भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में एक और मुकदमा दर्ज, बलबाइयों ने आग के हवाले कर दी थी दुकान

भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में एक और मुकदमा दर्ज, बलबाइयों ने आग के हवाले कर दी थी दुकान

Dhirendra Kumar Mishra | Publish: Dec, 05 2018 09:43:30 AM (IST) क्राइम

पुणे में एक जनवरी, 2018 को भीमा कोरेगांव हिंसा को असामाजिक तत्‍वों ने अंजाम दिया था।

नई दिल्‍ली। पुणे पुलिस ने चर्चित भीमा कोरेगांव मामले में एक और एफआईआर दर्ज की है। एक महिला की शिकायत पुलिस ने केस दर्ज की है। महिला ने अपनी शिकायत में बताया है कि हिंसा के दौरान उसे घर, दुकान और फूड स्टॉल को उत्‍पातियों ने बर्बाद कर दिया था। इस मामले में पुलिस ने चार को नामजद करते हुए 25 लोगों के खिलाफ नया मामला दर्ज किया है। बता दें कि एक जनवरी, 2018 को भीमा कोरेगांव हिंसा को असामाजिक तत्‍वों ने अंजाम दिया था।

अगस्ता-वेस्टलैंड सौदे में CBI को सफलता, दुबई से भारत लाया गया बिचौलिया मिशेल

बलबाइयों ने दुकान को आग के हवाले कर दिया
यह शिकायत भीमा कोरेगांव निवासी मंगल कांबले ने शिकरापुर थाने में दर्ज कराई। इसमें उन्होंने बताया है कि पहली जनवरी को दिन के करीब 11 बजे 15-20 मोटरसाइकिलों से लोग जय स्तंभ स्थित उनकी दुकान पर पहुंचे। आरोपियों ने सबको दुकान से बाहर करते हुए उसे आग के हवाले कर दिया। समूह में शामिल एक व्यक्ति ने मंगल को छड़ी से भी पीटा। हिंसा में शामिल लोगों की धमकी के बाद उन्हें परिवार के साथ पुणे के हडपसर भागना पड़ा। अगले दिन करीब दो बजे पड़ोसी ने फोन करके मंगल को उनके घर, दुकान और स्टॉल के जलकर बर्बाद होने की सूचना दी। इस घटना को लेकर 11 महीने बाद रिपोर्ट दर्ज कराने की बात पर मंगल ने कहा कि उस दिन पुलिस ने पंचनामा किया था, लेकिन वह नुकसान का ब्योरा नहीं दे पाई थीं। अब जब उन्हें पता चला कि हिंसा पीडि़तों को सरकार मुआवजा दे रही है तो उन्होंने रिपोर्ट दर्ज कराने का फैसला किया।

अगस्ता वेस्टलैंड: ऑपरेशन 'यूनिकॉर्न' सफल, क्रिश्चियन मिशेल को आज अदालत में पेश करेगी सीबीआई

एससी-एसटी एक्‍ट में मामला दर्ज
इस मामले में भीमा कोरेगांव निवासी संग्राम ढेरंगे, प्रकाश काशिद व मुकुंद गावहने तथा दिगराजवाड़ी निवासी विशाल गावहने को नामजद करते हुए 25 लोगों के खिलाफ एससीएसटी एक्ट समेत अन्य गंभीर आपराधिक धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की गई है। अभी किसी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। बता दें कि पुणे-अहमदनगर रोड पर जय स्तंभ 1818 में पेशवा और ईस्ट इंडिया कंपनी के बीच हुए भीमा कोरेगांव युद्ध की याद में बनाया गया था। युद्ध के 200 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में दलित समुदाय के लोग पहली जनवरी को समारोह का आयोजन कर रहे थे, तभी हिंसा हुई।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned