बेटी से रेप का कलंक लेकर मर गया फौजी, दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा- निर्दोष था पिता

बेटी से रेप का कलंक लेकर मर गया फौजी, दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा- निर्दोष था पिता

Shiwani Singh | Publish: Dec, 31 2018 01:41:31 PM (IST) क्राइम

पिता कहते-कहते मर गया की उसने बेटी के साथ रेप नहीं किया।

नई दिल्ली। कहते है सच परेशान हो सकता है, कुछ दिन छिप सकता है लेकिन सच मिट नही सकता, सच सच ही रहता है। ऐसा ही कुछ हुआ के एक पिता के साथ। अपनी बेटी से रेप का कलंक एक पिता ने पूरी जिंदगी झेला। उसे जेल की 10 साल की सजा भी हुई और अपनी बाकी जिंदगी उसने इस कलंक के साथ बिताई और यह कहते-कहते मर गया की उसने बेटी के साथ कुछ नहीं किया। उस समय उसकी यह बात किसी ने नहीं सुनी लेकिन 17 साल बाद अब दिल्ली हाई कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए बाप के सिर से बेटी के बलात्कार का कलंक मिटा दिया।

यह भी पढ़ें-बिहार: औरंगाबाद नक्सली हमले का खुलासा: भाजपा नेता ने नोटबंदी में लिए थे 5 करोड़, नहीं

क्या है मामला...

यह मामला 1996 का है। 1996 में सेना के इंजीनियरिंग सेवा में कार्यकरत एक पिता के खिलाफ उनकी बेटी ने 1991 से लगातार रेप का आरोप लगाया। तब उस वक्त वे जम्मू-कश्मीर के उधमपुर में रहते थे। जांच के बाद ट्रायल कोर्ट ने उसे 10 साल की सजा सुनाई। लेकिन इसी साल फरवरी, 2018 में उसकी मौत हो गई। फैसला सुनाते हुए दिल्ली हाई कोर्ट ने माना की आरोपी पिता लगातार खुद को निर्दोष बताता रहा। उसने जांच में गड़बड़ी की बात कही। लेकिन उसकी किसी ने नहीं सुनी। ट्रायल के दौरान व्यक्ति ने बताया भी कि उसकी बेटी का एक लड़के ने अपहरण किया और उसके साथ यौन संबंध बनाए, जिसके बाद वह गर्भवती हुई। लेकिन, पिता के हर दावे को नकारते हुए जांच एजेंसी ने उनकी एक बात नहीं सुनी। बेकसूर पिता लगातार डीएनए जांच की भी मांग करता रहा, लेकिन इसे भी नज़रअंदाज किया गया। लेकिन लड़की की मां ने अपने पति को न्याय दिलाने के लिए आखिर तक लड़ाई लड़ी।

यह भी पढ़ें-सिख विरोधी दंगा: कांग्रेस नेता सज्जन कुमार आज अदालत में करेंगे समर्पण

अदालत ने जाहिर की चिंता

दिल्ली हाई कोर्ट ने इस मामले पर चिंता जाहिर करते हुए कहा, जांच पूरी तरह एक तरफा थी। कोर्ट ने कहा कि इस पूरे मामले पर अदालत सिवाय अफसोस जाहिर करने के और कुछ नहीं कर सकता। केस में ऐसे कई तथ्य और परिस्थितिया थी जिसे ट्रायल कोर्ट ने अंदेखा किया और एक व्यक्ति को बीना की गलती के सजा भुगतनी पड़ी।

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned