scriptसाइकिल चलाकर जयपुर पहुंचे जर्मनी के एडवर्ड-सोफी, मोहब्बत से लेकर शादी तक की बयां की दिलचस्प कहानी | Edward and Sophie Germany Marriage Bond Trip 16 Countries 11000 Kilometer Journey Bicycle | Patrika News
जयपुर

साइकिल चलाकर जयपुर पहुंचे जर्मनी के एडवर्ड-सोफी, मोहब्बत से लेकर शादी तक की बयां की दिलचस्प कहानी

Edward and Sophie Love Story: विवाह बंधन में बंधने से पहले अब युवा हर तरह के चेलेंज लेने को तैयार है। ऐसा ही चेलेंज जर्मनी के दो मित्र एडवर्ड और सोफी ने लिया। वे साइकिल से विभिन्न देशों से होते हुए जयपुर पहुंचे।

जयपुरApr 01, 2024 / 10:37 am

Omprakash Dhaka

edward_and_sophie.jpg

जयपुर आए जर्मनी के एडवर्ड व सोफी ने साझा किए अपने अनुभव।

Edward and Sophie Love Story: विवाह बंधन में बंधने से पहले अब युवा हर तरह के चेलेंज लेने को तैयार है। ऐसा ही चेलेंज जर्मनी के दो मित्र एडवर्ड और सोफी ने लिया। वे साइकिल से विभिन्न देशों से होते हुए जयपुर पहुंचे। एडवर्ड ने अनुभव साझा करते हुए बताया कि उन्होंने तय किया कि शादी के पहले वे साइकिल से आधी दुनिया का भ्रमण करेंगे और दुनिया को करीब से देखने के साथ जो भी चेलेंज आएंगे, उनका सामना भी करेंगे।

 

एडवर्ड ने बताया कि इस यात्रा के दौरान एक-दूसरे को करीब से समझने का मौका भी मिल रहा है। हालांकि यह सुनने में बड़ा ही आकर्षक लगता है, लेकिन साइकिल पर दुनिया का भ्रमण आसान नहीं है। वे 16 से अधिक देशों की साइकिल से यात्रा कर चुके हैं। करीब 11000 किलोमीटर की यात्रा कर वे अब नेपाल होते हुए जर्मनी जाएंगे।

 

एडवर्ड की होने वाली बेटर हाफ सोफी ने बताया कि वातावरण व मौसम के कारण कई बार तकलीफें आयी, वहीं कुछ जगहों पर लोगों का व्यवहार और सरकारी अधिकारियों से परेशानी भी उठानी पड़ी। इसके विपरीत भारत में किसी भी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा, बल्कि यहां हर जगह स्वागत सत्कार हुआ। जयपुर की मीनाकारी की ज्वैलरी पसंद आई, जिसे वह शादी में पहनेंगी। सोफी ने कहा कि वे शादी के बाद फिर से जयपुर आएंगे।

 

इन देशों की कर चुके यात्रा
ऑस्ट्रिया, हंगरी, स्लोवेनिया, क्रोएशिया, बोस्निया, हर्जेगोविना, मॉन्टेनीग्रो, अल्बानिया, मैसेडोनिया, ग्रीस, तुर्की, जॉर्जिया, आर्मेनिया, ईरान, पाकिस्तान।

 

एक निजी म्यूजियम के डायरेक्टर अनूप श्रीवास्तव ने बताया कि एडवर्ड और सोफी ने म्यूजियम में पूरा दिन बिताया। रत्न और ज्वैलरी की जानकारी ली। भारतीय परंपराओं में 16 शृंगार की ज्वैलरी पसंद आई। अंगूठी, गले का हार, कान की बालियां और चूड़ियों की जानकारी ली। कुन्दन मीनाकारी की ज्वैलरी भी उसे पंसद आई। इस दौरान उन्होंने अपने पति से वादा करवाया कि विवाह में वह कुन्दन मीना की ज्वैलरी पहनेंगी।


यह भी पढ़ें

पत्रिका के स्पीक आउट कार्यक्रम में बोले लोग…समस्याओं का दूसरा नाम पीआरएन, बरसात में घर का रास्ता भी नहीं दिखता

 

चार दिन जयपुर में रहे
एडवर्ड व सोफी चार दिन गुर्जर घाटी स्थित रघुवीर के घर रहे। रघुवीर ने बताया कि 4 दिन उन्होंने यहां राजस्थानी व्यंजनों का मजा उठाया। उन्होंने यहां आमेर महल, सिटी पैलेस, जंतर-मंतर, अल्बर्ट हाल और हवामहल भी देखा।

Hindi News/ Jaipur / साइकिल चलाकर जयपुर पहुंचे जर्मनी के एडवर्ड-सोफी, मोहब्बत से लेकर शादी तक की बयां की दिलचस्प कहानी

loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो