नर्मदा गौ कुंभ 2020: दुनिया में कहीं नहीं देखी होगी ऐसी कलश यात्रा, संतों की शान देख आश्चर्य में पड़े लोग: देखें वीडियो

ग्वारीघाट से कुम्भ परिसर तक गूंजा त्वदीय पाद पंकजम नमामि देवी नर्मदे

By: Lalit kostha

Updated: 26 Feb 2020, 10:29 AM IST

जबलपुर. त्वदीय पाद पंकजम नमामि देवी नर्मदे की सुमधुर धुन से मंगलवार को पावन तट ग्वारीघाट से लेकर कु म्भ स्थल गूंज उठा। पुण्य सलिला के तट उमाघाट में वैदिक मंत्रोच्चार के साथ साधु-संतों ने पूजन किया। गीता धाम, राज्य शासन व जिला प्रशासन के तत्वावधान में आयोजित मां नर्मदा गो कुम्भ में कार्यक्रम के संरक्षक स्वामी श्यामदेवाचार्य, संयोजक स्वामी नरसिंह दास, यजमान गौरव भनोत ने मैया नर्मदा व गो का पूजन अर्चन किया। तट पर कन्या पूजन किया गया। इसके बाद संतों की अगुवाई में विशाल कलश यात्रा निकाली गई। जिसमें बड़ी संख्या में पीत वस्त्रधारी नारी शक्ति शामिल हुईं। इस दौरान बैंड दल नर्मदाष्टक की सुमधुर प्रस्तुति दे रहे थे।

कलश में नर्मदा जल भरकर महिलाएं गो पुष्टि यज्ञ स्थल पहुंचीं। आयोजन के संस्थापक, संयोजक, यजमान ने पूजन-अनुष्ठान कर भगवान योगेश्वर, मां दुर्गा, पवनसुत हनुमान, भगवान पारदेश्वर और सिद्ध बाबा का आह्वान किया। वैदिक ब्राह्मणों ने बेदी व हवन कुंड का पूजन-अर्चन किया।

भव्यमहाआरती
कु म्भ परिसर में विराजमान सवा करोड़ नर्वदेश्वर से निर्मित शिवलिंग, अर्धनारीश्वर भगवान, विशालकाय शिव प्रतिमा की भव्य महाआरती की गई। संध्या बेला में रोशनी से नहाया पूरा परिसर भक्ति रस से सराबोर हो गया। परिसर में विराजमान राम लला, मां नर्मदा, भगवान कार्तिकेय, गणपति भगवान की प्रतिदिन शाम 7 बजे से महाआरती की जाएगी।

ये थे शामिल
इस दिन के आयोजन में स्वामी घनश्यामाचार्य, स्वामी जन्मेजय शरण, स्वामी प्रणवानंद, स्वामी अवधेश कुमार दास, बड़े भक्तमाल, बजरंग शरण, श्याम शरण दास उदयपुर, ईश्वर दास उत्तराखंड, स्वामी सरजू दास, स्वामी केशवदास, महंत कमल नयन दास, स्वामी अखिलेश्वरानंद गिरी, दंडी स्वामी कालिका नंद सरस्वती, स्वामी गिरीशानंद सरस्वती, महंत काली नंद, महंत रामजीशरण, महंत राजेश दास, स्वामी राजेश्वरानंद शामिल थे।

आज के आयोजन
3 मार्च तक चलने वाले कुम्भ में तीसरे दिन बुधवार को संत जन नर्मदा स्वच्छता और सुरक्षा पर गहन विचार विमर्श करेंगे। सुबह 8 से दोपहर 12 बजे तक नर्मदा महायज्ञ होगा। महारुद्र यज्ञ, नर्मदा महायज्ञ व गोपुष्टि महायज्ञ होगा। सुबह 11.30 से दोपहर 3 बजे तक कथा वक्ता आचार्य इंद्रेश उपाध्याय भागवत कथा की व्याख्या करेंगे। सांस्कृतिक आयोजनों में शाम को गायक मनीष चंचल, नृत्यांगना भैरवी विश्वरूप, मोहिनी मोघे व गुदुंब बाजा दल मेढाखार के आदिवासी लोक नृत्य होंगे।

ये संत आएंगे आज
कुम्भ में बुधवार को स्वामी शांत स्वरूपानंद महाराज, शंकराचार्य भानूपुरा पीठाधीश्वर ज्ञानानंद महाराज, स्वामी गौरीशंकर महाराज आएंगे।

Show More
Lalit kostha Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned