scriptgorakhpur news, illegal parking stop by nagar nigam | अवैध पार्किंग : बीच शहर अफसरों के नाक के नीचे 3 साल से चल रहा था अवैध पार्किंग, करोड़ों की हो चुकी कमाई | Patrika News

अवैध पार्किंग : बीच शहर अफसरों के नाक के नीचे 3 साल से चल रहा था अवैध पार्किंग, करोड़ों की हो चुकी कमाई

locationगोरखपुरPublished: Nov 18, 2023 09:27:16 pm

Submitted by:

anoop shukla

सिटी माल के सामने संचालित हो रहे अवैध स्टैंड के जरिये पिछले तीन साल से संचालकों की तरफ से करीब एक करोड़ रुपये की कमाई की गई है। यहां रोजाना करीब 200 कार पार्क होती हैं। प्रत्येक से 40 रुपये शुल्क लिया जाता है।

अवैध पार्किंग : बीच शहर अफसरों के नाक के नीचे 3 साल से चल रहा था अवैध पार्किंग, करोड़ों की हो चुकी कमाई
अवैध पार्किंग : बीच शहर अफसरों के नाक के नीचे 3 साल से चल रहा था अवैध पार्किंग, करोड़ों की हो चुकी कमाई
गोरखपुर। महानगर में किसी न किसी मामले में दबे जिन्न निकलते ही रहते हैं। इस बार मामला है बीच शहर के पाश इलाके में जहां सभी प्रशासनिक, पुलिस अधिकारियों के निवास, कार्यालय हैं वहां 3 साल से अवैध पार्किंग चल रहा था। नजूल को करीब एक एकड़ जमीन पर हर रोज गाड़ियों से अवैध वसूली की जा रही थी।यह सिलसिला पिछले तीन साल से चल रहा था। अपर नगर आयुक्त ने पार्किंग स्टैंड का संचालन करने वाले भूपेंद्र दूबे को स्टैंड माफिया बताते हुए उसके खिलाफ एफआइआर दर्ज कराने के लिए कैंट पुलिस को निर्देश दिया है।
जिला प्रशासन ने यह भूमि नगर निगम को दी

अपर नगर आयुक्त निरंकार सिंह के मुताबिक जिला प्रशासन की ओर से यातायात व्यवस्था को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए सिविल लाइन स्थित सिटी माल के सामने की नजूल की भूमि नगर निगम को दी गई है। मगर, वहां पहले से पार्किंग स्टैंड संचालित हो रहा है, जबकि नगर निगम ने किसी को भी पार्किंग का ठेका नहीं दिया है।
3 साल बाद अब चेकिंग का आया ख्याल

उनका कहना है कि शुक्रवार को जब उनके नेतृत्व में प्रवर्तन दल की टीम पहुंची तो पार्किंग चलाने वाले भागने लगे। टीम ने दौड़ाकर कुछ लोगों को पकड़ा तो उन्होंने मुख्य संचालक का नाम भूपेंद्र दूबे बताया। उनके पास से जो रसीद की दो गड्डी मिली, उस पर रेलवे कार पार्किंग लिखा है। रसीद पर कार पार्किंग का शुल्क 40 रुपये दर्ज है।निगम प्रशासन ने भूपेंद्र को पार्किंग माफिया बताते हुए उसके खिलाफ एफआइआर दर्ज करने के लिए कैंट पुलिस को निर्देश दिया है।
नवंबर 2020 में अस्थाई पार्किंग पर बनी थी सहमति

तत्कालीन जिलाधिकारी के. विजयेंद्र पांडियन के निर्देश पर सदर तहसील प्रशासन ने जनवरी, 2020 में सिटी माल स्थित नजूल की करीब डेढ़ एकड़ जमीन खाली कराई थी। उसी समय वहां स्थायी पार्किंग बनाने की योजना था, मगर उस पर अमल नहीं हो सका। नवंबर, 2020 में वहां अस्थायी पार्किंग पर सहमति बनी।बाकायदा तत्कालीन मंडलायुक्त जयंत नार्लिंकर, जिलाधिकारी के. विजयेंद्र पांडियन, तत्कालीन एसएसपी जोगेंद्र कुमार और तत्कालीन नगर आयुक्त अंजनी कुमार सिंह ने स्थल निरीक्षण कर यह निर्णय लिया था। इसके कुछ दिन बाद ही वहां पार्किंग का संचालन होने लगा। अब नगर निगम दावा कर रहा कि प्रशासन ने निगम को पार्किंग का संचालन करने के लिए यह भूमि दी है, लेकिन उसने अभी तक किसी को ठेका ही नहीं दिया।
करोड़ों की हो चुकी कमाई

सिटी माल के सामने संचालित हो रहे अवैध स्टैंड के जरिये पिछले तीन साल से संचालकों की तरफ से करीब एक करोड़ रुपये की कमाई की गई है। यहां रोजाना करीब 200 कार पार्क होती हैं। प्रत्येक से 40 रुपये शुल्क लिया जाता है।

ट्रेंडिंग वीडियो