No Claim Bonus: कम प्रीमियम में बढ़ाना चाहते हैं स्वास्थ्य बीमा कवरेज तो नो क्लेम बोनस का उठाएं लाभ

 

No Claim Bonus: ग्राहकों के लिए यह सुविधा एक तरह से रिवार्ड फीचर है। बीमा कंपनियां इसका लाभ क्लेम नहीं लेने पर देती हैं।

By: Dhirendra

Updated: 20 Aug 2021, 04:48 PM IST

No Claim Bonus: हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी ( Health Insurance Policy ) की अवधि के दौरान कोई क्लेम नहीं लेने वाले ग्राहकों को बीमा कंपयनियां नो क्लेम बोनस ( No Claim Bonus) की सुविधा देती हैं। यह बीमा क्लेम नहीं लेने वाले ग्राहकों के लिए एक रिवार्ड फीचर जैसा है। मेडिकल इंफ्लेशन के दौर में यह सुविधा ग्राहकों के लिए काफी अहम हो गया है। कोरोना महामारी की वजह से इस फीचर की अहमियत पहले से ज्यादा बढ़ गई है। इसलिए क्लेम नहीं लेने वाले ग्राहक इस सुविधा का लाभ उठाते हुए बीमा कवरेज में इजाफे के साथ कम प्रीमियम का लाभ उठा सकते हैं।

नो क्लेम बोनस के फायदे

नो क्लेम बोनस ( NCB ) की खासियत यह है हर क्लेम-फ्री वर्ष में आपका बीमा कवरेज का दायरा बढ़ जाता है। इस स्कीम के तहत बीमा कंपनियों जो बोनस देती हैं उसके आधार पर ग्राहक बीमा प्रीमियम में छूट भी पा सकते हैं। इसके अलावा, बीमा कंपनियां पॉलिसी प्रीमियम में बिना किसी बदलाव के बीमा कवरेज बढ़ाने और जिम, स्पा व योग सब्सक्रिप्शंस या वेलनेस से जुड़े हुए प्रॉडक्ट्स की सुविधा अपने ग्राहकों को ऑफर करती हैं।

Read More: National Pension Scheme: केवल 50 रुपए जमा कर पाएं 34 लाख, ये है पूरा गणित

कंपनी बदलने पर भी उठा सकते हैं इसका लाभ

अगर आप मौजूदा बीमा कंपनी से खुश नहीं है और दूसरी बीमा कंपनी ( Insurance Company ) के पास शिफ्ट होना चाहते हैं तो यह बोनस भी आपके खाते में वहां ट्रांसफर हो जाता है। इस सुविधा का लाभ तभी मिलता है जब आप हेल्थ पॉलिसी को रिन्यू डेट से पहले ही रिन्यू करा लें। बीमा कंपनियां शुरुआती रिन्यूअल डेट से 30 दिनों तक का समय रिन्यू कराने के लिए देती हैं। अगर इस दौरान भी पॉलिसी रिन्यू नहीं करा पाए तो बोनस की सुविधा लेने से आप वंचित हो जाएंगे। इस सुविधा का लाभ ग्राहक सिंगल और फैमिली फ्लोटर दोनों हेल्थ इंश्योरेंस प्लान में उठा सकते हैं।

कितना मिलेगा बोनस?

बोनस की मात्रा बीमा कंपनियों की शर्तों पर निर्भर करती हैं। इसलिए इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदते समय बीमा कंपनियां एनसीबी के तहत क्या ऑफर दे रही हैं, इसे जरूर चेक कर लेना चाहिए। कुछ बीमा कंपनियां 200 फीसदी तक सम इंश्योर्ड बढ़ाने की सुविधा देती हैं। जैसे कि अगर किसी शख्स ने 5 लाख रुपए का हेल्थ इंश्योरेंस प्लान खरीदा है और लगातार चार साल तक उसने कोई क्लेम नहीं किया है तो हर साल उसका सम इंश्योर्ड 50 फीसदी यानी 2.5 लाख रुपए तक बढ़ सकता है। चार साल बाद सम इंश्योर्ड 15 लाख रुपए का हो जाएगा।

Read More: 2025 तक सभी घरों में लगेंगे प्रीपेड स्मार्ट मीटर, शहरी क्षेत्रों में पहले मीटर लगाने पर जोर

अगर आपने हेल्थ इंश्योरेंस प्लान के तहत किसी पॉलिसी अवधि में सम इंश्योर्ड का 10 फीसदी तक भी क्लेम कर लिया तो एनसीबी का फायदा नहीं मिलेगा। लेकिन कुछ कंपनियां ऐसी हैं जो 25 फीसदी तक क्लेम के बावजूद एनबीसी का अपने ग्राहक को देती हैं।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned