scriptthese 3 were not brave indore fire would have even more frightening | ये 3 बहादुर न होते तो और भी भयावह होता इंदौर अग्निकांड, एक तरफा प्यार की सनक में गईं 7 जानें | Patrika News

ये 3 बहादुर न होते तो और भी भयावह होता इंदौर अग्निकांड, एक तरफा प्यार की सनक में गईं 7 जानें

-ये बहादुर न होते तो और भी भयावह होता अग्निकांड
-रईस पटेल ने घर के ड्रमों में रखे पानी से बुझाई थी आग
-दिलीप भगोरिया ने खिड़की तोड़कर लोगों को बिल्डिंग से बाहर निकाला
-एजाज खान ने अपनी मोटरसाइकिल पर बैठाकर घायलों को अस्पताल पहुंचाया
-पुलिस गिरफ्त में आए आरोपी ने वारदात को अंजाम देना किया कबूल

इंदौर

Updated: May 08, 2022 05:01:26 pm

इंदौर. मध्य प्रदेश की आर्थिक नगरी इंदौर में एक तरफा प्यार की भेंट चढ़े 7 निर्दोषों की मौत ने देशभर को सकते में डाल दिया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस घटना पर दुख व्यक्त कर चुके हैं। घटना में एक तरफ तो सनकी युवक का एक तरफा प्यार दिल दहला देने वाली वारदात का सबब बना, तो वहीं इस मामले में तीन ऐसे भी लोग हैं जो समय रहते अपनी सूझबूझ और बहादुरी का परिचय न देते तो 7 लोगों के लिए काल बनी ये घटना और भी भयावह होती।

News
ये 3 बहादुर न होते तो और भी भयावह होता इंदौर अग्निकांड, एक तरफा प्यार की सनक में गईं 7 जानें


रईस पटेल ने घर के ड्रमों में रखे पानी से बुझाई थी आग

News

शहर के विजय नगर इलाके की स्वर्ण बाग कॉलोनी में घटना वाले मकान के पड़ोस में रहने वाले रईस पटेल को जैसे ही पता चला कि, पड़ोस के मकान में आग लग गई है तो उन्होंने तुरंत ही अपने घर में पानी से भरे सारे ड्रम खाली करके आग बुझाना शुरु कर दिया। इलाके के लोगों का आरोप है कि, जैसे ही आग भड़की थी लोगों ने फायर ब्रिगेड को इस संबंध में सूचित किया था। बावजूद इसके फायर अमला मौके पर करीब एक घंटे बाद पहुंचा, तबतक आग पर काबू पा लिया गया था। ऐसे में अगर रईस समेत आसपास के लोग दमकल दल के आने का इंतजार करते तबतक इमारत में शायद कोई भी जिंदा न रहता।


दिलीप भगोरिया ने खिड़की तोड़कर लोगों को बिल्डिंग से बाहर निकाला

News

इलाके में ही रहने वाले दिलीप भगोरिया को भी जब दो मंजिला इमारत में आग लगने की सूचना मिली तो समय रहते उन्होंने भी अपनी सूझबूझ और बहादुरी का परिचय देते हुए जान की परवाह किये बिना आग की लपटों में घिरे लोगों को बचाने के लिए बिल्डिंग की खिड़की तोड़ दी। इसी खिड़की से करीब 9 लोगों को उन्होंने रेस्क्यू कर बाहर निकाला। इन्हीं 9 लोगों में से कुछ थोड़े बहुत आग से झुलसकर घायल हुए हैं तो कुछ सांस लेने की दिक्कत से ग्रस्त हुए, जिन्हें तुरंत ही उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाया गया। अगर दिलीप समय रहते खिड़की तोड़कर लोगों को बाहर न निकालते तो शायद अंदर फंसे संबंधित लोग उन 7 मृतकों की तरह आग में झुलसकर या दम घुटने से जान गवा चुके होते।


एजाज खान ने मोटरसाइकिल पर बैठाकर घायलों को अस्पताल पहुंचाया

News

बता दें कि, जिन लोगों को इमारत से बाहर निकाला जा रहा था, वो या तो चोटिल थे या आग से झुलसे हुए थे या फिर फैफड़ों में धुआं जाने की वजह से दम घुटने जैसी स्थिति में थे। ऐसे में इलाके के ही रहने वाले एजाज खान ने रात 3 बजे बाहर आ रहे घायलों को तुरंत ही अपनी मोटरसाइकिल पर बैठाकर अस्पताल पहुंचाने का काम किया। एमवाय अस्पताल के चिकित्सकों का कहना है कि, घटना में मृतकों की संख्या न बढ़ने की बड़ी वजह ये भी है कि, उन्हें जल्दी ही ऑब्जरवेशन में ले लिया गया था, वरना आग के घुएं से अधिक ग्रस्त होने वालों के बचने की संभावनाएं काफी कम होतीं।

यह भी पढ़ें- इंदौर अग्निकांड : जिस घर को खून-पसीने से बनाया, उसी के सामने आग में दम घुटने से दंपत्ति की मौत


जिसे समझ रहे थे शॉर्ट सर्किट, वो निकला सनक का नतीजा

News

भीषण अग्निकांड का आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आ गया है। आरोपी ने ये भी कबूल कर लिया है कि, उसने वारदात क्यों की थी। शनिवार शाम तक लोग जिस आग का कारण शार्ट सर्किट को मान रहे थे, उसके बारे में खुद आरोपी ने खुलासा करते हुए वारदात को अंजाम देने की पूरी कहानी बताई है। आरोपी ने बताया कि, उसका मकसद तो सिर्फ लड़की की स्कूटी की सीट जलाकर उसे सबक सिखाना था। घटना इतना भयावय रूप ले लेगी, इस बात का तो उसे अंदाजा तक नहीं था।

यह भी पढ़ें- देश में हुई इतनी बड़ी घटना, PM मोदी ने बताया ह्रदय विदारक, मरने वालों पर जताया दुख

इस तरह गिरफ्त में आया आरोपी

थाना प्रभारी तहजीब काजी ने बताया कि, स्कीम नंबर 74 के समीप आरोपी संजय लगातार अपने दोस्त विशाल से फोन पर संपर्क में था। चूंकि शनिवार रात तक सीसीटीवी फुटेज सामने आने के बाद ये साफ हो गया था कि, घटना शॉर्ट सर्किट की वजह से नहीं बल्कि किसी सफेद शर्ट वाले युवक द्वारा लगाई गई आग की वजह से घटी है। वहीं, इस क्षेत्र में रहने वाली युवती ने इस घटना के पीछे सिरफिरे आशिक संजय का खुलासा किया। पुलिस ने युवती के बताए अनुसार देर रात तक पूछताछ की तो पूरा का पूरा केस ही पलट गया और पूरा मामला ही साफ हो गया। इसके बाद पुलिस ने आरोपी के मोबाइल लोकेशन ट्रैक करके लसूड़िया थाना इलाके के निरंजनपुर चौराहे से गिरफ्तार कर लिया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन को आकर्षित करती है कछुआ अंगूठी, लेकिन इस तरह से पहनने की न करें गलतीज्योतिष: बुध का मिथुन राशि में गोचर 3 राशि के लोगों को बनाएगा धनवानपैसा कमाने में माहिर माने जाते हैं इस मूलांक के लोग, तुरंत निकलवा लेते हैं अपना कामजुलाई में चमकेगी इन 7 राशियों की किस्मत, अपार धन मिलने के प्रबल योगडेली ड्राइव के लिए बेस्ट हैं Maruti और Tata की ये सस्ती CNG कारें, कम खर्च में देती हैं 35Km तक का माइलेज़ज्योतिष: रिश्ते संभालने में बड़े कच्चे होते हैं इस राशि के लोगजान लीजिए तुलसी के इस पौधे को घर में लगाने से आती है सुख समृद्धिहाथ में इन निशान का होना मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होने का माना जाता है संकेत

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: उद्धव ठाकरे के इस्तीफे के बाद बीजेपी की बैठक आज, देवेंद्र फडणवीस करेंगे बड़ी घोषणाMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में फिर बनेगी बीजेपी की सरकार, देवेंद्र फडणवीस 1 जुलाई को ले सकते है सीएम पद की शपथउदयपुर मर्डर : आरोपियों के घर से जब्त की सामग्री, चार और संदिग्ध हिरासत मेंइलाहाबाद हाईकोर्ट से अनिल अंबानी को मिली राहत, उत्पीड़न कार्रवाई पर लगी रोक, जानिए पूरा मामलादो जुलाई से इन सुपरफास्ट ट्रेनों में कर सकेगें जनरल टिकट पर यात्राPOLITICS: मध्यप्रदेश की सियासत से परिवारवाद का सफाया शुरूUddhav Thackeray Resigns: फ्लोर टेस्ट से पहले उद्धव ठाकरे ने सीएम और MLC पद से दिया इस्तीफा, कहा- मेरी शिवसेना मुझसे कोई नहीं छीन सकताउदयपुर हत्याकांड के तार पाकिस्तान से जुड़े, दावत ए इस्लामी संगठन से सम्पर्क में थे आरोपी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.