अमेरिका में आज से बंद हो जाएगा 50 साल पुराना इंडिया एब्रॉड अखबार

  • भारतीय सुमदाय की आवाज उठाता रहा है इंडिया एब्रॉड
  • डिजिटल मीडिया के बढ़ते दबदबे की वजह से लेना पड़ा फैसला

By: Piyush Jayjan

Published: 30 Mar 2020, 08:56 AM IST

नई दिल्ली। अमेरिका ( America ) में पिछले 50 साल से भारतीय तबके की आवाज उठाने वाला एक प्रमुख अखबार सोमवार को आखिरी बार छापा जाएगा। इस भारतीय अखबार की प्रकाशक संस्था ने डिजिटल मीडिया के दबदबे की वजह से अखबार के प्रिंट संस्करण को बंद करने का ऐलान किया है।

गांव वालों के जी का जंजाल बना कोरोना, भेदभाव का शिकार हो रहे हैं लोग

इंडिया एब्रॉड ( India Abroad ) नाम के इस अखबार की स्थापना 1970 में भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक गोपाल राजू ने की थी। यह अखबार भारत से जुड़ी खबरों पर केंद्रित होने की वजह काफी चर्चित रहा। साल 2001 में रेडिफ डॉट कॉम ने इस अखबार का अधिग्रहण कर लिया था।

 

2016 में रेडिफ ने इसका मालिकाना हक 8के माइल्स मीडिया इंक को बेच दिया। सुरेश वेंटाचारी ने प्रिंट संस्करण को रोकने के अपने निर्णय की घोषणा करते हुए कहा कि प्रिय पाठकों, मुझे यह बताते हुए खेद है कि इंडिया एब्राड मार्च 2020 के अंत में अपने प्रकाशन को समाप्त कर देगा।

मेघालय के सीएम ने लोगों को खास अंदाज में किया जागरूक, देखें वायरल Video

कई समाचार पत्रों की तरह, इंडिया एब्रॉड ( India Abroad ) इंटरनेट युग के आगमन के बाद संघर्ष कर रहा है। अखबार के प्रिंट एडिशन बंद होने पर न्यूयॉर्क स्थित पत्रकार और लेखक एस मित्रा कलिता ने ट्वीट करते हुए कहा कि यह हमारे लिए एक दुखद समाचार है कि इंडिया एब्रॉड बंद हो रहा है।

Piyush Jayjan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned