scriptAyodhya Ram Mandir Ramlala Pran Pratishtha Jaipur Galta Tirth | 500 साल पुराने इस मंदिर में श्रीराम के तीन स्वरूपों की हुई 1000 नामों से पुष्पयाग अर्चना, उमड़े लोग | Patrika News

500 साल पुराने इस मंदिर में श्रीराम के तीन स्वरूपों की हुई 1000 नामों से पुष्पयाग अर्चना, उमड़े लोग

locationजयपुरPublished: Jan 22, 2024 11:02:07 am

Submitted by:

Girraj Sharma

Ramlala Pran Pratishtha Mahotsav: अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि पर बने भव्य मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के उपलक्ष्य में शहर में रामोत्सव का उल्लास नजर आ रहा है। घर—घर उत्सव मनाया जा रहा है, वहीं मंदिरों में सुबह से ही हवन, अनुष्ठान व महाआरती के आयोजन हो रहे है।

500 साल पुराने इस मंदिर में श्रीराम के तीन स्वरूपों की हुई 1000 नामों से पुष्पयाग अर्चना, उमड़े लोग
500 साल पुराने इस मंदिर में श्रीराम के तीन स्वरूपों की हुई 1000 नामों से पुष्पयाग अर्चना, उमड़े लोग

जयपुर। अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि पर बने भव्य मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के उपलक्ष्य में शहर में रामोत्सव का उल्लास नजर आ रहा है। घर—घर उत्सव मनाया जा रहा है, वहीं मंदिरों में सुबह से ही विशेष पूजा—पाठ, हवन, अनुष्ठान व अभिषेक के साथ महाआरती के आयोजन हो रहे है। शाम को गुलाबी नगरी दीपकों से जगमग हो उठेगी। श्रीरामचन्द्रजी मंदिरों सहित गलता तीर्थ में महाआरती के आयोजन होंगे। रामनिवास बाग में अयोध्या सा उल्लास नजर आ रहा है। यहां एक लाख 11000 दीपकों से महाआरती होगी। शाम होते ही बाजार दिवाली सी रौशनी से जगमग होंगे।

उत्तर भारत की प्रमुख वैष्णव पीठ श्री गलताजी में गलता पीठाधीश्वर स्वामी अवधेशाचार्य के सान्निध्य में विभिन्न अनुष्ठान किए जा रहे है। श्री गलता पीठ में यहां 500 वर्ष से भी अधिक प्राचीन रामलला के विग्रह का विद्वानों ने वैदिक विधि व मंत्रोच्चार के साथ पंचामृत, सर्व औषधि, फलों, मेवों आदि से पंचामृत अभिषेक किया। इसके बाद भगवान का आकर्षक श्रृंगार कर महाआरती की गई। रामलला के साथ–साथ सीतारामजी, रामकुमारजी, रघुनाथजी के उत्सव विग्रहों का भी अभिषेक, श्रृंगार व महाआरती की गई। भगवान राम का 1000 नामों से पुष्पयाग किया गया। गलता पीठ के युवराज स्वामी राघवेन्द्र ने बताया कि श्री गलता पीठ उत्तर भारत का प्रथम व प्रमुख श्री रामभक्ति केन्द्र है।

मोदक प्रसाद बांटा
मोती डूंगरी गणेश मंदिर को रोशनी से सजाया गया है। रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के साथ ही दोपहर 1:30 बजे तक मोदक प्रसादी वितरित की जाएगी। वहीं शाम 6 बजे आतिशबाजी होगी। पूरे मंदिर को फूल माला व रंग बिरंगी लाइटों से सजाया गया है।

सामूहिक सुंदरकांड पाठ
चांदी की टकसाल स्थित काले हनुमानजी मंदिर में दो दिवसीय महोत्सव के तहत सुबह हनुमानजी महाराज के पंचामृत अभिषेक किया गया। इसके बाद मंदिर में सामूहिक रूप से सुंदरकांड पाठ हुए। इसके बाद प्रसादी वितरित की गई। शाम को हनुमान चालीसा के पाठ होंगे।

आतिशबाजी होगी आकर्षण का केन्द्र
सिटी पैलेस के पास चांदनी चौक स्थित प्रतापेश्वर महादेव मंदिर और ब्रजनिधिजी मंदिर के सामने शाम 6 बजे मोती डूंगरी गणेश मंदिर ट्रस्ट की ओर से आतिशबाजी होगी। सिटी पैलेस की ओर से राम दरबार सज रहा है। देवस्थान विभाग की ओर से आकर्षक लाइटिंग और सजावट की की गई है।

सियारामजी को लगा छप्पन भोग
खोले के हनुमान मंदिर में रामोत्सव समारोह का आयोजन हो रहा है। मंदिर में शिखर पर स्थित सियाराम मंदिर सुबह श्रीरामजी का सरयू व गंगोत्री के जल से अभिषेक कराया गया, इसके बाद फूल बंगला झांकी के दर्शन हुए। मंदिर में छप्पन भोग सज रहा है। दोपहर 2.30 बजे सियाराम जी महाराज की आरती हो रही है। इस बीच बधाई गान, भजन व सुंदरकांड के पाठ हो रहे है। शाम 6.00 बजे मंदिर में 1100 दीपक प्रज्वलित होंगे।

सामूहिक हनुमान चालीसा
मंदिर श्रीघाट के बालाजी में सुबह महंत सुदर्शनाचार्य के सान्निध्य में मंदिर में विराजमान रामलला उत्सव विग्रह एवं बालाजी महाराज की 2100 दीपकों से महाआरती की गई। शाम 7:30 बजे सामूहिक हनुमान चालीसा पाठ एवं सुंदरकांड पाठ का आयोजन होगा।

यह भी पढ़ें

300 ड्रोन आकाश में उड़ेंगे: बनाएंगे राम मंदिर की प्रतिकृति, 111000 दीपकों की रोशनी में साकार होगा राम मंदिर

श्रीरामलला के स्वरूप में ताड़कबाबा का शृंगार
चौड़ा रास्ता स्थित ताड़केश्वर महादेव मंदिर में ताड़क बाबा श्रीरामलला के स्वरूप में नजर आएंगे। भक्त दोपहर एक बजे एक साथ हनुमान चालिसा के पाठ करेंगे। वहीं शाम को महाआरती होगी, इस दौरान मंदिर दीपकों से जगमग होगा। महोत्सव को लेकर 23 जनवरी को महाप्रसादी का आयोजन किया जाएगा।

ट्रेंडिंग वीडियो