अलीगढ़ में बच्ची की हत्या पर देशभर में आक्रोश, हत्यारों को फांसी देने की मांग बुलंद, देखें वीडियो

suchita mishra | Publish: Jun, 08 2019 05:02:40 PM (IST) Hathras, Hathras, Uttar Pradesh, India

एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक ह्यूमन राइट्स (एडीएचआर) द्वारा मंडी परिसर में एक आक्रोश व श्रद्धांजलि सभा कर बच्ची के हत्यारों को फांसी दिलाने और न्याय के लिए रखी गई।

हाथरस। अलीगढ़ के टप्पल में हुई ढ़ाई साल की मासूम की हत्या से पूरा देश आक्रोश में है। लोग अपने-अपने तरीके से इस घटना का विरोध कर आरोपियों को सख्त से सख्त सजा देने की मांग कर रहे है। जिले में एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक ह्यूमन राइट्स (एडीएचआर) द्वारा मंडी परिसर में एक आक्रोश व श्रद्धांजलि सभा कर बच्ची के हत्यारों को फांसी दिलाने और न्याय के लिए रखी गई। इस मौके पर मौजूद लोगों द्वारा काली पट्टी बांध नारेबाजी भी की गई।

यह भी पढ़े
टप्पल कांड: आरोपी असलम के खिलाफ खुद की बच्ची के साथ रेप का मुकदमा हो चुका है दर्ज, तीसरा आरोपी भी गिरफ्तार

एडीएचआर के राष्ट्रीय महासचिव प्रवीन वार्ष्णेय ने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि यह अपराध नहीं यह पशु प्रवृत्ति का नमूना है जिस व्यक्ति ने ऐसा कृत्य किया है उसके लिए निंदा, आक्रोश जैसे शब्द भी बहुत छोटे हैं ऐसे व्यक्ति को तो बीच चौराहे पर फांसी लगनी चाहिए।
यह भी पढ़े
टप्पल कांड: बच्ची के माता पिता को सांत्वना देने के लिए अलीगढ़ आ सकते हैं सीएम योगी

कड़ा कानून बने
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के नगर कार्यवाह मुकेश बंसल ने कहा कि हम ऐसे किसी भी कृत्य को सहन नहीं कर सकते हैं। जो हमारे बच्चों की जान-माल और इज़्ज़त पर आ रही है इसके लिए इस देश में कड़े से कड़ा कानून बनना चाहिए।

यह भी पढ़े
मासूम बच्ची की हत्या को लेकर फूटा राष्ट्रीय बजरंग दल का गुस्सा, उठाया ये कदम
यह भी पढ़े
Big News: ढाई साल की मासूम के चारों आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आए, पूछताछ जारी

Justice Demand

पशु प्रवृत्ति है ये
राजेश कुमार वार्ष्णेय ने कहा कि अगर यह पहली बार में ही अपराध करने पर कड़ी सजा मिल गई होती तो इसकी यह प्रवृत्ति नहीं बनती। यह पशु प्रवृत्ति अब नहीं चलने देंगे। आढतिया एसोसिएशन के महामंत्री उमाशंकर वार्ष्णेय ने कहा कि अब समाज को संभालने की आवश्यकता है। हम अपने परिवार के बच्चों को देखें कि वह कहां जा रहे हैं और किस समय वापस आ रहे हैं और क्या कार्य कर रहे हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned