Yes Bank ने जारी किया अलर्ट, सर्विस शुरू करने से पहले ढाई घंटे तक नहीं कर सकेंगे ट्रांजेक्शन

  • 19 मार्च से देश के सभी ब्रांचों में सुचारू रूप से शुरू हो जाएगा काम
  • यस बैंक और आरबीआई का दावा सभी एटीएम में हैं पर्याप्त रुपया
  • मंगलवार को यस बैंक के शेयर 58.65 रुपए प्रति शेयर पर पहुंचा था

By: Saurabh Sharma

Updated: 18 Mar 2020, 10:52 AM IST

नई दिल्ली। यस बैंक खाताधारकों के लिए बड़ी खुशखबरी है। आज यानी 18 मार्च शाम 6 बजे से यस बैंक ( Yes Bank ) पर लगी पाबंदियां हटा ली जाएंगी और अगले दिन 19 मार्च से बैंक में फिर से सभी सर्विस सामान्य तरीके से काम करने लगेगी। उससे पहले आज यस बैंक ने अलर्ट भी जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि घंटे तक बैंक में काम नहीं होगा। सभी सर्विस बंद रहेंगी। यस बैंक के प्रशासक की ओर से मंगलवार को प्रेस कांफ्रेंस में साफ कर दिया गया था कि अब खाताधारकों को घबराने की कोई जरुरत नहीं है। सभी सर्विस को दोबारा से शुरू कर दिया जाएगा। सभी एटीएम में पर्याप्त कैश है। किसी भी खाताधारक को कोई दिक्कत नहीं होगी। वहीं बैंक प्रशासक ने यह भी बताया कि बैंक अपनी आरटीजीएस ( RTGS ), आईएमपीएस ( IMPS ) और एनईएफटी ( NEFT ) की सुविधाएं भी शुरू कर देगी । आपको बता दें कि आरबीआई ने यस बैंक पर अचानक से कई तरह की पाबंदिया लगा दी थी। जिसके बाद खाताधारकों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ा था।

यह भी पढ़ेंः- लगातार दूसरे दिन पेट्रोल और डीजल की कीमत में स्थिरता, जानिए कितना हुआ सस्ता

2.30 घंटे तक नहीं होगा कोई काम
वहीं दूसरी ओर यस बैंक की ओर से अलर्ट भी जारी किया गया है। जिसके तहत आज याली 18 मार्च को शाम 6 बजे सभी पाबंदियां हटने और सभी सर्विस शुरू होने से पहले दोपहर 3 बजकर 30 मिनट से लेकर शाम 6 बजे तक मौजूदा समय में चल रही सभी सर्विस को बंद कर दिया जाएगा। इसका मतलब ये हुआ कि कोई भी यूपीआई के जरिए भी ट्रांजेक्शन नहीं कर पाएगा।

सिर्फ एक तिहाही ने निकाले 50 हजार रुपए
जानकारी के अनुसार मोरेटोरियम के दौरान सिर्फ यस बैंक के एक तिहाई ग्राहकों ने बैंक से सिर्फ 50,000 रुपए निकाले। बैंक को दोबारा से खड़ा करने के लिए स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ( State Bank of India ) 7250 करोड़ रुपए का निवेश कर रही है। एसबीआई चीफ रजनीश कुमार के अनुसार यस बैंक के शेयर अगले तीन सालों तक नहीं बेचे जाएंगे। उन्होंने यह कदम छोटे निवेशकों को बचाने के लिए किया है। उनका मकसद सभी शेयरहोल्डर्स को सुरक्षित रखना है। वहीं दूसरी ओर एचडीएफसी, आईसीआईसीआई ने भी यस बैंक में हिस्सेदारी खरीदी है।

यह भी पढ़ेंः- Coronavirus App से सावधान! Smartphone हमेशा के लिए कर देगा लॉक

हिस्सेदारी लेते ही 6 गुना का मुनाफा
यस बैंक में अब तक इक्विटी खरीदने वाले घरेलू वित्तीय संस्थानों को प्राइवेट बैंक की रिस्ट्रक्चरिंग स्कीम के तहत अप्रत्याशित लाभ हुआ। सात प्राइवेट बैंक और सार्वजनिक क्षेत्र के तहत आने वाले भारतीय स्टेट बैंक ने 10 रुपए मूल्य पर यस बैंक के 1,000 करोड़ शेयर खरीदकर बैंक में 10,000 करोड़ रुपए डाले। मंगलवार को बैंक के शेयर की कीमत 58.65 रुपए प्रति शेयर पर बंद हुआ। अगर निवेशक इन शेयरों का एक अंश बेचते हैं कि उनको तकरीबन छह गुना अधिक रिटर्न प्राप्त हो सकता है।

यह भी पढ़ेंः- कोरोना वायरस का खौफ, Apple ने दुनियाभर के सैकड़ों रीटेल स्टोर को बंद करने का किया ऐलान

ICICI और HDFC को भी लाभ
वहीं दूसरी ओर आईसीआईसीआई बैंक और हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉरपोरेशन ने यस बैक में एक-एक हजार करोड़ रुपये के 100-100 करोड़ शेयर खरीदे हैं। अगर ये बैंक अपने निवेश का 25 फीसदी अर्थात 25 करोड़ शेयर भी बेचते हैं तो प्रत्येक को यस बैंक के शेयर के वर्तमान मूल्य पर करीब 1,500 करोड़ रुपए प्राप्त होंगे। इस प्रकार न सिर्फ उनको पूरी निवेश राशि की वसूली होगी, बल्कि अच्छा मुनाफा भी मिलेगा।

Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned