scriptशव देख छलके आंसू…फूटा गुस्सा | dead body | Patrika News
जयपुर

शव देख छलके आंसू…फूटा गुस्सा

जम्मू में बस पर हुए आतंकी हमले में जयपुर के चार लोगों की मौत के बाद मंगलवार सुबह ट्रेन से शव जयपुर पहुंचे तो लोगों का गुस्सा फूट पड़ा।

जयपुरJun 12, 2024 / 06:28 pm

Lalit Tiwari

जम्मू में बस पर हुए आतंकी हमले में जयपुर के चार लोगों की मौत के बाद मंगलवार सुबह ट्रेन से शव जयपुर पहुंचे तो लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। चौमूं और मुरलीपुरा में बड़ी संख्या में लोग सड़कों पर उतरे और आंतकवाद और पाकिस्तान के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। लोगों की ओर से पीड़ित परिवार के परिजनों को मुआवजा व सरकारी नौकरी देने की मांग की। किसी तरह की अनहोनी को रोकने के लिए पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी मौके पर मौजूद रहे और भारी पुलिस जाप्ता तैनात किया गया। मुरलीपुरा में सीकर रोड पर जाम लगाया वहीं चौमूं में थाना मोड पर जाम लगाकर बाजार बंद करवाए बस का सीसा तोडऩे पर पुलिस ने कुछ युवकों पर किया हल्का बल प्रयोग भी किया। शाम चार बजे पचास लाख रुपए, संविदा पर नौकरी और डेयरी बूथ का आंवटन की घोषणा के बाद धरना खत्म हुआ।
ट्रेन से पहुंचे जयपुर शव
आज सुबह ट्रेन से चारों मृतकों के शव जयपुर जंक्शन पर पहुंचे। इस दौरान कलक्टर प्रकाश राजपुरोहित, एडीएम साउथ शैफाली कुशवाहा व अन्य प्रशासनिक अधिकारी मौके पर मौजूद थे। पूजा एक्सप्रेस करीब साढ़े नौ बजे जंक्शन पर पहुंची। इस दौरान पूरा माहौल गमगीन हो गया। इस दौरान रेस्क्यू करने वाली टीम के कर्मचारियों ने शवों को उतारकर गाड़ियों में रखा। रेलवे स्टेशन पर इस दौरान भारी भीड़ लग गई। हर किसी के चेहरे पर आतंकियों को लेकर गुस्सा साफ दिख रहा था।
परिजनों ने घेरा मुरलीपुरा थाना
आंतकी हमले में मारे गए लोगों के परिजनों ने सरकार से 50 लाख रुपए और सरकारी नौकरी देने की मांग की। आतंकी हमले का शिकार हुई पवन सैनी की पत्नी पूजा सैनी अजमेरा की ढाणी की रहने वाली थी। पवन के दो साल के बेटे लिवांश की भी मौत हो गई। वहीं पवन के चाचा ससुर पांच्यावाली ढाणी निवासी राजेन्द्र सैनी और उनकी पत्नी ममता सैनी भी आंतकी हमले में मारे गए। जबकि पवन घायल हो गए।
समझौते में भूपेन्द्र सैनी की रही अहम भूमिका
मृतक परिवार के परिजनों को मुआवजा दिलवाने में भाजपा के प्रदेश मंत्री भूपेन्द्र सैनी की अहम भूमिका रही। उन्होंने सरकार से बात करके मृतक परिवार के सदस्यों को 50-50 लाख रुपए, संविदा पर नौकरी और डेयरी बूथ का आंवटन करवाया।
घायल पवन के साथ मुरलीपुरा पहुंचे शव
जयपुर पहुंचने से पहले ही चौमूं और मुरलीपुरा में विरोध प्रदर्शन शुरू हो चुका था। ऐसे में राजेन्द्र उनकी पत्नी ममता, पूजा और बेटे लिवांश के शव के साथ घायल पवन सैनी को पुलिस मुरलीपुरा लेकर पहुंची। जहां पूजा लिवांश और पवन को उसके घर सुरक्षा के बीच रखा गया जबकि राजेन्द्र और ममता के शव को मुरलीपुरा थाने के बाहर गाड़ी में रखा गया।
50 लाख रुपए, संविदा पर नौकरी और डेयरी बूथ मिलेगा
मृतक परिवार के परिजनों को मुआवजा दिलवाने में भाजपा के प्रदेश मंत्री भूपेन्द्र सैनी की अहम भूमिका रही। राज्य सरकार की ओर से आंतकी हमले में मारे गए दोनों परिवारों के मृतकों के परिजनों को 50-50 लाख मुआवजा, आश्रितों को संविदा की नौकरी देगी और परिवार को डेयरी बूथ का आवंटन किया जाएगा। एसडीएम दिलीप सिंह ने बताया कि मृतकों के आश्रितों को जम्मू कश्मीर सरकार ने भी प्रति मृतक 10 लाख रुपए दिए हैं। इसके लिए अकाउंट डिटेल भेज दी हैं। जल्द ही यह राशि खाते में आ जाएगी।
घर से उठी अर्थी तो छलके आंसू
आंतकी हमले में मौत का शिकार हुए चौमू निवासी राजेन्द्र सैनी, ममता सैनी, पूजा सैनी और दो साल के लिवांश की अर्थी घर से उठी तो कोहराम मच गया। हर किसी की आंखें नम थी। वहीं घायल पवन पत्नी और बच्चे के शव को देखकर बिलख उठे। चौमू में करीब साढे पांच बजे जैसे ही पांच्यावाली ढाणी में मृतक दंपति के शव पहुंचे तो ढाणी में माहौल गमगीन हो गया और मृतकों के परिजनों में चीख पुकार मच गई। दंपति की बेटी वर्षा और दोनों बेटों राहुल एवं लक्की की रुलाई थमने का नाम नहीं ले रही थी। मृतक के भाई ओमप्रकाश और मंगलचंद भी छोटे भाई और उसकी बहु के खोने का दर्द आंखों में साफ दिख रहा था। ऐसा ही हाल अन्य परिजनों का था। रिश्तेदार ढाढस बंधा रहे थे। दोनों शवों की अंत्येष्टि एक ही चिता पर की गई। इस दौरान हर किसी की आंख नम दिखी। शवों को पुलिस के जवानों ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। इस दौरान स्वायत्त शासन मंत्री झाबर सिंह खर्रा भी शामिल हुए।
आंतकी हमले में घायल पवन ने कहा न्याय मिले
आतंकी हमले में घायल पवन सैनी का कहना था कि उसे न्याय चाहिए। घटना के समय बेटा लिवांश मेरी गोद में था। चाचा (राजेंद्र) और चाची (ममता) मेरी पीछे वाली सीट पर बैठे थे। अचानक सामने से फायरिंग शुरू हो गई और हमारी बस खाई में गिर गई।
तेज धूप और गर्मी में बैठे रहे लोग
सुबह दस बजे मुरलीपुरा और चौमू थाने के बाहर बड़ी संख्या में पहुंचे लोगों ने धरना दिया। दोपहर में तेज गर्मी के बाद भी लोग बैठे रहे और न्याय देने की मांग करते रहे। चौमू में तीन महिलाएं बेहोश हो गई। बाद में पुलिस ने महिलाओं को तत्काल उपचार के लिए शहर के राजकीय अस्पताल में पहुंचाया।
घटनाओं के लिए केन्द्र की भाजपा सरकार जिम्मेदार
पूर्व मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि कश्मीर में लगातार आतंकवादी गतिविधियां बढ़ रही है इन सब घटनाओं के लिए केंद्र की भाजपा सरकार जिम्मेदार है। आतंकवादियों द्वारा रोजाना आतंकी हमले होने के बावजूद प्रधानमंत्री मोदी कहते हैं कश्मीर अब पूरी तरह सुरक्षित हो गया है घूमने जाओ किसी भी तरह का कोई भी आतंकवाद आपका कुछ नहीं बिगाड़ सकता। कश्मीर में केंद्र सरकार द्वारा की जा रही सुरक्षा एवं नीतियां पूरी तरह से फेल हो रही है और भाजपा नेता झूठे बयान देकर लोगों को आतंकवादी घटनाओं का शिकार कर रहे हैं।

Hindi News/ Jaipur / शव देख छलके आंसू…फूटा गुस्सा

ट्रेंडिंग वीडियो