script दो लाख 95 हजार मच्छरदानियों का होगा वितरण, जल्द सिवनी से पहुंचेगी जिले में | Two lakh 95 thousand mosquito nets will be distributed | Patrika News

दो लाख 95 हजार मच्छरदानियों का होगा वितरण, जल्द सिवनी से पहुंचेगी जिले में

locationछिंदवाड़ाPublished: Feb 03, 2024 05:04:37 pm

स्वास्थ्य विभाग ने 2023 तक मलेरिया मुक्त करने का लक्ष्य रखा है जिसको लेकर लगातार प्रयास किए जा रहे है जिसका रिजल्ट भी देखने में आ रहा है। 2023 में मलेरिया का आंकड़ा 98 केस तक पहुंचा है जबकि पूर्व में यह आंकड़ा काफी ज्यादा था। जिले के 539 गांवों में पूर्व में मलेरिया के मरीज मिले है जहां पर मलेरिया विभाग दवा का छिडक़ाव व मेडिकोटेड मच्छरदानी का वितरण लगातार कर नियंत्रित करने का कार्य किया जा रहा है।

photo_6190611830498507321_y.jpg
mosquito nets will be distributed
छिंदवाड़ा। स्वास्थ्य विभाग ने 2023 तक मलेरिया मुक्त करने का लक्ष्य रखा है जिसको लेकर लगातार प्रयास किए जा रहे है जिसका रिजल्ट भी देखने में आ रहा है। 2023 में मलेरिया का आंकड़ा 98 केस तक पहुंचा है जबकि पूर्व में यह आंकड़ा काफी ज्यादा था। जिले के 539 गांवों में पूर्व में मलेरिया के मरीज मिले है जहां पर मलेरिया विभाग दवा का छिडक़ाव व मेडिकोटेड मच्छरदानी का वितरण लगातार कर नियंत्रित करने का कार्य किया जा रहा है। इस वर्ष जिले के चिंहित गांवों में दो लाख 95 हजार 200 मेडिकोटेड मच्छरदानियों का वितरण किया जाएगा। वर्तमान में यह मच्छरदानियां फरवरी के अंतिम समय तक जिले में बंट जाएगी। अभी भोपाल स्तर से यह मच्छरदानियों सिवनी में डम्प की गई है जहां से आसपास के सभी जिलों में पहुंचाने का कार्य किया जाएगा। - सबसे ज्यादा प्रभावित रहता है जुन्नारदेव
तामिया, हर्रई और जुन्नारदेव विकासखंड को विभाग ने अतिसंवेदनशील क्षेत्रों में शामिल किया है। इन तीनों विकासखंड में से जुन्नारदेव में ज्यादा मामले सामने आते रहे है। विभाग लगातार पूर्व में प्रभावित गांवों में सर्वे कर जांच कर रहा है। इसके साथ ही अमरवाड़ा, चौरई, बिछुआ में भी मलेरिया के केस सामने आए है। - 2014 में थे 4020 मलेरिया के केस
मलेरिया के 2014 में 4020 केस सामने आए थे जो कम होते होते 2023 में 98 तक पहुंच गए है। विभाग ने जिले के प्रभावित गांवों में 2017, 2019 तथा 2020 में मच्छरदानियों का वितरण किया था। विभाग प्रत्येक चार वर्ष में इन मच्छरदानियों का रिप्लेसमेंट करता है। पिछले बार बांटी गई मच्छरदानियों के स्थान पर अब नई मच्छरदानियां बांटी जाएंगी। - इनका कहना है।
जिले में इस माह अंत तक दो लाख 95 हजार 200 मेडिकोटेड मच्छरदानियां बांटी जानी है। पूर्व में 2020 में बांटी गई थी जिसे रिप्लेसमेंट किया जाएगा। तेजी से जांच व मच्छरदानियों के उपयोग से मलेरिया के केस लगातार कम हुए है। पिछले वर्ष 98 केस सामने आए थे। डॉ देेेवेंद्र भालेकर, जिला मलेरिया अधिकारी, छिंदवाड़ा।

ट्रेंडिंग वीडियो