भुवनेश्वर कुमार ने कहा: टेस्ट पर सीमित ओवर के क्रिकेट को प्राथमिकता नहीं देता

श्रीलंका के खिलाफ सीमित ओवरों की सीरीज के लिए टीम के उपकप्तान बनाए गए भुवनेश्वर ने कहा, 'ईमानदारी से कहूं तो मेरे लिए प्राथमिकता बोलकर कुछ नहीं है, चाहे लाल गेंद हो या सफेद।'

By: Mahendra Yadav

Published: 17 Jul 2021, 01:44 PM IST

भारतीय तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार का कहना है कि वह टेस्ट क्रिकेट के बदले सीमित ओवर के क्रिकेट को प्राथमिकता नहीं देते हैं और जिस प्रारूप में उन्हें खेलने के लिए कहा जाएगा वह उसके लिए तैयार हैं। श्रीलंका के खिलाफ सीमित ओवरों की सीरीज के लिए टीम के उपकप्तान बनाए गए भुवनेश्वर ने कहा, ईमानदारी से कहूं तो मेरे लिए प्राथमिकता बोलकर कुछ नहीं है, चाहे लाल गेंद हो या सफेद।

तीनों प्रारूप में खेलने के लिए तैयार
साथ ही उन्होंने कहा,'अगर मुझे टेस्ट क्रिकेट के लिए चुना जाता है तो मैं इसमें योगदान देने की कोशिश करूंगा। मैं टेस्ट क्रिकेट के ऊपर सीमित ओवरों के क्रिकेट को प्राथमिकता नहीं देता हूं। सभी प्रारूपों में खेलने के लिए सामान्य रूप से काम करता हूं। उन्होंने कहा,'अगर मुझे किसी भी प्रारूप में खेलने का मौका मिलता है तो मैं इसमें योगदान देने की कोशिश करूंगा। मैंने खुद को तीनों प्रारूप में खेलने के लिए तैयार किया है।'

यह भी पढ़ें— इन 5 भारतीय खिलाड़ियों के लिए श्रीलंका दौरा वापसी के लिए अंतिम मौका, नहीं तो खत्म हो सकता है कॅरियर!

2018 के बाद नहीं खेला टेस्ट
31 वर्षीय तेज गेंदबाज ने जनवरी 2018 के बाद से टेस्ट नहीं खेला है। वह आखिरी बार दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट खेले थे। भुवनेश्वर ने कहा, 'मैं अपने करियर से संतुष्ट हूं। चोट लगती रहती है और उतार-चढ़ाव आते रहते हैं। मैं चोट से जल्द से जल्द उबरकर ग्राउंड में वापसी करने की कोशिश करता हूं। मैं जो भी योगदान दे सकता हूं, भविष्य में भी देना चाहता हूं।' भुवनेश्वर ने भारत के लिए अबतक 117 वनडे और 48 टी20 मैच खेले हैं और वह टीम के अनुभवी गेंदबाज हैं।

यह भी पढ़ें— युवराज ने धवन और भुवनेश्वर को लेकर शेयर किया पुराना किस्सा, बोले-'मजेदार होने वाली है कप्तानी'

'पाकिस्तान के खिलाफ खेलना हमेश रोमांचक'
भुवनेश्वर कुमार ने भारत—पाकिस्तान मैच को लेकर कहा कि पाकिस्तान के खिलाफ खेलना हमेशा रोमांचक होता है और इस मैच में हमेशा दबाव रहता है। ऐसे में यह यह मुकाबला बेहद कड़ा होगा। साथ ही उन्होंने कहा फिलहाल उन्होंने इसके बारे में कुछ सोचा नहीं है, कि यह कैसा होगा क्योंकि अभी इससे पहले काफी क्रिकेट बचा है। उनका कहना है कि अभी टीम को श्रीलंका में मैच खेलने हैं, इंग्लैंड में टेस्ट मैच है, फिर आईपीएल है और इसके बाद विश्व कप होगा। उनका कहना है कि आईपीएल खत्म होने के बाद वे विश्व कप के बारे में सोचना शुरू कर देंगे।

Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned