कर्नाटक में वोट लेते ही मोदी सरकार ने दिया जनता को झटका

कर्नाटक चुनाव को देखते हुए 24 अप्रेल के बाद से डीजल और पेट्रोल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं आया था...

By: dinesh

Published: 15 May 2018, 10:14 AM IST

जयपुर। आखिरकार वही हुआ जिसकी आशंका जताई जा रही थी, कर्नाटक चुनाव के लिए मतदान खत्म होने के दूसरे ही दिन 14 मई को पेट्रोल और डीजल के भाव बढ़ गए हैं। जयपुर में पेट्रोल 19 पैसे और डीजल 23 पैसे महंगा हो गया है। 14 मई को जयपुर में पेट्रोल के भाव 77 रुपए 51 पैसे प्रति लीटर और डीजल 70 रुपए 48 पैसे प्रति लीटर हो गए। 13 मई तक 20 दिन से पेट्रोल के दाम 77 रुपए 32 पैसे प्रति लीटर और डीजल के भाव 70 रुपए 25 पैसे प्रति लीटर के हिसाब से स्थिर बने हुए थे। कर्नाटक चुनाव को देखते हुए 24 अप्रेल के बाद से डीजल और पेट्रोल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं आया था। जबकि इस दौरान अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में तेजी आई थी। अब जयपुर में पेट्रोल की कीमत 77.51 से बढकऱ 77.66 रुपए प्रति लीटर और डीजल 70.48 रुपए से बढकऱ 70.71 रुपए प्रति लीटर हो गया। डीजल पहली बार 70 रुपए के पार पहुंचा है।

 

पेट्रोलियम कंपनियों में सरकार का दखल
गौरतलब है कि केन्द्र सरकार ने 16 जून 2017 को पेट्रोलियम कंपनियों को अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड की कीमतों के आधार पर प्रतिदिन पेट्रोल-डीजल के भाव तय करने का अधिकार दिया था। कर्नाटक चुनाव को देखते हुए केन्द्र सरकार के इशारे पर पेट्रोलियम कंपनियों ने 24 अप्रेल के बाद कीमतों में बदलाव करना बंद कर दिया था। इसके बाद आज 14 मई को पेट्रोल-डीजल के भाव बढ़ाए गए हैं।

 

बढ़ रही हैं क्रूड की कीमतें
बीते 20 दिन में अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल की कीमतें चार फीसदी तक बढ़ गई। 24 अप्रेल को डब्ल्यूटीआई कैटेगरी क्रूड 68.93 डॉलर प्रति बैरल और ब्रेंट कैटेगरी क्रूड 74.95 डॉलर प्रति बैरल कीमत थी। 14 मई को डब्ल्यूटीआई कैटेगरी क्रूड के दाम बढ़कर 70.49 डॉलर और ब्रेट कैटेगरी के 76.77 डॉलर हो गए। 24 अप्रेल को भारत में कच्चे तेल के दाम 4,565 रुपए प्रति बैरल थे, जो 14 मई को बढ़कर 4,793 हो गए।

 

पिछले दस दिनों में जयपुर में पेट्रोल के दाम...

 

 

Petrol Price

 

...और यह हुआ पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों का असर
थोक महंगाई दर चार माह की उच्चतम
महंगे ईंधन के कारण अप्रैल महीने में थोक महंगाई दर 2.47 फीसदी से बढकऱ 3.18 फीसदी पर आ गई है। केंद्रीय सांख्यिकी विभाग की तरफ से जारी डेटा के अनुसार इसके 2.92 फीसदी रहने का अनुमान लगाया गया था। पिछले साल यह दर 3.85 फीसदी थी। गौरतलब है कि मार्च में डब्ल्यूपीआइ इंडेक्स 2.47 फीसदी पर रहा था।अप्रैल महीने में सब्जियों से जुड़ी महंगाई दर (-) 2.7 से बढक़र (-) 0.89 फीसदी पर आ गई।

 

थोक महंगाई का आधार वर्ष बदलने की तैयारी
सरकार ने एक बार फिर थोक मूल्यों पर आधारित महंगाई की दर (डब्ल्यूूपीआइ) का आधार वर्ष बदलने की तैयारी शुरू कर दी है। सरकार अब 2017-18 को आधार वर्ष बनाने जा रही है। सरकार का मानना है कि इससे वास्तविक तस्वीर सामने आएगी। वाणिज्य व उद्योग मंत्रालय ने काम शुरू कर दिया है। डब्लूपीआइ में भी संशोधन किया जा रहा है। इसमें कुछ नए उत्पाद शामिल होने की संभावना है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned