एनसीएलटी कानून में रियल एस्टेट कंपनियों की सुनवाई नहीं: क्रेड़ाई

  • धारा सात के तहत एक उपभोक्ता के एनसीएलटी में जाने से होती है सुनवाई
  • रेरा को मिले अधिकार कि कौन सा केेस है एनसीएलटी में जाने योग्य

नई दिल्ली। अचल संपति का कारोबार करने वाली कंपनियों के संघ क्रेड़ाई ने केन्द्र सरकार से मांग की है कि फ्लैट खरीदने वाले उपभोक्ताओं के हितों केे लिए बनाए गया रियल एस्टेट विनियामक प्राधिकरण ( रेरा ) जब पहले से ही इन लोगों के हितों के लिए काम कर रहा है तो सिर्फ एक उपभोक्ता के नेशनल कंपनी लाॅ ट्रिब्यूनल ( एनसीएलटी ) में जाने से रियल एस्टेट कंपनियों को दिवालिया घोषित नहीं किया जाना चाहिए।

यह भी पढ़ेंः- बजाज ऑटो की बिक्री अक्टूबर में 14 फीसदी की गिरावट

क्रेड़ाई राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के बोर्ड सदस्य रोहित राजमोदी और कोषाध्यक्ष प्रशांत सोलोमन ने बताया कि इस कानून की धारा सात के तहत मात्र एक उपभोक्ता के एनसीएलटी में जाने से सिर्फ उसी की सुनवाई होती है और 15 दिनों की अवधि मेें बिना किसी सबूत के उसके केस को सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया जाता है और फिर कंपनी को दिवालिया घोषित कर दिया जाता है।

यह भी पढ़ेंः- लगातार तीसरे महीने जीएसटी कलेक्शन एक लाख करोड़ रुपए से नीचे

उन्होंने कहा कि एनसीएलटी सिर्फ एक उपभोक्ता की शिकायत पर सुनवाई कर कंपनी को दिवालिया घोषित कर कंपनी का स्वामित्व एक अंतरिम संकल्प पेशेवर ( आरपी ) को सौंप देती है और वही तय करता है कि कंपनी का अगला मालिक कौन होगा। यह बिल्कुल गलत है और इससे अन्य उपभोक्ताओं के हित भी प्रभावित होते हैं।

यह भी पढ़ेंः- दो महीने के बाद 40 हजारी हुआ सोना, चांदी 48 हजार रुपए के पार

उन्होंने सरकार से मांग की है कि जब रेरा कानून प्रभावी हैं तो रेरा को यह अधिकार दिया जाए जिससे वह यह तय कर सके कि कौन सा केेस एनसीएलटी में जाने योग्य है। इस कानून में यह भी कहा गया था कि अगर कोई बिल्डर्स अपने प्रोजेक्ट में कोई बदलाव करता है तो उसे दो तिहाई ग्राहकों की मंजूरी लेनी अनिवार्य है।

यह भी पढ़ेंः- मामूली बढ़त के साथ बंद हुआ शेयर बाजार, सेंसेक्स और निफ्टी दबाव के साथ बंद

इसी के आधार पर इन्होंने कहा है कि जब प्रोजेक्ट में कोई बदलाव के लिए दो तिहाई की शर्त है तो एनसीएलटी में भी किसी केस के जाने में दो तिहाई उपभोक्ताओं की मंजूरी को आवश्यक माना जाए। इसके अलावा किसी भी उपभोक्ता की शिकायत को पहले रेरा के पास ही भेजा जाना अनिवार्य किया जाना चाहिए।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned