इम्पैक्ट: वाराणसी में दर्दनाक हादसे के बाद हरकत में आर्इ डीएमआरसी, सुधारी ये गलती

इम्पैक्ट: वाराणसी में दर्दनाक हादसे के बाद हरकत में आर्इ डीएमआरसी, सुधारी ये गलती

Nitin Sharma | Publish: May, 18 2018 03:12:18 PM (IST) Ghaziabad, Uttar Pradesh, India

पड़ताल के दौरान हुआ था खुलासा

गाजियाबाद।वाराणसी में पुल गिरने से दर्दनाक हादसे के बाद पड़ताल में गाजियाबाद में डीएमआरसी द्वारा कराये जा रहे।मेट्रो निर्माण में बड़ी लापरवाही सामने आर्इ।पत्रिका द्वारा इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाया गया था।इसका असर उस वक्त देखने को मिला।जब डीएमआरसी के अधिकारियों ने इसे गंभीरता से लिया और अगले दिन ही इस पर ध्यान देते हुए कर्मचारियों द्वारा सभी नट बोल्ट कस दिए गए।और सुरक्षा की दृष्टि से अन्य कई इंतजाम भी किए गए ।

गाजियाबाद में मेट्रो निर्माण

यह भी पढ़ें-कहासुनी के बाद पति ने पत्नी को दी एेसी सजा, जानकर दंग रह जाएंगे आप

ये कमी आर्इ थी सामने

आपको बताते चलें कि दिल्ली शालीमार गार्डन से गाजियाबाद नए बस अड्डे तक आने वाली मेट्रो के लिए मेट्रो की लाइन बिछाने का कार्य चल रहा है।साहिबाबाद इलाके में बिछाई जाने वाली मेट्रो लाइन पर लगाए जा रहे लोहे के गार्डर और चैनल पर बड़े-बड़े नट बोल्ट लगाए गए थे।लेकिन उन्हें पूरी तरह से नहीं कसा गया था। जिसके चलते कर्इ लोहे के नट बोल्ट निकले हुए थे।जो कि डीएमआरसी के कर्मचारियों की यह बड़ी लापरवाही सामने आर्इ थी।नट बोल्ट ढीले होने के कारण कभी भी लोहे के यह बड़े गार्डर और चैनल नीचे गिर सकते थे। जिसे वाराणसी जैसे दर्दनाक हादसा हाेने की संभावना बनी हुर्इ थी। डीएमआरसी की इसी लापरवाही को दो दिन पहले ही पत्रिका ने प्रमुखता से उठाया था। इसी का संज्ञान लेते हुए अगले ही दिन डीएमआरसी अधिकारियों ने इन्हें कसवा कर सही कराया।

यह भी पढ़ें-कर्नाटक में भाजपा ने बनार्इ सरकार तो कांग्रेसियों ने एेसे जताया विरोध

डीएमआरसी का गार्डन गिरने से पहले भी हो चुका है हादसा

इससे पहले भी मोहन नगर इलाके में एक बड़ा हादसा हो चुका था। जिसमें डीएमआरसी का ही गार्डर गिरने से करीब आधा दर्जन लोग घायल हुए थे और एक लड़की की मौत भी हो चुकी थी।उसके बाद भी साहिबाबाद इलाके में बड़ी लापरवाही सामने आ रही थी।इस लापरवाही को पत्रिका द्वारा 16 मई को प्रमुखता से उठाया गया था। जिसे डीएमआरसी के अधिकारियों द्वारा गंभीरता से लिया गया और अगले ही दिन इस पर कार्य शुरू करा दिया गया। और सुरक्षा की दृष्टि से अन्य कई तरह के इंतजाम भी किए गए हैं।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned