script 5 राज्यों में 70 फीसदी से अधिक श्रमिकों ने काम पर गंवाई जान, जानें कौन है इसका गुनहगार | In 5 states 70 workers lost life while working in factories | Patrika News

5 राज्यों में 70 फीसदी से अधिक श्रमिकों ने काम पर गंवाई जान, जानें कौन है इसका गुनहगार

locationजयपुरPublished: Dec 01, 2023 05:00:58 pm

Submitted by:

Prachi Bhatia

कारखानों में बढ़ती लापरवाही के साथ इन हादसों की जांचने वाले निरीक्षकों की किल्लत......हर तीसरा पद खाली

workers
Workers

नई दिल्ली. फैक्ट्री में काम करने वाले श्रमिकों में दुर्घटनाओं का सिलसिला वर्ष 2017 के बाद तेजी से बढ़ा है। हालात ऐसे है कि वर्ष 2021 में देश के 5 राज्यों में 70 फीसदी से अधिक श्रमिकों ने कारखानों में काम के दौरान गंभीर रूप से घायल होने के कारण जान गंवाई थी। जबकि इस दौरान कुल 988 श्रमिकों की मृत्यु हुई, जिसका मतलब है कि वर्ष 2021 में हर दिन फैक्ट्री में घायल होने से 3 श्रमिकों की मृत्यु हुई। इन राज्यों में सबसे अधिक मौतें गुजरात में दर्ज हुई जहां मृत्यु का आंकड़ा 235 रहा। श्रम और रोजगार मंत्रालय के महानिदेशालय फैक्ट्री सलाह सेवा और श्रम संस्थान (डीजीएफएएसएलआई) के आंकड़ों के मुताबिक, वर्ष 2012-2021 के बीच सबसे अधिक मौतें फैक्ट्री में फिसलकर गिरने से हुई थी । इन मामलों को जांचने वाली निरीक्षकों की टीम की भारी कमी है। इंस्पेक्टर से लेकर केमिकल इंस्पेक्टर के पद खाली हैं। जहां वर्ष 2018 में इंस्पेक्टर के 29 पद% खाली थे, वहीं यह आंकड़ा 2021 में बढ़कर 32% पर पहुंच गया।

इन राज्यों में बढ़े मौत के मामले

राज्य 2017 2021
गुजरात 229 235
महाराष्ट्र 137 180
तमिल नाडु 71 147
छत्तीसगढ़ 72 82
आंध्रप्रदेश 68 65

(स्रोतःश्रम एवं रोजगार मंत्रालय)

गिरने के अलावा इन कारणों से हुई मृत्यु

कारण संख्या
गिरने से 2, 126
मशीनों में दब कर 1,333
करंट लगने से 965
आग लगने से 934
धमाका होने से 864

(स्रोतःश्रम एवं रोजगार मंत्रालय-वर्ष 2012-2021 के बीच घटी मौत के आंकड़े )

निरीक्षक के पोस्ट पर हर तीसरा पद खाली

पद 2018 2021
इंस्पेक्टर 28.61% 32%
मेडिकल इंस्पेक्टर 56% 56%
केमिकल इंस्पेक्टर 30% 36%

(स्रोतःश्रम एवं रोजगार मंत्रालय)

ट्रेंडिंग वीडियो