script2 girl students hit by train on new railway track | नए ट्रैक पर दौड़ रही थी ट्रायल ट्रेन, अचानक सामने आ गई 2 छात्राएं, घर से 200 मीटर चली गई जान | Patrika News

नए ट्रैक पर दौड़ रही थी ट्रायल ट्रेन, अचानक सामने आ गई 2 छात्राएं, घर से 200 मीटर चली गई जान

locationइंदौरPublished: Dec 29, 2023 08:10:37 am

Submitted by:

Ashtha Awasthi


केंद्रीय रेल मंत्री ने दिए जांच के आदेश, परिजन का आरोप ट्रैक पर ट्रॉयल के पहले रेलवे ने नहीं दी सूचना2 girl students hit by train on new railway track

new_project.jpg
railway track

इंदौर। शहर के लसूडि़या थाना क्षेत्र से गुजर रही नई रेलवे ट्रैक पर गुरुवार शाम ट्रेन का ट्रॉयल रन हुआ। उस दौरान कोचिंग से घर लौट रहीं 2 छात्राएं ट्रेन की चपेट में आ गईं। ट्रेन दोनों को रौंदते हुए निकल गई, जिससे उनकी घटनास्थल पर मौत हो गई। बड़ी लापरवाही सामने आने पर केंद्रीय रेल मंत्री अश्वीनी वैष्णव ने जांच के आदेश दिए हैं। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव पोस्टमॉर्टम के लिए बरामद किए हैं। कैलोद करताल के गांव में गमगीन माहौल है। परिजनों ने नए ट्रैक पर ट्रायल रन के पहले सूचना नहीं देने से छात्राओं की जान जाने का आरोप लगाया है।

टीआइ तारेश सोनी के मुताबिक, शाम करीब 6.30 बजे नए रेलवे ट्रेक पर ट्रायल ट्रेन की चपेट में आने से बबली 17 पिता पन्नालाल मासरे, राधिका 17 पिता दिनेश भास्कर दोनों निवासी कैलोद कांकड़ पंचवटी कॉलोनी की मौत हुई है। जिस ट्रैक पर दुर्घटना हुई वहां से ट्रेन पहली बार गुजरी थी। जांच में पता चला है कि बबली, राधिका, साधना रोजाना सैटेलाइट जंक्शन स्थित कोचिंग क्लास में पढ़ने जाती थीं। शाम को तीनों लौट रही थीं। रेलवे ट्रैक क्रॉस करते समय छात्रा साधना आगे चल रही थीं। उनके पीछे बबली, राधिका आ रही थी। तभी देवास की ओर से नए ट्रैक से आ रही ट्रॉयल ट्रेन की चपेट में राधिक, बबली आ गई और दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। संभवत: दोनों छात्राओं को नए रेलवे ट्रैक पर ट्रेन आने की जानकारी नहीं थी।

घर से 200 मीटर दूर बहन की गई जान

भाई पीयूष भास्कर ने बताया, पिता मजदूरी करते हैं। बहन राधिका और उनकी सहेली प्रेसीडेंसी स्कूल में दसवीं की छात्रा है। रोजाना बहन कोचिंग से अपनी सहेलियों के साथ नए रेलवे ट्रैक पार कर घर आती थी। गुरुवार को नए ट्रैक पर ट्रायल ट्रेन दौड़ रही थी। इस बात की जानकारी बहन और उनकी सहेलियों को नहीं थी। शाम के वक्त अंधेरा होने लगा था। नए ट्रैक के पास चल रही बहन और उनकी सहेली को लगा की रोज की तरह ट्रेन पुराने ट्रैक से होकर गुजरेगी, लेकिन आज ऐसा नहीं हुआ। ट्रेन नए ट्रैक पर अचानक आ गई। साधना किसी तरह ट्रेक से दूर चली गई, जिससे वह बच गई, लेकिन उनके पीछे आ रही बहन और बबली ट्रेन की चपेट में आ गई। गमगीन परिजनों का आरोप है कि ट्रॉयल ट्रेन चलाने के पहले गांव और आसपास के रहवासियों को सूचना तक नहीं दी गई। इस वजह से इतनी बड़ी घटना हो गई।

रेलमंत्री ने दिए घटना के जांच के आदेश

कैबिनेट मंत्री तुलसीराम सिलावट ने बताया कि इस दु:ख की घड़ी में सरकार मृतकों के परिजनों के साथ है। परिवारों को नियमानुसार राहत राशि दी जाएगी। सिलावट ने घटना की जानकारी केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव को दी है। वैष्णव ने रतलाम रेल मंडल के डीआरएम रजनीश कुमार को जांच के आदेश दिए है।

ट्रेंडिंग वीडियो