scriptMobilization of MPs in Delhi on CM face, change will come in the state | सीएम फेस पर दिल्ली में गोलबंदी, नए चेहरे से ही आएगा प्रदेश में बदलाव | Patrika News

सीएम फेस पर दिल्ली में गोलबंदी, नए चेहरे से ही आएगा प्रदेश में बदलाव

locationजयपुरPublished: Dec 11, 2023 02:57:23 pm

Submitted by:

Vikas Jain

टैरर पॉलिटिक्स अब नहीं आएगी काम, व्यक्ति निष्ठा वालों के टिकट काटकर पार्टी दे चुकी संकेत
राजस्थान के सांसदों ने दिए संकेत

cm_face.jpg
राजस्थान को नए सीएम के इंतजार के बीच राजधानी दिल्ली में प्रदेश के सांसदों ने भी गोलबंदी शुरू कर दी है। अधिकांश लोकसभा और राज्यसभा सांसद राज्य में नया और सर्वमान्य चेहरा ही सीएम चाहते हैं। चुनावी नतीजों के बाद जयपुर में विधायकों के साथ चल रही टैरर पॉलिटिक्स और शक्ति प्रदर्शन के बारे में सांसदों ने कहा कि इस तरह की राजनीति भाजपा में भारी पड़ती है।
संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान सांसदों ने बातचीत में कहा कि राजस्थान को इस बार नया सीएम मिलने वाला है। हालांकि मुख्यमंत्री पद के दावेदारों की सूची में शामिल सांसदों ने आधिकारिक तौर पर मौन साधा हुआ है। लेकिन एक सांसद ने कहा कि भाजपा में संगठनात्मक और सत्ता में भागीदारी उसीको मिलती है, जिसने व्यक्ति के बजाय पार्टी के प्रति निष्ठा दिखाई है। यही कारण रहा कि इस बार विधानसभा चुनाव में जिताऊ नजर आ रहे कई दिग्गजों को भी टिकट से वंचित कर दिया गया। यही संकेत अब सरकार के गठन में भी नजर आएंगे।
सीएम के साथ दो डिप्टी सीएम!

राज्य के करीब आधा दर्जन सांसद प्रदेश के चुनावी नतीजे आने के बाद पल—पल का की गतिविधियों पर निरंतर नजर रखकर फीडबैक भी पहुंचा रहे हैं। एक केन्द्रीय नेता ने कहा कि संभव है, इस बार राजस्थान में मुख्यमंत्री के साथ दो उप मुख्यमंत्री भी बनाए जाएं।0 पहली बार प्रदेश में मुख्यमंत्री पद के लिए काफी नाम कतार में हैं।
इसलिए हो रहा शक्ति प्रदर्शन!

कुछ सांसदों का कहना है कि इस बार विधानसभा चुनाव की पहली सूची के 41 नाम सामने आते ही प्रदेश भाजपा में अंदरूनी घमासान शुरू हुआ। तब पहली बार ऐसा नजर आया कि भाजपा आलाकमान को अपनी रणनीति से पीछे हटना पडा। शक्ति प्रदर्शन करने वाला खेमा इसी उम्मीद में इस बार भी टैरर पॉलिटिक्स की रणनीति अपना रहा है। इसके जरिये यह संदेश देने की कोशिश की जा रही है कि विधायकों की मंशा उनके साथ है।

ट्रेंडिंग वीडियो