हाईवे पर लूट करने वाले दो लुटेरे गिरफ्तार, नकली पुलिस बनकर करते थे वारदात

पुलिसकर्मी बनकर हाइवे पर लोगों को रोक रहे थे आरोपी, असली पुलिस से सामना होते ही लगाई दौड़..

By: Shailendra Sharma

Published: 13 Feb 2021, 05:12 PM IST

इंदौर. हाइवे पर बाइक चोरी की वारदातों को अंजाम देने वाले दो शातिर बदमाशों को इंदौर पुलिस ने गिरफ्तार किया है। दोनों आरोपी राऊ-पीथमपुर फोरलेन पर लूटने के लिए बाइक सवारों को रोकने की कोशिश कर रहे थे। तभी सादी वर्दी में गुजर रहे दो आरक्षकों ने जब उनसे लोगों को रोकने के बारे में पूछा तो वो खुद को पुलिसकर्मी बताने लगे और कुछ ही देर बाद पकड़े जाने के डर से दौड़ लगा दी। पुलिसकर्मियों पीछा कर दोनों आरोपियों को पकड़ा और थाने ले आई।

 

11 बाइक, वायरलेस जैसा मोबाइल जब्त
पुलिस के मुताबिक आरोपियों के नाम रवि यादव और कपिल सोलंकी हैं जो कि इंदौर के ही रहने वाले हैं। पुलिस ने आरोपियों से 11 बाइक, चाकू, वायरलैस जैसा दिखने वाला मोबाइल जब्त किया है । पुलिस ने आरोपियों के खुलासे के बाद दो और आरोपियों को पकड़ा है जो कि चोरी व लूटी हुई बाइक को खरीदते थे। पुलिस के मुताबिक चोरी की बाइकों को खरीदने के बाद आरोपी उन्हें औने-पौने दामों में ग्रामीण इलाकों में बेच दिया करते थे।

policeman.png

आरोपी खुद को बताते थे पुलिसकर्मी

दोनों आरोपियों को पकड़ने वाले आरक्षक सुभाष सिंह चौहान व रामेश्वर गुर्जर ने बताया कि इलाके में लगातार हो रही बाइक लूट और चोरी की वारदातों के कारण वो सादी वर्दी में बीते कुछ दिनों से इलाके में सर्चिंग करते थे। दोनों बदमाश भैसलाय गांव के पास गंभीर नदी की पुलिया पर आते-जाते लोगों को रोक रहे थे और जब उन्होंने उनसे लोगों को रोकने के बारे में पूछा तो दोनों ने झूमाझटकी शुरु कर दी। दोनों आरक्षकों ने उन्हें पकड़ने की कोशिश की तो वो बाइक लेकर भागने लगे। आरक्षकों ने भी बाइक से पीछा किया तो आरोपी कच्चे रास्ते पर उतर गए और एक गड्ढे में गिर गए। जहां पुलिसकर्मियों ने दोनों को दबोच लिया। इस दौरान आरोपियों ने कहा कि वो पुलिस वाले हैं और वायरलेस नुमा मोबाइल निकाला। लेकिन उनकी ये चाल भी नाकामयाब रही और दोनों आरक्षक उन्हें पकड़कर थाने ले आए।

 

डायल-100 का ड्राइवर रह चुका है एक आरोपी
पुलिस के मुताबिक आरोपी कपिल पहले डायल-100 का ड्राइवर था और इसलिए उसे पुलिस की कार्यप्रणाली के बारे में जानकारी है। लिहाजा वो खुद पुलिसकर्मियों की तरह बर्ताव कर लोगों को पुलिसकर्मी बनकर डराता था। एसपी ने बदमाशों को पकड़ने वाले दोनों आरक्षकों को 10 हजार रुपए पुरस्कार देने का ऐलान किया है।

देखें वीडियो- माओवादी और पुलिस की मुठभेड़, दो माओवादी ढेर

Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned