scriptUP Election 2022 Two Chief Minister Yogi Adityanath and Akhilesh Yadav contest from Purvanchal | Uttar Pradesh Assembly Elections 2022: भीषण शीतलहरी में पूर्वांचल हुआ गर्म, दो मुख्यमंत्रियों के चुनावी मैदान में उतरने की आस ने बढ़ाई सरगर्मी | Patrika News

Uttar Pradesh Assembly Elections 2022: भीषण शीतलहरी में पूर्वांचल हुआ गर्म, दो मुख्यमंत्रियों के चुनावी मैदान में उतरने की आस ने बढ़ाई सरगर्मी

Uttar Pradesh Assembly Elections 2022 की गर्मी अब शीतलहर पर हावी होने लगी है। खास तौर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और पूर्व मुख्यंमंत्री अखिलेश यादव के पूर्वांचल से उम्मीदवार होने की चर्चाओं ने माहौल बेहद गर्म हो गया है। जिस रणनीति के तहत भाजपा ने योगी आदित्यनाथ को अयोध्या की बजाय गोरखपुर भेजा फिर अखिलेश यादव पर चुनाव में उतरने का दबाव बनाया। उसके बाद अखिलेश का आजमगढ़ से चुनाव लड़ने के संकेत ने सियासी फि़ज़ा को तल्ख कर दिया है।

वाराणसी

Published: January 20, 2022 12:58:14 pm

वाराणसी. ठिठुरन और भिषण शीतलहरी के दौर में भी Uttar Pradesh Assembly elections 2022 ने माहौल गर्म कर दिया है। खास तौर पर भाजपा ने जिस रणनीति के तहत मुख्यमंत्री आदित्यनाथ को गोरखपुर से टिकट दिया। फिर पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव पर विधानसभा चुनाव लड़ने की चुनौती दी और अखिलेश ने उस चुनौती को स्वीकार कर आजमगढ़ से चुनाव लड़ने के संकेत दिए। उसके बाद से सियासी पारा तेजी से ऊपर चढा है। भाजपा और सपा कार्यकर्ताओं में जोश देखते बन रहा है। राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो इस बार पूर्वांचल की राजनीति कहीं ज्यादा हॉट होने की उम्मीद है।
अखिलेश यादव
अखिलेश यादव
पूर्वांचल को साधने के लिए भाजपा ने योगी को भेजा गोरखपुर

चुनाव की घोषणा होने के साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अयोध्या से चुनाव लड़ने की चर्चाएं आम हो गईं। अयोध्या में योगी के चुनाव लड़ने की तैयारियां भी तेज हो गईं।लेकिन तभी भाजपा थिंक टैंक ने योगी आदित्यनाथ को गोरखपुर का टिकट थमा दिया। इसके पीछे की रणनीति साफ थी कि भारतीय जनता पार्टी, पूर्वांचल के अपने समीकरण को किसी भी सूरत में बिगड़ने नहीं देना चाहती थी। वैसे भी योगी और केशव मौर्या को छोड़ कर पूर्वांचल में इतना बड़ा चेहरा भी नहीं था। फिर बतौर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर से लेकर वाराणसी और प्रयागराज तक में जो काम किए उसे भी योगी के रहते ही और अच्छी तरह से भुनाया जा सकता था।
केशव मौर्या नें अखिलेश को दी चुनौती
योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर से प्रत्याशी होने के बाद भाजपा और खास तौर पर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने सपा अध्यक्ष को भी विधानसभा चुनाव लड़ने की चुनौती दे डाली। बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की ही तरह पांच साल तक एमएलसी ही रहे। ऐसे में अखिलेश ने चुनौती को न केवल स्वीकार किया बल्कि पूर्वांचल के सबसे गर्म क्षेत्र आजमगढ़ से चुनाव मैदान में उतरने के संकेत दे दिए।
आखिर आजमगढ़ के संकेत ही क्यों दिए अखिलेश ने
दरअसल ये तो तय माना जाता है कि यूपी की सत्ता हासिल करने के लिए पूर्वांचल को साधना बेहद जरूरी है। फिर जब योगी आदित्यनाथ अपने सुरक्षित क्षेत्र गोरखपुर गए तो अखिलेश को भी आजमगढ़ ज्यादा मुफीद लगा। वर्तमान में अखिलेश आजमगढ से सांसद भी हैं। इसके अलावा पूर्वांचल की सीटों के लिए अब तक घोषित प्रत्याशियों में योगी के अलावा और कोई बड़ा नेता भी नही है। ऐसे में सपा अध्यक्ष अखिलेश का पूर्वांचल की किसी सीट से न लड़ना बीजेपी को खुला छोड़ने जैसा था। लिहाजा आजमगढ को ही अखिलेश ने प्राथमिकता देते हुए सरगर्मी बडा दी।
सपा और अखिलेश के लिए यूपी में सबसे सुरक्षित जगह है आजमगढ़
वैसे भी योगी आदित्यनाथ हों या अखिलेश यादव, दोनों ही अपने राजनीतिक जीवन में अब तक विधानसभा का चुनाव नहीं लड़े हैं। ऐसे में दोनों को सुरक्षित सीट की दरकार तो है ही। अगगर योगी अपने गढ में बतौर सांसद अजेय हैं तो आजमगढ अखिलेश व मुलायम सिंह के लिए सुरक्षित स्थान है। इसकी सबसे बड़ी वजह सपा के परंपरागत वोटबैंक है। आजमगढ़ शुरू से ही सपा के वाईएम फैक्टर (यादव-मुस्लिम) वोट बैंक का गढ रहा है। आजमगढ की 10 विधआनसभा सीटों में से आधी सीटें सपा के कब्जे में हैं। ऐसे में इससे सुरक्षित सीट हो नहीं सकती।
क्या है वोट का गणित
बता दें कि जब 2019 में अखिलेश यादव आजमगढ़ से सांसद बने तब उन्हें छह लाख 21 हजार मत मिले थे, यानी 34 फीसद। आजमगढ़ की मुबारकपुर, सदर और गोपालपुर सीट अखिलेश के लिए सर्वथा उपयुक्त हैं। वजह, सामाजिक ताना-बाना है। जातीय समीकरण के लिहाज से मुस्लिम, यादव, राजभर, चौहान मिलकर सपा को फायदा पहुंचाते रहे हैं। पिछले लोकसभा चुनाव में ही अखिलेश को मुबारकपुर से एक लाख 36 हजार, सदर से एक लाख 29 हजार मत मिले थे। सदर सीट तो 1996 से सपा के कब्जे में है।
पश्चिम न जाने की वजह
दरअसल 2017 का विधानसभा चुनाव रहा हो या 2019 का लोकसभा चुनाव, दोनों में ही समाजवादियों के गढ़ कहे जाने वाले इटावा, मैनपुरी, फिरोजाबाद में सपा के उसकी अपेक्षा के अनुरूप परिणाम का न आना भी अखिलेश यादव के पूर्वांचल की ओर रुख करने का बड़ा कारण है।
जातीय गठबंधन भी पूर्वांचल में ज्यादा मजबूत
सपा ने जिन जाति आधारित क्षत्रपों संग गठबंधन किया या उनके बड़े नेताओं को पार्टी में शामिल कराया उन सभी का वर्चस्व पूर्वांचल में ही ज्यादा है। चाहे वो ओम प्रकाश राजभर हों या दारा सिंह चौहान अथवा स्वामी प्रसाद मौर्य। आजमगढ़ से चुनाव लड़ने की सूरत में इन तीन क्षत्रपों का भी असर पड़ेगा। एक तरह से कहें तो यादव, मुस्लिम, राजभर और चौहान की चौकड़ी अखिलेश की जीत में सहायक हो सकते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Thailand Open: PV Sindhu ने वर्ल्ड की नंबर 1 खिलाड़ी Akane Yamaguchi को हराकर सेमीफाइनल में बनाई जगहIPL 2022 RR vs CSK Live Updates: रोमांचक मुकाबले में राजस्थान ने चेन्नई को 5 विकेट से हरायासुप्रीम कोर्ट में अपने लास्ट डे पर बोले जस्टिस एलएन राव- 'जज साधु-संन्यासी नहीं होते, हम पर भी होता है काम का दबाव'ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंशिक्षा मंत्री की बेटी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिए बर्खास्त करने के निर्देश, लौटाना होगा 41 महीने का वेतनCBI रेड के बाद तेजस्वी यादव ने केंद्र सरकार पर कसा तंज, कहा - 'ऐ हवा जाकर कह दो, दिल्ली के दरबारों से, नहीं डरा है, नहीं डरेगा लालू इन सरकारों से'Ola-Uber की मनमानी पर लगेगी लगाम! CCPA ने अनुचित व्यवहार के लिए भेजा नोटिस, 15 दिन में नहीं दिया जवाब तो हो सकती है कार्रवाईHyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.