CAA विरोध आंदोलन में बोले दिग्विजय- 'आजादी से अब तक 1 करोड़ लोगों को नागरिकता मिली, फिर सीएए क्यों?'

दिग्विजय ने कहा कि, अगर भारत सरकार के ही आंकड़ों पर गौर करें तो, 1947 से 2019 तक 1 करोड़ लोगों को भारत की नागरिकता दी गई है नागरिकता पाने वालों में से 85 लाख हिंदुओं के नाम हैं।

इंदौर/ देशभर में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर चल रहे विरोध प्रदर्शनों में से एक प्रदर्शन पिछले 32 दिनों से इंदौर के बड़वाली चौकी में भी हो रहा है। रविवार देर रात इस आंदोलन का हिस्सा बनने मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह भी पहुंच गए। यहां अपने भाषण के दौरान दिग्विजय ने केन्द्र सरकार पर जमकर हमला किया। उन्होंने कहा कि, अगर भारत सरकार के ही आंकड़ों पर गौर करें तो, 1947 से लेकर 2019 तक 1 करोड़ लोगों को भारत की नागरिकता दी गई है। खुशी की बात ये है कि, नागरिकता पाने वालों में से 85 लाख हिंदुओं के नाम हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- 1 मई से शुरु होने जा रहा है NPR का पहला चरण, दस्तावेज मांगे बिना पूछे जाएंगे ये सवाल


लोगों को बांटने का काम कर रही केन्द्र सरकार : सिंह

केन्द्र सरकार पर हमलावर होते हुए दिग्विजय ने कहा कि, देश की नागरितका देने के लिए पहले से कानून था, तो फिर नए कानून को लाने की आवश्यक्ता क्या थी? नए कानून में धर्म के आधार पर नागरिकता प्रदान करने की बात कही गई है, जिस पर हमारी आपत्ति है। साल 1947 से लेकर साल 2019 तक एक करोड़ लोगों को भारत सरकार नागरिकता प्रदान कर चुकी है। बाहर से आए लोगों को नागरिकता देने में अब तक किसी को आपत्ति नहीं थी। क्योंकि, इसके माध्यम से देश में नागरिकता लेने वाले सभी धर्मों को बराबरी और सम्मान के साथ नागरिकता दी जाती थी। नए सीएए को लेकर हमारी आपत्ति सिर्फ ये है कि, सरकार इस कानून के जरिये देशवासियों को धर्म के आधार पर बांटने का काम कर रही है। हमारा तो इतिहास है अतिथी देवो भव:। दिग्विजय ने कहा कि, जब मैं खुद सीएम था तो हजारों लोगों को नागरिकता दी गई थी, लेकिन कभी भी किसी ने इसपर सवाल नहीं किया।

 

पढ़ें ये खास खबर- NRC का सर्वे समझकर लोगों ने आर्थिक सर्वेक्षण टीम को भगाया, अब ऐसे शुरु होगा सर्वे


RSS के बयानों की मुझे चिंता नहीं : सिंह

दिग्विजय ने आगे कहा कि, आरएसएस की ओर से सोशल मीडिया पर मेरे बारे में कई तरह की टिप्पणियां की जाती हैं, लेकिन मुझे इसकी कोई चिंता नहीं। दिग्विजय ने कहा कि, मैं तो ये समझता हूं कि, ना तो मैं मुस्लिम परस्त हूं और ना ही हिंदू परस्त हूं, मैं सिर्फ और सिर्फ इंसानियत परस्त हूं। धर्म काेई सा भी हो, रास्ते अलग-अलग हैं, लेकिन मंजिल एक ही है और वो मंजिल ही इंसानियत है।

 

पढ़ें ये खास खबर- झोपड़ी में लगी आग, मजदूर परिवार के 3 बच्चे जिंदा जले


किसी पार्टी का नहीं बल्कि ये देश का आंदोलन

दिग्विजय ने कहा कि सीएए का विरोध किसी पार्टी का आंदोलन नहीं बल्कि देश का आंदोलन है। ये देश किसी हालत में सीएए, एनआरसी, एनपीआर को स्वीकार नहीं कर सकता। सरकार को किसी भी शर्त पर इसे वापस लेना होगा। नए एनपीआर में पिताजी कहां पैदा हुए माताजी कहां पैदा हुई यह पूछने की क्या जरूरत है। मतलब साफ है कि, सरकार की मंशा ठीक नहीं है। इस संबंध में मध्य प्रदेश सरकार का स्टैंड क्लीयर है, किसी हालत में एनपीआर का वह हिस्सा जिसमे ऐसी जानकारी हमसे मांगी जा रही है जो हमारे पास नहीं है उसे देने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकेगा।

CAA CAA protest
Show More

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned