छोटी उम्र, बड़ी सोच

सॉफ्ट स्टोरी : लोकसभा चुनाव के मतदान हेतु लोगों को जागरूक करने छोटी सी पहल, सहपाठियों से मिलकर पालकों से वोट डालने की अपील

By: manoj Verma

Updated: 25 Apr 2019, 08:42 PM IST

जबलपुर । चुनावों में मतदान के गिरते आंकड़ों को बढ़ाने हाईस्कूल में पढऩे वाली एक किशोरी के दिमाग में एेसा ख्याल आया कि वह इसके लिए कुछ कर सकती है। आदर्श नगर की रहने वाली अद्विता सक्सेना ने इस दिशा में बेहतर कार्य किया। उसने अपने पालक के साथ बैठकर विचार-विमर्श किया फिर स्कूल प्रबंधन के सहयोग से वह अपने लक्ष्य में सफल रही। किशोरी द्वारा दिए गए फार्म में मतदान की महत्ता को समझते हुए चंद सवाल पालकों के दिमाग को छू गए। 'एवरी वोट काउंट्स' का लक्ष्य लेकर चलने वाली किशोरी द्वारा पांच सौ लोगों के सर्वे में यह सामने आया कि सभी चुनाव में वोट देंगे।

ग्वारीघाट रोड के आदर्श नगर में रहने वाली कक्षा ग्यारहवीं की छात्रा अद्विता सक्सेना ने लोकसभा चुनाव के मद्देनजर मतदान प्रतिशत को बढ़ाने के लिए अपने स्तर का अभिनव प्रयास किया है। इस किशोरी ने मतदान के महत्व को दर्शाते हुए चंद सवाल तैयार किए और उन सवालों का एक फार्म तैयार किया। यह फार्म स्कूल प्रबंधन की सहमति से करीब पांच सौ सहपाठियों को वितरित किए। यह फार्म भरकर आने के बाद इसके सवालों की समीक्षा की तो यह चौकाने वाली बातें आई, जिसका उसे अपने कार्य पर भरोसा था। सर्वे मंे सभी ने शत-प्रतिशत मतदान करने की बात कही।

कुछ करने की व्याकुलता बढ़ी

छोटी सी उम्र में शहर और देश का विकास सोचने वाली किशारी को कुछ करने की व्याकुलता बढ़ी। किशोरी ने अपने मिशन के बारे में माता-पिता से बात की। इस पर उसे माता-पिता की ओर से सहमति मिल गई। किशोरी ने एक फार्म तैयार किया और उसके बाद सत्यप्रकाश स्कूल प्रबंधन से मतदान के लिए लोगों को जागरूक करने की दिशा में कार्य करने की अनुमति मांगी। स्कूल प्रबंधन ने अनुमति ही नहीं दी बल्कि उसके फार्म नौंवी कक्षा तक के सभी विद्यार्थियों तक पहुंचाने की जिम्मेदारी भी ली। किशोरी का कहना है कि चार दिनों में यह फार्म पालकों द्वारा भरकर मिल गए, जिसमें सभी की साकारात्मक सोच सामने आई।

बच्चे भी भावी मतदाता

छात्रा अद्विता कहती हैं कि हमने अपने सहपाठियों से यह महत्वपूर्ण कार्य करवाया है, जो आज नहीं तो कल भावी मतदाता है। बच्चों को अभी से ही मतदान का महत्व पता चलेगा साथ ही उनके पालक भी मतदान को लेकर जागरूक हो सकेंगे। फार्म में कई पालकों ने मतदान को बढ़ावा देने का संकल्प भी लिया है और इसे बढ़ाने के लिए उन्होंने परिचित- रिश्तेदारों का जागरूक करने की बात लिखी है।

बच्ची की जागरूकता को देखते हुए उसे फार्म डिजाइन करने में सहयोग किया। अभी पांच सौ फार्म से लोगों को जागरूक किया है लेकिन मतदान का महत्व समझते हुए आगे पांच हजार लोगों का डिजीटल सर्वे करने का प्रयास करेगी।

डॉ. प्राची सक्सेना

manoj Verma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned