CM गहलोत के साथ फोटो सेशन में एकमात्र महिला IAS अफसर, बजट बनाने में है बड़ा रोल, जानिये कौन हैं ये

CM गहलोत के साथ फोटो सेशन में एकमात्र महिला IAS अफसर, बजट बनाने में है बड़ा रोल, जानिये कौन हैं ये

Nakul Devarshi | Publish: Jul, 10 2019 09:35:34 AM (IST) | Updated: Jul, 10 2019 09:43:14 AM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

Rajasthan State Budget 2019-20 : राजस्थान का वित्तीय वर्ष 2019-2020 ( Rajasthan State Budget 2019-20 ) का बजट पेश होने जा रहा है। सूबे के मुखिया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ( Chief Minister Ashok Gehlot ) बुधवार सुबह 11 बजे राज्य बजट ( State Budget ) पेश करेंगे।

जयपुर।

राजस्थान का वित्तीय वर्ष 2019-2020 ( Rajasthan State Budget 2019-20 ) का बजट पेश होने जा रहा है। सूबे के मुखिया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ( Chief Minister Ashok Gehlot ) बुधवार सुबह 11 बजे राज्य बजट ( State Budget ) पेश करेंगे। उम्मीदों का बजट कितना खरा उतर पाता है( Rajasthan Budget 2019 Expectations ) , ये देखना दिलचस्प रहेगा। लेकिन उससे पहले ये जान लेना भी ज़रूरी है कि आखिर इस बार का बजट बनाने में किन-किन अफसरों ( IAS Officers ) की अहम भूमिका रही है।


दरअसल, बजट पेश करने से एक दिन पहले सीएम गहलोत ने इस बार के राज्य बजट में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले अफसरों के साथ फोटो सेशन करवाया। इस दौरान वित्त महकमें के वो तमाम अफसर मौजूद रहे जिनपर प्रदेश भर के लोगों की उम्मीदों को पूरा करने का दारोमदार रहा। बजट पूर्व हुए इस फोटो सेशन में सीएम गहलोत के साथ पांच अफसर देखे गए, जिनमें एक महिला आईएएस अफसर भी शामिल रहीं।

 

ये भी पढ़ें: राजस्थान बजट आज : कर्ज का भंवर...घाटे का टंटा


ये अफसर रहे फोटो सेशन में मौजूद

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को राज्य के वित्तीय वर्ष 2019-2020 के बजट को अंतिम रूप देते हुए फोटो सेशन करवाया। इस अवसर पर अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त निरंजन आर्य, शासन सचिव वित्त (राजस्व) डॉ. पृथ्वीराज, शासन सचिव वित्त (बजट) मंजू राजपाल, विशिष्ट सचिव वित्त (व्यय) सुधीर शर्मा एवं निदेशक वित्त (बजट) शरद मेहरा भी मौजूद थे।

 

बड़ी ज़िम्मेदारी में IAS मंजू राजपाल

राज्य बजट बनाने की ज़िम्मेदारी वैसे तो कई अधिकारियों के पास थी। लेकिन एक महिला आईएएस अफसर का जो रोल रहा वो सबसे महत्वपूर्ण माना जा सकता है। सीनियर IAS ऑफिसर मंजू राजपाल ( Senior IAS Officer Manju Rajpal ) इस बार शासन सचिव वित्त (बजट) के रोल में दिखाई दी हैं। इससे पहले भी वो सरकार की प्रशासनिक टीम में रहते हुए कई महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारियाँ निभा चुकीं हैं।

IAS Officer Manju Rajpal

उतार-चढ़ाव, चुनौतियों भरा रहा है करियर

आईएएस बनने तक के सफर में तो मंजू राजपाल ने कड़ी मेहनत की ही, लेकिन आईएएस बनने के बाद तो चुनौतियां पहाड़ की तरह सामने रही। चूरू में जन्मीं मंजू राजपाल वर्ष 2000 बैच में महिला टॉपर रहीं।

 

ये भी पढ़ें: बजट से उम्मीद : अलवर के भिवाड़ी को मिल सकता है एसपी ऑफिस का तोहफा

 

मंजू जब आईएएस बनी तो शुरूआती दिनों में उन्हें प्रशासनिक स्तर पर काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। उन्हें एक मामले में एपीओ तक होना पड़ा। वे डूंगरपुर, भीलवाड़ा, अजमेर और सीकर सहित अन्य ज़िलों में जिला कलक्टर रह चुकीं हैं। कलेक्टर रहते हुए कई तरह के नवाचारों से उनकी सराहना भी हुई और वे सुर्ख़ियों में रहीं।

IAS Manju Rajpal

वर्ष 2006 में राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना को प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए मंजू राजपाल को बेस्ट कलक्टर को अवार्ड दिया गया। डूंगरपुर के आदिवासी क्षेत्र में कलक्टर मंजू राजपाल ने अपनी गहरी छाप छोड़ी थी। बेटियों को गोद भी लिया।

IAS Manju Rajpal

मौजूदा सरकार का है पहला पूर्ण बजट

गहलोत सरकार के मौजूदा कार्यकाल का ये पहला पूर्ण बजट है। ऐसे में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत समाज के सभी वर्गों से जुडी घोषणाएं ( Rajasthan Budget 2019 Expectations ) कर सकते हैं। शिक्षा, चिकित्सा, बिजली,पानी और सार्वजनिक निमार्ण विभाग में नई घोषणाएं बजट ( Rajasthan Budget 2019 Predictions ) में हो सकती हैं।


CM अशोक गहलोत मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना ( Rajasthan free medicine scheme ) का दायरा बढा कर योजना में किडनी, कैंसर और अस्थमा की 104 तरह की दवाओं की घोषणा कर सकते हैं। वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत प्रदेश में राइट टू हैल्थ ( right to health ) को लागू करने की घोषणा कर सकते हैं।


यह भी कहा जा रहा है कि बजट ऐसी घोषणाएं ज्यादा हो सकती हैं जिन्हें पूरा करने में सरकार को किसी भी तरह का वित्तीय संकट का सामना नहीं करना पडे। BJP सरकार ने आखिरी बजट वित्तीय वर्ष 2018-19 पेश किया था। बजट में 1 लाख 97 हजार करोड रुपए के बजट प्रावधान किए गए थे।


नए बजट के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत प्रदेश में व्यापारियों, किसानों, उपभोक्ता संगठनों के साथ संवाद कर चुके हैं। क्षेत्रवार विधायकों से भी क्षेत्र की प्राथमिकताओं के हिसाब से भी सुझाव लिए हैं जिनको बजट में शामिल किया जा सकता है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned