Javagal Srinath ने 17 साल बाद किया खुलासा, Team India जीत सकती थी World Cup 2003

Javagal Srinath ने कहा कि World Cup 2003 फाइनल Team India जीत सकती थी, लेकिन यह याद रखना चाहिए कि हम उस वक्त की सबसे बेहतरीन टीम के खिलाफ खेल रहे थे।

By: Mazkoor

Updated: 15 Jun 2020, 11:20 PM IST

नई दिल्ली : टीम इंडिया (Team India) पहली बार 1983 के विश्व कप (ICC OdI World Cup 1983) में फाइनल में पहुंची और कपिल देव (Kapil Dev) के नेतृत्व में वेस्टइंडीज को हराकर पहली बार विश्व विजेता बनी। इसके बाद जब दूसरी बार टीम इंडिया 2003 में सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) के नेतृत्व में दक्षिण अफ्रीका में हुए विश्व कप (ICC OdI World Cup 2003) के फाइनल में पहुंची तो भारतीय प्रशंसकों से लेकर टीम इंडिया के खिलाड़ियों की उम्मीदें भी बढ़ गई थी। लगा कि टीम इंडिया एक बार और इतिहास रचेगी। लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ फाइनल में भारत को एकतरफा मुकाबले में 125 रनों की शर्मनाक हार झेलनी पड़ी। इस विश्व कप में तेज गेंदबाजी आक्रमण का जिम्मा टीम इंडिया की तरफ से जवागल श्रीनाथ (Javagal Srinath), जहीर खान (Zahir Khan) और आशीष नेहरा (Ashish Nehra) संभाल रहे थे। इन तीनों को ही जोहॉन्सबर्ग में खेले गए फाइनल में कोई विकेट नहीं मिला था। इस कारण ऑस्ट्रेलिया ने निर्धारित 50 ओवर में 359 रनों का विशाल स्कोर खड़ा कर दिया था। इस विश्व कप के 17 साल बाद बात करते हुए तेज गेंदबाज जवागल श्रीनाथ ने कहा कि हम जीत सकते थे।

5 छक्कों ने Yuvraj Singh को किया 15 दिन तक परेशान, नींद उड़ गई थी, 13 साल बाद किया खुलासा

भारतीय तेज गेंदबाजों की हुई थी जबरदस्त धुनाई

इस मैच में ऑस्ट्रेलिया के सिर्फ दो विकेट गिरे थे और यह दोनों विकेट हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने लिए थे। इस मैच में ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग (Ricky Ponting), डेमियन मार्टिन (Damien Martin) और एडम गिलक्रिस्ट (Adam Gilchrist) ने मिलकर भारतीय तेज गेंदबाज जहीर खान, आशीष नेहरा और जवागल श्रीनाथ की जमकर धुनाई की थी। इन तीनों ने अपने कोटे में 211 रन खर्च कर दिए थे और किसी को एक भी विकेट नहीं मिला था। श्रीनाथ ने 10 ओवर में 87 रन दिए थे। अब श्रीनाथ ने कहा कि 2003 विश्व कप का फाइनल जीतकर वह अपने करियर को परफेक्ट तरीके से खत्म कर सकते थे, लेकिन ऐसा नहीं हो सका था।

दुनिया की सबसे बेहतर टीम के खिलाफ हम जीत सकते थे

श्रीनाथ ने कहा कि 2003 विश्व कप फाइनल टीम इंडिया जीत सकती थी, लेकिन यह याद रखना होगा कि उस वक्त हम दुनिया की सबसे अच्छी टीम के खिलाफ खेल रहे थे। वह टीम जबरदस्त फॉर्म में थी और कोई भी उनके आस-पास नहीं पहुंच पा रहा था। हम फाइनल हार गए और वह इस मैच में कुछ नहीं कर पाए। श्रीनाथ ने कहा कि वह फाइनल मैच जीतना उनके करियर की सबसे बड़ी उपलब्धि हो सकती थी, लेकिन जिंदगी में आपको सबकुछ नहीं मिलता।

Irfan Pathan बोले, Team India के पास चैम्पियन बनने के लिए सबकुछ, सिर्फ योजना नहीं

अलग ट्राई किया होता तो नतीजा बदल सकता था

श्रीनाथ ने कहा कि माना कि ऑस्ट्रेलिया उस समय सर्वश्रेष्ठ टीम थी, लेकिन भारत ने कुछ चीजें अलग तरीके से की होतीं तो शायद नतीजा कुछ और हो जाता। उन्होंने कहा कि इस बारे में हमने बात की थी। क्या अगर हम पहले बल्लेबाजी करते तो कुछ और होता? लेकिन ये सब बातें मैच के बाद हो रही थी। उन्हें बस यही लगता है कि ऑस्ट्रेलिया बेहतर टीम थी। उसी टीम ने इससे पहले वाला विश्व कप भी जीता था। उन्हें लगता है कि उस समय हम सभी को अपनी क्षमता से दोगुना अच्छा खेलने की जरूरत थी। शायद यह सर्वश्रेष्ठ तरीका होता।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned