script झटका ! राहुल गांधी की टीम में किया काम, कांग्रेस ने टिकट भी दिया, लेकिन भाजपाई हुई 'एकता' | Congress got a big blow, these 3 members left the party | Patrika News

झटका ! राहुल गांधी की टीम में किया काम, कांग्रेस ने टिकट भी दिया, लेकिन भाजपाई हुई 'एकता'

locationजबलपुरPublished: Feb 04, 2024 09:12:12 am

Submitted by:

Ashtha Awasthi

-कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, इन 3 सदस्यों मे छोड़ी पार्टी
-जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव जोड़-तोड़
-कांग्रेस की एकता ने पाला बदला
- दो माह में तीन सदस्यों ने कांग्रेस छोड़ी

capture.png
Congress

जबलपुर। जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव को लेकर सियासी तोड़-फोड़ जारी है। भाजपा ने फिर कांग्रेस के खेमे में सेंध लगाते हुए जिला पंचायत सदस्य एकता ठाकुर को अपने पाले में कर लिया। दो सदस्य पहले ही कांग्रेस को छोड़ भाजपा का दामन थाम चुके हैं। इससे अब भाजपा के लिए जिला पंचायत अध्यक्ष की राह आसान हो गई है। 17 सदस्यीय जिला पंचायत में उसका संख्या बल 11 का हो गया है।

कांग्रेस के लिए तीन सदस्यों का पार्टी छोडकऱ जाना बड़ा झटका है। एकता ठाकुर कांग्रेस की महिला मोर्चा की राष्ट्रीय टीम में थी और टीम राहुल गांधी के साथ भी काम किया है। इसी के चलते 2023 के विधानसभा चुनाव में पार्टी ने उन्हें अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित सिहोरा विधानसभा सीट से प्रत्याशी बनाया था। हालांकि वह तत्कालीन जिला पंचायत अध्यक्ष और भाजपा प्रत्याशी संतोष बरकड़े से पराजित हो गईं थीं।

चुनाव के तीन महीने बाद ही उनका मन बदला और शनिवार को भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली। कांग्रेस की जिला पंचायत सदस्य आशा गोंटिया और अंजलि गोलू पाण्डेय दिसम्बर में ही पाला बदलकर भाजपा में जा चुकीं थीं। ज्ञात हो कि बरकड़े के विधायक चुने जाने के बाद जिला पंचायत अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया था अब 12 फरवरी को अध्यक्ष का चुनाव होगा।

भाजपा की संख्या बढ़ी पर रार भी बढ़ेगी

एकता ठाकुर सहित अब तक कांग्रेस के तीन जिला पंचायत सदस्यों को अपने पाले में ला चुकी भाजपा ने बहुमत तैयार कर लिया है, लेकिन इसके साथ ही रार भी बढऩे की आशंका बढ़ गई है। जबलपुर जिला पंचायत अध्यक्ष पद अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित है। कांग्रेस की सदस्य आशा गोंटिया पहले ही भाजपा में शामिल हो चुकी हैं और संतोष बरकड़े के सदस्य पद छोड़े जाने के बाद उनकी सीट से भाजपा समर्थित महेंद्र बरकड़े उप चुनाव जीते हैं। इस तरह अब अनुसूचित जनजाति वर्ग के तीन दावेदार भाजपा में हैं।

क्रास वोटिंग से हुई थी 2022 में भाजपा की जीत

इससे पहले जुलाई 2022 में जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए हुए चुनाव में कांग्रेस बहुमत में थी। 17 सदस्यीय जिला पंचायत में कांग्रेस के 9 और भाजपा के आठ सदस्य थे। कांग्रेस का जिला पंचायत अध्यक्ष बनना तय माना जा रहा था लेकिन क्रास वोटिंग हो गई और अल्पमत में होते हुए भी जीत भाजपा की हुई। संतोष बरकड़े जिला पंचायत अध्यक्ष निर्वाचित हुए। जिनके विधायक बनने के बाद यह पद रिक्त हुए। अब भाजपा के 11 सदस्य हो गए हैं, वहीं कांग्रेस 9 से घटकर 6 पर आ गई है।

सिहोरा कांग्रेस के लिए अबूझ

सिहोरा विधानसभा क्षेत्र कांग्रेस के लिए अबूझ बनता जा रहा है। नेतृत्व जिस पर भी भरोसा जताता है, वही दामन छोड़ रहा है। 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी रहे खिलाड़ी सिंह आर्मो ने 2023 में पार्टी छोड़ दी थी और अब एकता ठाकुर ने कांग्रेस को ठेंगा दिखा दिया। उनके साथ विधानसभा चुनाव संचालन करने वाले आशीष पाण्डेय भी कैबिनेट मंत्री राकेश सिंह की मौजूदगी में प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा के हाथों भाजपा की सदस्यता ग्रहण की।

ट्रेंडिंग वीडियो