Iraq में एक दिन में 21 लोगों को दी गई मौत की सजा, जानिए क्या था पूरा मामला

HIGHLIGHTS

  • Mass Executions In Iraq: अरब देश इराक में 21 लोगों को आतंकवाद से जुड़े मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद एक ही दिन में फांसी की सजा दी गई।
  • इन सभी को इराक की कुख्यात जेल नसीरियाह ( Nasiriyah Prison ) में फांसी दिया गया।
  • 2006 में इसी जेल में सद्दाम हुसैन को भी फांसी की सजा दी गई थी।

By: Anil Kumar

Updated: 18 Nov 2020, 10:29 AM IST

बगदाद। आतंकवाद ( Terrorism ) का गढ़ बन चुके इराक से एक ऐसी खबर सामने आई है, जिसे सुनकर आप हिल उठेंगे। अरब देश इराक में सोमवार को 21 लोगों को मौत ( Iraq Hangs 21 Persion On Terrorism Charges ) की सजा दी गई। बताया जा रहा है कि आतंकवाद से जुड़े मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद इन सभी लोगों को फांसी दी गई।

इन सभी को इराक की कुख्यात जेल नसीरियाह ( Nasiriyah Prison ) में फांसी दिया गया। किसी देश में एक दिन में इतनी बड़ी संख्या में फांसी देने की ऐसी घटना बहुत कम देखने को मिलता है। इससे पहले भी कई लोगों को एक दिन में फांसी देने का ऐसा मामला सामने आया है।

अमरीका: ट्रंप सरकार को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका, मौत की सजा पर लगाई रोक हटाने से किया इनकार

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इन सभी लोगों पर आतंकवादी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगने के बाद 2005 के आतंकरोधी कानून ( Anti-terror Law ) के तहत दोषी करार दिया गया था। हालांकि ये स्पष्ट नहीं किया गया कि इन सभी ने क्या अपराध किया था और किस तरह के आतंकी घटना में संलिप्त थे। ये भी नहीं बताया गया कि कौन-कौन से आतंकी घटना में ये सभी शामिल थे।

सद्दाम हुसैन को Nasiriyah जेल में दी गई थी फांसी

आपको बता दें कि इराक में एक मात्र Nasiriyah जेल है, जहां पर फांसी की सजा दी जाती है। यह जेल इराक के दही क्वार प्रांत में स्थित है। इराक के तानाशाह शासक सद्दाम हुसैन अपने कार्यकाल में बागियों को इसी जेल में फांसी की सजा देते थे। सबसे बड़ी बात ये है कि आखिरकार 2006 में इसी जेल में सद्दाम हुसैन को भी फांसी की सजा दी गई थी।

इराक में सद्दाम हुसैन के बढ़ते तानाशाही रवैये को देखते हुए अमरीका और उसके मित्र देशों ने एक बड़ी कार्रवाई करते हुए सद्दाम हुसैन को 2003 में सत्ता से बेदखल कर दिया और पकड़कर जेल में डाल दिया।

SC ने फांसी की सजा को बताया कानूनन वैध, कहा- समाज में कम नहीं हुए अपराध

इसके बाद 2014 से 2017तक आतंकियों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए इस्लामिक आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट पर जीत हासिल की। इराक में सैकड़ों संदिग्ध जिहादियों पर मुकदमा चलाया गया और कई बार सामूहिक तौर पर फांसी दी गई। हालांकि 2017 के बाद से अब तक बड़ी संख्या में इराक ने अपने ही नागरिकों को फांसी की सजा दी है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned