scriptWho will be the CM in Rajasthan, these leaders will announce | राजस्थान में कौन होगा सीएम, ये नेता करेंगे घोषणा | Patrika News

राजस्थान में कौन होगा सीएम, ये नेता करेंगे घोषणा

locationजयपुरPublished: Dec 09, 2023 12:14:45 pm

  • राजनाथ सिंह आएंगे जयपुर, विधायकों से करेंगे रायशुमारी
  • गुटबाजी के मद्देनजर आलाकमान ने वरिष्ठ मंत्री को सौंपा टास्क
  • राजनाथ सिंह की टीम में विनोद तावड़े और सरोज पांडेय भी शामिल

राजस्थान में कौन होगा सीएम, ये नेता करेंगे घोषणा
राजस्थान में कौन होगा सीएम, ये नेता करेंगे घोषणा
विधानसभा चुनाव परिणाम घोषित होने के पांच दिन बाद आखिरकार भाजपा ने विधायक दल की बैठक बुलाने और मुख्यमंत्री चयन करने के लिए केन्द्रीय पर्यवेक्षक नियुक्त कर दिए। भाजपा ने राजस्थान में केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, राज्यसभा सदस्य सरोज पांडेय और राष्ट्रीय महामंत्री विनोद तावड़े को पर्यवेक्षक नियुक्त किया है।
राजस्थान में गुटबाजी के मद्देनजर पार्टी ने सबसे वरिष्ठ मंत्री राजनाथ सिंह को जिम्मा सौंपा है। घोषणा के तुरन्त बाद राजनाथ सिंह ने दिल्ली में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा से मुलाकात की। इसके बाद प्रदेश अध्यक्ष सी पी जोशी भी राष्ट्रीय अध्यक्ष से मिले। शुक्रवार देर शाम जोशी दिल्ली से जयपुर आ गए। उधर, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे शुक्रवार रात तक दिल्ली में ही डटी रहीं। चर्चा थी कि उनकी केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात हो सकती है, लेकिन देर रात इस मुलाकात का इंतजार ही बना रहा।
न आए कोई अवरोध....इसलिए चुना राजनाथ को ?
पार्टी में यूं तो पर्यवेक्षक नियुक्त करना सामान्य प्रक्रिया है, लेकिन राजनाथ को राजस्थान देने के अपने मायने हैं। राजस्थान में पार्टी के लिए मुख्यमंत्री चयन प्रक्रिया सबसे टेढ़ी खीर बना हुआ है। राजनाथ सिंह को राजनीति का लम्बा अनुभव है और दो बार पार्टी के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। ऐसा माना जा रहा है कि इतने वरिष्ठ नेता को इसलिए कमान दी गई है, जिससे यहां किसी तरह का गतिरोध होगा तो वे उसे संभालने में कामयाब रहेंगे। विनोद तावड़े महाराष्ट्र से हैं और पिछले कुछ समय से पार्टी की बैठकों के चलते राजस्थान आते रहे हैं। सरोज पांडेय महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष और पार्टी की महासचिव भी रह चुकी हैं। पांडेय मूल रूप से छत्तीसगढ़ की रहने वाली हैं।
विधायक दल की बैठक नाम पर ली जाएगी राय
सूत्रों के अनुसार किसी तरह का कोई गतिरोध नहीं रहा तो राजनाथ सिंह विधायक दल की बैठक में विधायकों से रायशुमारी करेंगे। विधायकों की राय से आलाकमान को अवगत करवाएंगे और फिर मुख्यमंत्री के चेहरे की घोषणा कर देंगे। विधायकों की बैठक रविवार दोपहर बाद या फिर सोमवार सुबह हो सकती है।
जयपुर से लेकर दिल्ली तक दबाव की राजनीति

भाजपा में जयपुर से लेकर दिल्ली तक प्रेशर पॉलिटिक्स कायम है। राजस्थान के सांसदों की भी राज्य में पुराना नेतृत्व दोहराने के खिलाफ गोलबंदी कायम है। उन्होंने प्रेशर पॉलिटिक्स को लेकर केन्द्रीय नेतृत्व से शिकायत की है। उनका आरोप है कि पार्टी के कुछ विधायकों पर नेतृत्व स्वीकारने का दबाव बनाया जा रहा है। उन्होंने तर्क दिया कि इन आरोपों पर अब तक कोई सफाई नहीं दी गई है, अर्थात इसमें सत्यता है।
चेहरा घोषित नहीं होने से बढ़े सीएम के दावेदार
आगामी लोकसभा चुनावों को देखते हुए और मौजूद हालात में भाजपा शीर्ष नेतृत्व के लिए तीनों राज्यों में सबसे कठिन राजस्थान का निर्णय बन गया है। इसलिए तीन राज्यों के पर्यवेक्षकों की नियु क्ति में राजस्थान की कमान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को सौंपी गई है। सीएम के लिए किसी को चेहरा घो?षित नहीं किया गया था। इसलिए मुख्यमंत्री फेस की रेस में पहली बार करीब 8 से 10 बड़े नेताओं के नामों की चर्चा है। कुछ सांसदों का कहना है कि इतने नाम होने के कारण भी नाम घो षित होने में देरी का बड़ा कारण है।

ट्रेंडिंग वीडियो