26/11 हमला: 27 गवाहों पर अटकी पाक की सुई, भारत ने उनकी सुरक्षा की मांग दोहराई

पाकिस्तान है कि आज भी 27 गवाहों की गवाही पर अडंगा लगा रहा है ताकि उसे मामले पर कार्रवाई न करना पड़े और सभी आरोपियों को बरी कर दिया जाए।

By: Anil Kumar

Updated: 25 Nov 2018, 04:03 PM IST

मुंबई। 26 नवंबर को मुंबई हमले के 10 वर्ष पूरे हो जाएंगे, लेकिन आज भी लोगों के जहन में आतंक का यह खौफ जिन्दा है। इस हमले में 160 से अधिक बेकसूर लोग मारे गए थे जबकि 600 से अधिक घायल हो गए थे। इस हमले में लोहा लेते हुए मुंबई पुलिस के तीन बड़े अधिकारी शहीद हो गए थे। जबकि एक आतंकी कसाब को जिन्दा पकड़ लिया गया था जिसे बाद में देश की सर्वोच्च अदालत ने सुनवाई के बाद दोषी मानते हुए फांसी की सजा दी। हालांकि इस मामले को लेकर भारत ने कई सबूत पाकिस्तान को दिए लेकिन मानने से इनकार कर दिया। यहां तक कि कसाब को भी अपन बताने से मना कर दिया। भारत लगातार पाकिस्तान को सबूत देता रहा है और हर बार पाकिस्तान इसे मनगढ़ंत दस्तावेज बताकर मानने से इनकार कर देता है। इसी कड़ी में भारत उन 27 गवाहों की भी गवाही देने को तैयार है जो कि हमले के पीड़ित हैं। लेकिन पाकिस्तान है कि आज भी इन 27 गवाहों की गवाही पर अडंगा लगा रहा है ताकि उसे मामले पर कार्रवाई न करना पड़े और सभी आरोपियों को बरी कर दिया जाए। बता दें कि मुंबई में समंदर के रास्ते घुसे पाकिस्तानी आतंकियों ने ताज होटल और सडकों पर खूनखराबा मचाया था।

26/11 मुंबई आतंकी हमले के आरोपी अबु जिंदाल के ट्राइल पर कोर्ट ने 11 जून तक लगाई रोक

पाक की अदालत में हो रही है सुनवाई

आपको बता दें कि मुंबई हमले की सुनवाई पाकिस्तान की सर्वोच्च अदालत में चल रही है। पाक अदालत हमले से संबंधित 27 भारतीय गवाहों अपने यहां पेश होने को कह रही है। लेकिन पाकिस्तान इससे जुड़े मुकदमों को लेकर तरह-तरह के अड़ंगे लगा रहा है। इसी वर्ष जनवरी में पाकिस्तान ने भारत से कहा था कि गवाहों को इस्लामाबाद भेज दें। हालांकि भारत ने यह कहते हुए भेजने से मना कर दिया कि पाकिस्तान फिर से आंख में धूल झोंकने का काम कर रहा है। भारत ने कहा कि यदि पाकिस्तान कार्रवाई करना चाहता है तो फिर पहले डेविड हेडली की गवाही को रिकॉर्ड पर लेकर सभी आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करे।

26/11: पाकिस्तान पर बरसे जेटली, कहा- हाफिज सईद मामले में पूरी दुनिया एकजुट

भारत ने मांग की गवाहों की सुरक्षा

बता दें कि भारत मांग कर रहा है कि पाकिस्तान सबसे पहले 27 गवाहों की सुरक्षा को सुनिश्चित करे, लेकिन इस मसले पर पाकिस्तान खामोश है। भारत का कहना है कि भारत गवाहों के बयान रिकॉर्ड कराने को तैयार है। इसके लिए या तो वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए किया जाए या फिर पहले की तरह एक अपना न्यायिक आयोग भारत भेजे। लेकिन पाकिस्तान इसके लिए तैयार नहीं है। इसपर भारत ने कहा है कि पाकिस्तान ऐसे बहाने कर एक दिन सारे आरोपियों को छोड़ देगा और इसका सारा दोष भारत पर मढ़ देगा।

हाफिज सईद ने चेताया, अमरीका के आगे झुकता रहा पाक तो परमाणु कार्यक्रम हो जाएगा बंद

पूरी साजिश का मास्टरमाइंड है लखवी और हाफिज

बता दें कि इस पूरे मामले को लेकर विशेष लोक अभियोजक उज्ज्वल निकम ने खुलासा किया कि पाकिस्तान की अदालत में जो भी मुकदमें चल रहे हैं उसका संबंध मुंबई हमले की साजिश से संबंधित है, लेकिन 27 गवाहों का संबंध हमले से है। अब पाकिस्तान इसी बिन्दू पर आकर अटक गया है। जबकि इस हमले का असली गवाह लश्कर आतंकी अमेरिकी नागरिक डेविड हेडली है जिसके बयान को पाकिस्तान लगातार नजरअंदाज कर रहा है। हेडली पहले ही बता चुका है कि मुंबई हमले की पूरी साजिश पाकिस्तान में रची गई जिसका मास्टरमाइंड जकी-उर-रहमान लखवी है। बता दें कि हेडली फिलहाल अमरीकी जेल में बंद है। उन्होंने यह भी बताया था कि इस हमले का सरगना लश्कर प्रमुख पाकिस्तान एटीएस ने 2009 में लखवी के अलावा अब्दुल वाहिद, मजहर इकबाल, हम्माद अमीन सादिक, शाहिद जमील रियाज, जमील अहमद और युनूस अंजुम को मुंबई हमले की साजिश में गिरफ्तार किया था। पिछले साल पूरे हमले के फाइनेंसर सुफिया जफर को भी गिरफ्तार किया गया लेकिन पाक अदालत ने लखवी को जमानत पर रिहा कर दिया है।हाफिज सईद है लेकिन पाकिस्तान हेडली की बात को रिकॉर्ड पर लेने से आनाकानी कर रहा है। इसके अलावे महाराष्ट्र के बीड जिला का रहने वाला जैबुद्दीन अंसारी उर्फ अबू जुंदाल ने भी लखवी और हाफिज को भी मुंबई हमले के लिए जिम्मेदार माना था। मालूम हो कि पाकिस्तान एटीएस ने 2009 में लखवी के अलावा अब्दुल वाहिद, मजहर इकबाल, हम्माद अमीन सादिक, शाहिद जमील रियाज, जमील अहमद और युनूस अंजुम को मुंबई हमले की साजिश में गिरफ्तार किया था। बीते वर्ष इस हमले के फाइनेंसर सुफिया जफर को भी गिरफ्तार किया गया हालांकि पाक अदालत ने लखवी को जमानत पर रिहा कर दिया और भारत से कुछ ठोस सबूत पेश करने को कहा। साथ ही अभी तक हाफिज के खिलाफ भी कोई कार्रवाई नहीं की है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned