script10th 12th board exams new rules guideline education department strict action to stop cheating | 10वीं और 12वीं की परीक्षा को लेकर शिक्षा विभाग सख्त, इस बार नहीं मिलेगी सप्लीमेंट्री कॉपी | Patrika News

10वीं और 12वीं की परीक्षा को लेकर शिक्षा विभाग सख्त, इस बार नहीं मिलेगी सप्लीमेंट्री कॉपी

locationग्वालियरPublished: Jan 22, 2024 12:26:06 pm

Submitted by:

Sanjana Kumar

माध्यमिक शिक्षा मंडल की हाईस्कूल और हायर सेकंडरी की परीक्षाएं फरवरी के प्रथम सप्ताह से शुरू होने जा रही हैं। मंडल ने बोर्ड परीक्षाओं को लेकर इस बार विशेष रूप से नकल रोकने के लिए सख्त कदम उठाए हैं...

board_exam_new_guideline_by_education_department_mp.jpg

माध्यमिक शिक्षा मंडल की हाईस्कूल और हायर सेकंडरी की परीक्षाएं फरवरी के प्रथम सप्ताह से शुरू होने जा रही हैं। मंडल ने बोर्ड परीक्षाओं को लेकर इस बार विशेष रूप से नकल रोकने के लिए सख्त कदम उठाए हैं। शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि परीक्षा में परीक्षार्थियों को 32 पेज की उत्तरपुस्तिका (कॉपी) दी जाएगी और इसी में पूरा पेपर सॉल्व करना होगा। अलग से कोई सप्लीमेंट्री की कॉपी परीक्षार्थियों को नहीं दी जाएगी। साथ ही विद्यार्थियों को उत्तर पुस्तिकाओं में ओएमआर शीट को काले अथवा नीले रंग के बाल पेन से तय जगह पर रोल नंबर सहित अन्य जानकारी पर ही गोला लगाना होगा और केंद्राध्यक्ष को परीक्षार्थियों को स्कूलों के परीक्षार्थियों के साथ मिश्रित करके ही बैठाया जाए। वहीं कोई विद्यार्थी नकल करते मिला अथवा उसके पास कोई चिट, कॉपी सहित अन्य सामग्री मिलती है तो उसके खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा। वहीं सुरक्षा के लिहाज से परीक्षा केंद्र में एंट्री व एग्जिट का एक ही गेट होगा। हालांकि मेन गेट पर भी परीक्षार्थियों की तलाशी ली जाएगी।

- परीक्षा केंद्रों पर लोहे की पेटी रखी जाएगी, जिसमें यदि किसी के पास नकल है तो वह परीक्षा से पूर्व उसमें डाल सकेगा।

- विद्यार्थी को परीक्षा केंद्र पर निर्धारित समय से एक घंटा पहले उपस्थित होना होगा और 30 मिनट पहले परीक्षा कक्ष में पहुंचना होगा।

- केंद्राध्यक्ष को परीक्षा शुरू होने के 20 मिनट पहले तक छात्र को परीक्षा कक्ष में प्रवेश देना होगा।

- परीक्षा केंद्र में जो स्टाफ तैनात है उसके पास आइकार्ड होगा और सभी को आइकार्ड लगाना होगा।

- संबंधित स्कूल में कार्यरत कोई भी शिक्षक पर्यवेक्षक की ड्यूटी नहीं कर सकेगा।

- उन स्कूलों के शिक्षक भी पर्यवेक्षक की ड्यूटी नहीं करेंगे, जहां के विद्यार्थी संबंधित स्कूल में परीक्षा देंगे।

- बैठक व्यवस्था 20/40/60 के मान से की जाएगी।

- छात्रों के आगे-पीछे और आजू-बाजू एक जैसे सेट के पेपर नहीं बांटे जाएंगे।

जागरुकता अभियान

प्रदेश में बोर्ड परीक्षाओं के नजदीक आने के मद्देनजर अब सरकार ने फर्जी पेपर और पेपर लीक की भ्रामक जानकारी फैलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई के लिए कलेक्टर्स को अलर्ट किया है। स्कूल शिक्षा मंत्री उदयप्रताप सिंह और लोक शिक्षण आयुक्त अनुभा श्रीवास्तव ने सभी जिलों के कलेक्टर्स को इसे लेकर अभियान चलाने के लिए निर्देश दिए हैं। इसके तहत जागरूकता अभियान चलाकर फर्जी पेपर बांटने, पेपर लीक की अफवाह फैलाने और इस तरह के अन्य गिरोहों के झांसे में आने से बचने के लिए काम किया जाएगा। सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को भी इसे लेकर काम करने के लिए कहा गया है।

इन गतिविधियों के रोकने के लिए स्कूल शिक्षा विभाग स्वयंसेवी संगठनों के साथ मिलकर जनजागरूकता अभियान चलाने का प्रयास कर रहा है। विभाग ने अभिभावकों और विद्यार्थियों से अपील की है कि उनके साथ इस तरह के कोई भी प्रस्ताव सोशल मीडिया एवं अन्य साधनों से प्राप्त होते हैं तो उन पर विश्वास न करते हुए जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय और कलेक्ट्रेट में इसकी जानकारी दें। सोशल ग्रुप के खिलाफ पुलिस के माध्यम से तत्काल कार्रवाई की जाएगी।

विभाग ने सभी स्कूलों से इस मामले में सजग रहने को कहा है। प्रबंधकों से कहा गया है कि विद्यार्थियों को जागरूक किया जाए। पेपर लीक के मामले में दोषी लोगों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाए।

ट्रेंडिंग वीडियो