'स्वच्छ वातावरण व सच्चाई से भी आप कोरोना से जीत सकते हैं जंग'

कोरोना के लक्षण दिखने पर डॉक्टर की जरूर सलाह लें। सोशल मीडिया पर पोस्ट देखकर न करें इलाज। पॉजिटिव सोच से जल्द होंगे ठीक।

By: Rahul Chauhan

Published: 02 May 2021, 03:58 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

गाजियाबाद। देशभर में कोविड-19 संक्रमण बड़ी संख्या में लोगों को अपनी गिरफ्त में ले रहा है। इस दौरान तमाम लोग सोशल मीडिया या टीवी चैनल पर इससे बचाव के उपाय या दवाई बता रहे हैं, लेकिन जब तक किसी भी फार्मूले की तह तक ना पहुंचे तो इसका इस्तेमाल लोगों को भारी पड़ सकता है। यह कहना है मनोवैज्ञानिक चिकित्सकों का। इस पूरे मामले की जानकारी देते हुए मनोवैज्ञानिक चिकित्सक हेमिका अग्रवाल ने बताया कि कोरोना का डर व्यक्तित्व पर भारी पड़ता जा रहा है। जिसकी वजह से आप नेचुरली बीमार लोग भी छोटी बीमारी को भी कोरोना से जोड़कर भय के वातावरण में पहुंच जाता है। जिसकी वजह से इंसान मौत के मुंह में समा जाता है।

यह भी पढ़ें: कोरोना योद्धा! मां की कोरोना से हुई मौत, ड्यूटी पर रहकर लोगों की जान बचा रहे डॉ अतुल

मनोचिकित्सक का कहना है कि आप स्वच्छ वातावरण व अच्छी सोच को लेकर भी कोरोना को हरा सकते हैं और अगर आप कुछ चीजों जैसे मोबाइल फोन न्यूज़ चैनल या कोई भी वीडियो देखने से पहले उसकी सत्यता जांचने के बाद ही उस पर अमल करें और सरकारी आंकड़ों पर विश्वास करते हुए अपनी जिंदगी में खुश रहें व आसपास स्वच्छता रखें। साथ ही अपने डॉक्टर को समय समय पर आपके अंदर होने वाले बदलाव की सत्यता बताते रहें।

यह भी पढ़ें: कोरोना संक्रमण: मृतकों के कर्मकांड को नहीं मिल रहे पंडित, तेरहवीं में ब्राहमणों का भी संकट

उन्होंने कहा कि अपने पसंदीदा गाने सुने जितना हो सके सुबह उठकर सूर्य नमस्कार करें। अपने जीवन के अच्छे पलों को फैमिली के साथ बैठकर साझा करें। साथ ही दो गज की दूरी और मास्क का भी ध्यान करें। इन सब चीजों से भी आप अपने अंदर के भय को मार सकते है और आत्मविश्वास से भरपूर रहकर भी आप कोरोना को हरा सकते हैं।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned