालकर रखा था, जिससे कोई भी दुघर्टना हो सकती थी। प्रधानाचार्य ने अध्ययन कार्य व गृह कार्य का प्रतिमाह निरीक्षण न करके गंभीर लापरवाह बरती गई। प्रधानाचार्य द्वारा दैनन्दिनी का संधारण भी नही किया और स्टाफ की दैनन्दनी भी प्रस्तुत नहीं की। विद्यालय में उपस्थिति भी बहुत कम मिली। जिला शिक्षाधिकारी ने कहा कि विद्यालय में मिली अनियमितता को लेकर प्रधानाचार्य के खिलाफ कार्रवाई को लिखा जाएगा।

Show More
Nagesh Sharma Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned