पूर्व मंत्री Yoonus Khan ने किया ऐसा पोस्ट, कि भड़क उठे उन्हीं की पार्टी के कार्यकर्ता, जानें क्यों?

प्रदेश भाजपा में फिर मुखर हुई गुटबाजी!, गहलोत-पायलट की तर्ज़ पर राजे-पूनिया कैम्प आमने-सामने! युनुस खान के पोस्टर में ‘नदारद’ पूनिया, वसुंधरा की दिखी तस्वीर, सोशल मीडिया पर पूनिया कैम्प कार्यकर्ता दिखा रहे नाराजगी

 

By: nakul

Published: 29 Jun 2020, 11:26 AM IST

जयपुर।

पूर्व मंत्री व भाजपा के वरिष्ठ नेता युनुस खान ( Yoonus Khan ) को इन दिनों पार्टी के ही कार्यकर्ताओं की नाराजगी का सामना करना पड़ रहा है। दरअसल, युनुस खान ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ( Nitin Gadkari ) की शनिवार को हुई राजस्थान जनसंवाद रैली ( Rajasthan Jan Samvad Rally ) के लिए जो प्रचार सामग्री जारी की उसमें भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ( Satish Poonia ) की तस्वीर नदारद रही, जबकि पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ( Vasundhara Raje ) की तस्वीर प्रमुखता से दर्शाई गई थी। बस इसी के बाद से कार्यकर्ता पूर्व मंत्री को आड़े हाथ ले रहे हैं।

मोदी-नड्डा-राजे दिखे, पूनिया रहे ‘गायब’
भाजपा नेता युनुस खान की ओर से राजस्थान जनसंवाद रैली के जारी हुई प्रचार सामग्री में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और साथ में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की तस्वीर दिखाई गई। जबकि केंद्रीय मंत्री गडकरी और खुद युनुस खान की तस्वीर शामिल रही। सोशल मीडिया पर भी जारी हुए पोस्टर में कहीं भी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया की तस्वीर दिखाई नहीं दी।

पूनिया की तस्वीर पोस्टर व अन्य प्रचार सामग्रियों में नहीं देखकर कार्यकर्ता नाराज़ दिखाई दे रहे हैं। खासतौर से पूनिया कैम्प के कार्यकर्ताओं ने युनुस खां के खिलाफ जैसे मोर्चा खोला हुआ है। पोस्टर में पूनिया के शामिल नहीं होने पर कार्यकर्ताओं ने सोशल मीडिया पर कई तरह के कमेंट्स किये हैं। कार्यकर्ताओं का कहना है कि जनसंवाद रैली प्रदेश भाजपा का कार्यक्रम है, ऐसे में प्रचार सामग्रियों में पार्टी प्रदेश अध्यक्ष की तस्वीर होना ज़रूरी है।

भाजपा में नई नहीं है गुटबाजी
ये कोई पहली बार नहीं है जब प्रदेश भाजपा में गुटबाजी नज़र आ रही है। पूनिया के प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद से पूनिया और राजे कैम्प के कार्यकर्ता कई बार आमने-सामने हो चुके हैं। गुटबाजी की शुरुआत तभी से देखने को मिल गई थी जब राजे सतीश पूनिया के कार्यभार ग्रहण समारोह में नहीं पहुंची थीं। हालाँकि तब राजे के नहीं आने को व्यक्तिगत कारण बताते हुए किनारा किया गया था।

... जब ‘भड़क’ गईं थी राजे
पोस्टर में तस्वीर नहीं होने की बात को लेकर पिछले साल के दिसंबर माह में भी ऐसा ही कुछ देखने को मिला था। दरअसल, तब प्रदेश भाजपा की ओर से नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में जयपुर में हुए मुख्य प्रदर्शन में वसुंधरा राजे नाराज़ हो गईं थी। सभा स्थल पर पहुंची राजे को जब वहां लगे पोस्टर्स में अपनी त्तास्वीर नहीं दिखी तब वे नाराज़ हो गईं। नौबत तो यहाँ तक आ गई थी कि वे सभा के लिए बनाए गए मंच पर बैठने तक को राज़ी नहीं हुईं। बाद में अन्य वरिष्ठ नेताओं की मां-मनुहार के बाद राजे मंच पर चढ़ीं। वहां लगे होर्डिंग-पोस्टर्स में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा के कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया की तस्वीर ही चस्पा थी।


''व्यक्तिगत अपनी अपनी सोच है, मैं इस पर अधिक क्या बोल सकता हूं।'' -सतीश पूनिया, प्रदेश अध्यक्ष, भाजपा

''सतीश पूनिया हम सभी के लिए चुने हुए अध्यक्ष हैं। पोस्टर पर किसका फोटो है किसका नहीं है, इस पर मैं कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता।''
यूनुस खान, पूर्व मंत्री, वरिष्ठ नेता भाजपा

nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned