लॉकडाउन: सोशल डिस्टेंस का ये तरीका भीड़ लगाने वालों के लिए है सबक

दुनिया के कई देशों के बाद अब भारत इस अदृश्य दानव से युद्ध कर रहा है

चित्रकूट: "कोरोना" से फाइट करने में सोशल डिस्टेंसिंग एक बड़ा उपाय माना जा रहा है. इस खतरनाक वायरस के कहर के सामने घुटने टेक चुके दुनिया के कई देशों के बाद अब भारत इस अदृश्य दानव से युद्ध कर रहा है. जिसके तहत "सोशल डिस्टेंसिंग" पर काफी जोर दिया जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी देश के नाम अपने पहले व दूसरे संबोधन में इस बारे में देशवासियों से अपील की कि कोरोना से लड़ने में सोशल डिस्टेंसिंग की खासी भूमिका है यानी एक दूसरे के सम्पर्क में न आएं व भीड़ भाड़ से दूर रहें.

वायरल हो रहीं तस्वीरें भीड़ लगाने वालों को सबक

अब जबकि 21 दिन के लिए पूरा देश लॉकडाउन हो चुका है यानी घर में ही रहना है. लेकिन रोजमर्रा की आवश्यक सामग्रियों(राशन दवा फल सब्जी दूध आदि) की पूर्ति हेतु दुकानें व मेडिकल स्टोर्स खुलने की अनुमति दी गई नियत समयावधि में तो ऐसे में उक्त स्थानों पर लोगों की भीड़ भी देखी जा रही है. ऐसे में इन जगहों पर सोशल डिस्टेंसिंग क्रिएट करने के कई तरीके व उनसे संबंधित तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं जो भीड़ लगाने वालों के लिए सबक है. जनपद में भी कई दुकान व मेडिकल स्टोर्स वालों ने इस फॉर्मूले को अपनाया है. बतौर उदाहरण जनपद के मानिकपुर कस्बे में दैनिक उपयोग की वस्तुएं दवा आदि लेने निकले लोगों को खास तरीके से एक दूसरे से 1 से डेढ़ मीटर दूर खड़ा कर उन्हें समान देने की तस्वीरें सामने आई है. 1 से डेढ़ मीटर दूरी नापकर लोगों को दुकान के सामने खड़ा कराया गया और एक एक कर उन्हें उनकी जरूरत की चीजें दी गईं. लोगों ने भी इसका पालन किया.


पुलिस भी है मुस्तैद


लॉकडाउन का पालन करवाने के लिए पुलिस भी मुस्तैद नज़र आ रही है. जनपद के मिर्जापुर-झांसी राष्ट्रीय राजमार्ग पर पुलिस ने आवश्यक व अनुमति प्राप्त वाहनों लोगों को छोड़कर अनायास ही निकले लोगों से कड़ाई करते हुए उन्हें घर में ही रहने की हिदायत दी व कोरोना से लड़ने में लॉकडाउन की जरुरत क्यों है इसके बारे में बताया भी. पुलिस अधीक्षक अंकित मित्तल खुद भी राजमार्ग पर नज़र आए लॉकडाउन का पालन करवाने को लेकर.

Corona virus COVID-19
आकांक्षा सिंह Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned